कोलकाता में जाति भेद : नीची जाति का कहकर नहीं पीने दिया पानी

कोलकाता : कर्नाटक के अब बाद कोलकाता में जाति वर्ण भेदभाव की घटना सामने आई है। कोलकाता का वाकया भी कर्नाटक जैसा ही है। सूत्रों के मुताबिक कोलकाता के बीटी रोड स्थित रवीन्द्रभारती विश्वविद्यालय परिसर में एक आदिवासी दंपती कर्मचारी को नीची जाति का कहकर उन्हें दूसरा कर्मचारियों ने मारा पीटा। यहां तक कि उन्हें परिसर में लगे नल से पानी तक पीने नहीं दिया गया। विश्वविद्यालय प्रबंधन को घटना की खबर लगते ही तुरंत कार्रवाई की गई। मामले में विवि के कुल सात कर्मचारियों पर कार्रवाई की गई है। उनमें से एक को निलंबित जबकि छह को बर्खास्त कर दिया गया है। दंपत्ति ने इसके खिलाफ महानगर के सिंथी थाने में शिकायत दर्ज कराई है।

पीने नहीं दिया गया पानी
विश्वविद्यालय के कर्मचारी मानिक हेम्ब्रम व उनकी पत्नी शकुंतला हेम्ब्रम के साथ घटी। हेम्ब्रम दंपत्ति ने आरोप लगाया है कि उनके सहकर्मियों ने उन्हें नीची जाति कहकर अपमान किया। यही नहीं उन्हें परिसर में लगे नल का पानी तक पीने नहीं दिया गया। दंपत्ति को बुरी तरह मारा-पीटा भी गया। मानिक हेम्ब्रम ने कहा कि पिटाई के दौरान सहकर्मियों ने उनका मोबाइल फोन छीन लिया गया। विवि के कुलपति सब्यसाची बसु रायचौधरी ने कहा, ‘जानकारी मिलते ही कार्रवाई की गई है। विवि परिसर में इस तरह की घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।’ विवि सूत्रों से ने बताया कि आरोपियों ने इससे पहले कुछ कर्मचारियों को पीटा है। प्रबंधन ने मामले में कार्रवाई करते हुए एक स्थायी कर्मचारी को निलंबित व ठेका आधार पर काम करने वाले छह कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया। बता दें कि कुछ ऐसा ही हुआ था कर्नाटक के एक गांव में। यहां उच्च जाति के लोगों की टंकी से एक दलित महिला ने पानी पी लिया। इसके बाद पानी की टंकी से सारा पानी बहा दिया गया और फिर बाद में टंकी को गौमूत्र से ‘शुद्ध’ किया गया।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राज्य में अब तक रेरा लागू नहीं होने के कारण खरीदारों की बढ़ी मुश्किलें

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पश्चिम बंगाल में अब तक रेरा एक्ट लागू नहीं किये जाने को लेकर घर खरीदारों की मुश्किलें बढ़ गयी हैं। इधर, घर आगे पढ़ें »

तृणमूल नेताओं ने विरोधी दल नेता पर साधा निशाना, कहा-सारे चोरों के नाम शुभेंदु को ही पता है

बैरकपुर में भाजपा के मिथ्या प्रचार के विरुद्ध तृणमूल ने की प्रतिवाद सभा पार्टी सुप्रिमा व सचिव तय करेंगे पंचायत चुनाव को लेकर गाइड लाइन बैरकपुर : आगे पढ़ें »

ऊपर