दूसरे राज्यों से आने वाले धूलकणों को रोकने के लिए सीमाई इलाकों में लगेंगे बड़े पेड़

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : उत्तरी भारत से आने वाली सर्द हवाओं के साथ ही पश्चिम राज्यों से पश्चिम बंगाल में प्रवेश करने वाले धूलकणों के कारण राज्य में ठण्ड के मौसम में प्रदूषण बढ़ जाता है। इस पर काबू करने के लिए वन विभाग के साथ मिलकर योजना तैयार की जा रही है। इस बारे में राज्य के पर्यावरण मंत्री डॉ. मानस रंजन भुइयां ने कहा कि वन विभाग के साथ मिलकर चर्चा की जा रही है कि ठण्ड के मौसम में पश्चिमी राज्याें से जो धूल कण पश्चिम बंगाल में प्रवेश करते हैं, वे स्थायी हो जाते हैं। वहीं उत्तरी भारत से हवा के कारण भी इन धूलकणों का घनत्व बढ़ जाता है जिससे जाड़े में राज्य में प्रदूषण अधिक होता है। ऐसे में वन विभाग से बात कर राज्य के सीमाई इलाकों में पौधारोपण अभियान चलाया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्लांटेशन ग्रीनरी​ वॉल बनाया जायेगा जिसके तहत लंबे-लंबे पेड़ बनाये जायेंगे। ऐसे पेड़ लगाये जायेंगे जिनकी शाखा व प्रशाखा बड़ी हो ताकि ठण्ड में प्रदूषण स्तर को कम किया जा सके। मंत्री ने कहा कि बिहार, झारखण्ड, ओडिशा की सीमाओं के साथ ही उत्तरी भारत की सीमा पर पेड़ लगाये जायेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Radha Ashtami 2023: राधा अष्टमी पर अगर पहली बार रखने जा …

कोलकाता : हिंदू धर्म में भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की अष्टमी की तिथि को बहुत ज्यादा धार्मिक महत्व माना गया है क्योंकि इस दिन भगवान आगे पढ़ें »

Gandhi Jayanti 2023: भारतीय नोटों पर पहली बार कब छपी गांधी जी की तस्वीर, और इसे …

कोलकाता : 02 अक्टूबर 1869 में देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म हुआ था। इस खुशी में पूरा देश इस दिन को गांधी जयंती आगे पढ़ें »

ऊपर