छत्रधर महतो को हाई कोर्ट से मिली राहत 24 तक

एनआईए ने दायर की थी जमानत खारिज करने की रिट
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस टी बी राधाकृष्णन और जस्टिस अरिजीत बनर्जी के डिविजन बेंच के आदेश से टीएमसी के नेता छत्रधर महतो को राहत मिली है। अलबत्ता डिविजन बेंच ने अपने आदेश में कहा है कि अगर छत्रधर महतो राज्य से बाहर जाना चाहेंगे तो उन्हें इसके लिए एनआईए की अदालत से अनुमति लेनी पड़ेगी। यह राहत 24 मार्च तक के लिए है और उसी दिन इस मामले की फिर सुनवायी होगी।
यहां गौरतलब है कि एनआईए की तरफ से चीफ जस्टिस के डिविजन बेंच में एक रिट दायर की गई है। इसमें कहा गया है कि एनआईए कोर्ट के जज के समक्ष एक याचिका दायर करके छत्रधर महतो सहित पांच अभियुक्तों की जमानत रद्द करके उन्हें हिरासत में देने की अपील की गई थी। इस बाबत जज ने आदेश दिया कि इसके लिए एनआईए को झारग्राम के सीएमएम की अदालत में अपील करनी पड़ेगी क्योंकि इन अभियुक्तों को उसी अदालत से जमानत मिली थी। इसके खिलाफ एनआईए की तरफ से चीफ जस्टिस के डिविजन बेंच में रिट दायर की गई है। चीफ जस्टिस ने इस मामले से जुड़े सारे रिकार्ड को तलब कर लिया है। दरअसल जस्टिस बनर्जी के नहीं रहने के कारण इस मामले की सुनवायी 24 तक के लिए टल गई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पीएम ने मालबाजार हादसे पर जताया दुःख

कोलकाता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने माल में हुए हादसे को लेकर ट्वीट करते हुए दुःख जाहिर किया।उन्होंने ट्वीट किया कि पश्चिम बंगाल के जलपाईगड़ी में आगे पढ़ें »

पार्थ ने नहीं की जमानत की अपील, सुबिरेश के साथ शांतिप्रसाद फिर भेजे गये जेल

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बुधवार को विजया दशमी की दोपहर एसएससी मामले में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी की सुनवाई विशेष अदालत में हुई। सुनवाई में आगामी 19 आगे पढ़ें »

ऊपर