इस दिवाली बंगाल में हुआ बंपर व्यापार, 2000 करोड़ के बिजनेस की उम्मीद

धनतेरस के 2 दिन देश भर में 45,000 करोड़ का हुआ व्यापार
2019 की तुलना में 25-30% की हुई वृद्धि
विभिन्न कैटेगरी में इस प्रकार हुई बढ़त (वर्ष 2019 की तुुलना में)
इलेक्ट्रॉ​निक्स : 15%, ज्वेलरी : 20%, बर्तन (अप्लाएंसेस समेत) : 30%, वाहन (2 पहिया समेत) : 10-15%, गार्मेंट्स : 35-40%
मधु सिंह
कोलकाता : कोविड काल के 2 वर्षों के बाद इस दिवाली पश्चिम बंगाल में बंपर व्यापार हुआ। यह फेस्टिव सीजन व्यापारियों के लिए काफी अच्छा रहा और लोगों ने जमकर दुर्गा पूजा के बाद दिवाली की शॉपिंग की। पश्चिम बंगाल में दिवाली पर 2,000 करोड़ के बिजनेस की उम्मीद जतायी जा रही है। वहीं धनतेरस के 2 दिन ही देश भर में लगभग 45,000 करोड़ का व्यापार इस बार हुआ।
वोकल फॉर लोकल की मांग रही अधिक
कैट के नेशनल वाइस चेयरमैन सुभाष अग्रवाला ने सन्मार्ग से कहा कि 2 साल के कोविड की मार सहन करने के बाद बंगाल का व्यापारी इस साल बहुत खुश है। इस व्यापार की खासियत है कि हमारे देश का माल, हमारे लोगों के द्वारा बनाये गये माल की खपत बहुत ज्यादा रही। ग्रामीण इलाके में भी पैसा आ जाने से वहां पर भी माल की अच्छी मांग रही। दुर्गा पूजा से शुरू हुई ग्राहकों की मांग, दिवाली फिर शादी ब्याह के कारण होली तक एक समान चलती है। कोलकाता एक बड़ा मारवाड़ी बाजार होने की वजह से पूरे देश से मांग काफी आ रही है। इसका फायदा छोटे-छोटे कारीगरों को भी मिला। उन्होंने कहा कि माल की मांग ग्रामीण स्तर से उठ रही है। कुल मिलाकर इस साल की दिवाली एक सुनहरी दिवाली है।
ऑटोमोबाइल व इलेक्ट्रॉनिक्स की मांग रही अच्छी
बताया गया कि लगभग 20 हजार करोड़ का व्यापार ऑटोमोबाइल, कम्प्यूटर एवं कंप्यूटर से संबंधित सामान, फर्नीचर, घर एवं कार्यालयों की साज-सज्जा के लिए जरूरी सामान, मिठाई एवं नमकीन, किचन का सामान, सभी प्रकार के बर्तन, इलेक्ट्रॉनिक्स व मोबाइल वस्तुओं में हुआ। केवल धनतेरस के दो दिनों में देश में ऑटोमोबाइल सेक्टर में लगभग 6 हजार करोड़, फर्नीचर में लगभग 1500 करोड़, कंप्यूटर एवं कंप्यूटर से संबंधित सामानों में लगभग 2500 करोड़, एफएमसीजी में लगभग 3 हजार करोड़, इलेक्ट्रॉनिक्स सामान में लगभग 1 हजार करोड़, स्टेनलेस स्टील, एल्युमीनियम एवं पीतल के बर्तनों में लगभग 500 करोड़, किचन के उपकरण एवं किचन के अन्य सामन में लगभग 700 करोड़, टेक्सटाइल, रेडीमेड गारमेंट एवं फैशन के कपडे में लगभग 1500 करोड़ का व्यापार हुआ है जबकि दिवाली पूजा का सामान, घर एवं ऑफिस की साज सज्जा, बिजली एवं बिजली के उपकरण, स्टेशनरी, बिल्डर हार्डवेयर, लकड़ी एवं प्लाईवुड आदि में भी काफी बड़ा व्यापार हुआ है।
दिवाली संबंधित सभी सामानों की खूब हुई बिक्री
कनफेडरेशन ऑफ वेस्ट बंगाल ट्रेड एसाेसिएशन (सीडब्ल्यूबीटीए) के प्रेसिडेंट सुशील पोद्दार ने कहा, ‘वर्ष 2019 यानी कोविड काल से पहले की तुलना में 25-30% की बढ़ोतरी इस बार हुई। विभिन्न प्रकार के आइटम जैसे कि जूता, चप्पल, कपड़े, मिठाई, गिफ्ट, ड्राई फ्रूट्स से लेकर सोना, चांदी जैसे सामानों की खूब बिक्री हुई। गत 2 वर्षों तक कोविड के कारण लोग खर्च नहीं कर पाये थे, लेकिन इस बार उन्होंने जमकर खरीदारी की। दुर्गा पूजा में भी काफी अच्छा व्यापार हुआ था और इसी तरह दिवाली में भी बिजनेस बूम पर रहा। ऑटोमोबाइल की बात करें तो गाड़ियों की बुकिंग इतनी अधिक थी कि तय समय तक कई गाड़ियों की डिलीवरी भी नहीं हो सकी। दिवाली के​ दिन तक खरीदारी हुई और कई दुकानों में स्टॉक तक खत्म हो गया था।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

isro mission

कृष्णानगर के नवारुण को मिला इसरो से बुलावा

कृष्णानगर : कहते हैं कि जहां चाह है वहां राह है, इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है कि नदिया के कृष्णानगर के चांदसड़क इलाके आगे पढ़ें »

राजनीति में सौजन्यता जरूरी है : दिलीप घोष

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी व विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी की मुलाकात ने राज्य का रा​जनीतिक पारा चढ़ा दिया है। अब आगे पढ़ें »

ऊपर