उत्तर कोलकाता की तुलना में दक्षिण कोलकाता में डेंगू अधिक

बीते सात दिनों में डेंगू के 467 मामले आए सामने
वार्ड 106 में सबसे ज्यादा डेंगू के मामले
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : उत्तर कोलकाता की तुलना में दक्षिण कोलकाता डेंगू से सबसे ज्यादा प्रभावित है। कोलकाता नगर निगम के 144 वार्डों में से दो वार्ड, 101 और 106 में डेंगू का प्रकोप सबसे ज्यादा है। वार्ड 106 के गरफा थाना इलाके में दो लोगों की डेंगू से मौत हो चुकी है। नगर निगम सूत्रों के अनुसार वार्ड का कायस्थपाड़ा और पूर्वाचल इलाके में लोग डेंगू से ज्यादा प्रभावित हुए हैं। केवल वार्ड नंबर 106 में अब तक 73 डेंगू के मामले सामने आए हैं। नगर निगम के आंकड़ों के अनुसार अगस्त महीने में वार्ड 106 में 229 लोग डेंगू से संक्रमित हुए थे। सितंबर महीने में डेंगू के मामलों की संख्या 212 है। दूसरी तरफ वार्ड 101 में पिछले डेढ़ माहीने में 173 लोग डेंगू से संक्रमित हुए हैं। वार्ड 101 के न्यू फूलबागान, फूलबागान, पूर्व फूलबागान, रवींद्रपल्ली इलाके में डेंगू के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार बोरो संख्या 10 के वार्ड नंबर 81, 93, 94, 99 और 100 में डेंगू की दर अदिक है। जबकी बोरो 12 के 101, 105, 106, 107 और 109 में डेंगू की स्थिति चिंताजनक है। वहीं वार्ड नंबर 81 के मंडल टेंपल रोड, दुर्गापुर कॉलोनी, टॉलीगंज रोड, चेतला रोड और न्यू अलीपुर के विभिन्न इलाकों में डेंगू के मामले सामने आए है। वहीं बोरो 13 के वार्ड 115, 117 और 119 में डेंगू का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। कुछ दिन पहले वार्ड 113 के न्यू गवर्नमेंट कॉलोनी में एक व्यक्ति की डेंगू से मौत हो गई थी। पिछले एक हफ्ते में उस वार्ड में 26 लोग संक्रमित हुए हैं। इसी दौरान वार्ड 112 और 114 में 45 और 31 लोग डेंगू से प्रभावित हुए है। कोलकाता नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग के एक अदिकारी ने बताया कि निगम के कर्मचारी प्रतिदिन इलाके का दौरा कर लोगों को जागरूक कर रहे हैं। नियमित रूप से कूड़े की सफाई व माइकिंग अभियान चलाया जा रहा है। वहीं बुखार होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में रक्त जांच कराने का अनुरोध किया जा रहा है। लेकिन उत्तर कोलकाता की तुलना में दक्षिण कोलकाता में डेंगू के मामले ज्यादा पाए जाने का कारण क्या है ? नगर निगम के एक अधिकारी के अनुसार उत्तर कोलकाता की तुलना में दक्षिण कोलकाता में खाली जमीन और मैदानी अंचल अधिक है। ऐसे में मच्छरों के प्रजनन में ये स्थिति काफी प्रभावि होती है। हालांकि, नगर निगम को उम्मीद है कि जिस तरह से शहरीकरण बढ़ रहा है, दक्षिण कोलकाता की यह छवि तेजी से बदलेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टेट 2014 : 824 की अवैध नियुक्ति, हाई कोर्ट में रिट

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : हाई कोर्ट में दायर एक रिट में आरोप लगाया गया है कि 2014 के टेट में अवैध नियुक्तियां दी गई हैं। इसकी आगे पढ़ें »

हथियारों की तस्करी के आराेप में दो अभियुक्त गिरफ्तार

दक्षिण 24 परगना : बारुईपुर थानांतर्गत बेगमपुर दूसो कॉलोनी इलाके में सोमवार की रात हथियारों की तस्करी के आरोप में पुलिस ने दो अ‌भियुक्तों को आगे पढ़ें »

ऊपर