अंतिम चरण के मतदान के पहले अणुव्रत मंडल पर सीबीआई का शिकंजा

आज मवेशी तस्करी मामले में पूछताछ के लिए बुलाया
आयकर भी बेनामी संपत्ति के मामले में कर चुकी है तलब
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : अंतिम चरण के मतदान के पहले तृणमूल नेता अणुव्रम मंडल पर सीबीआई ने शिकंजा कसा है। उन्हें मवेशी तस्करी मामले में आज मंगलवार को निजाम पैलेस स्थित सीबीआई कार्यालय में पूछताछ के लिए बुलाया गया है। सीबीआई के मुताबिक अब तक की छानबीन में कई लोगों ने पूछताछ में उनका नाम लिया है। आरोप है कि उन्होंने इस कार्य में तस्करी के मास्टर माइंड इनामुल हक की मदद भी की थी। इसी बारे में उनसे पूछताछ होनी है। वहीं दूसरी ओर वे बीरभूम जिले के तृणमूल जिलाध्यक्ष हैं। वहां 29 अप्रैल यानी कि गुरुवार को चुनाव होना है। इससे पहले ही सीबीआई ने उन्हें तलब किया है। उल्लेखनीय है कि उन्हें आयकर विभाग की ओर से भी तलब किया गया है। आरोप है कि उन्होंने अपने रिश्तेदारों व जान पहचान वालों के नाम पर कम से कम 70 से 80 संपत्तियां खरीद कर रखी हैं। ये संपत्तियां बीरभूम, पुरुलिया व आसनसोल सहित कई इलाकों में हैं। इसी बारे में आयकर की टीम भी उन्हें नोटिस देकर पूछताछ के लिए बुलायी है। इस बारे में तृणमूल की ओर कहा गया है कि चुनाव के पहले हमें मानसिक रूप से परेशान करने के लिए ताकि हम चुनाव में पूरी तरह से फोकस नहीं कर पाये, केन्द्र्र सरकार ने यह रणनीति अपनायी है। इसी के तहत केन्द्रीय एजेंसियां अधिकतर तृणमूल के नेताओं को पूछताछ के लिए तलब कर रही है। वहीं केन्द्रीय एजेंसियों की ओर से कहा गया है कि ये सारे आरोप निराधार है। जिनके भी खिलाफ सबूत हमें मिल रहे हैं, हम सभी के खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि अणुव्रत मंडल तृणमूल के एक धाकड़ नेता हैं तथा अक्सर अपने विवादित बयानों के लिए अपने विरोधियों के कटाक्ष का सामना करते हैं। हर चुनाव के पहले हत्या को लेकर दिये गये विवादित बयान पर विरोधियों ने उन्हें खूब खरी-कोटी सुनाई थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आज भाजपा का प्रतिनिधि दल जायेगा मालबाजार

कोलकाता : आज यानी शुक्रवार को मालबाजार हादसे के बाद घटनास्थल पर भाजपा का प्रतिनिधि दल जायेगा। इस प्रतिनिधि दल में विधायक दीपक बर्मन के आगे पढ़ें »

सोई हुई किस्मत को भी चमका देता है ‘केसर का टोटका’, पति-पत्नी का भी संबंध रहता मजबूत

कोलकाता : इंसान के कर्म कई बार ऐसे होते हैं जिसके उसकी किस्मत भी साथ देना छोड़ देती है। इस कारण से मन मुताबिक फल आगे पढ़ें »

ऊपर