शिक्षा मंत्री से मिला आश्वासन मगर नियुक्तियां कब ?

ब्रात्य बसु ने कहा, ‘कितने शून्य पद, एसएससी को कहा बताने’
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु के साथ बैठक में नियुक्ति के संबंध में एसएससी के वंचित नौकरी प्रार्थी आश्वस्त हुए हैं। लगभग 6,000 पदों पर नियुक्ति की आशा में एसएससी नौकरीप्रार्थियों ने सोमवार को राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु से मुलाकात की। बैठक के बाद संवाददाताओं को संबोधित करते हुए ब्रात्य बसु ने कहा, ‘सबको नियुक्त करने के लिए नया पद तैयार करना होगा। कितने शून्य पदों की आवश्यकता है, यह एसएससी को बताने के लिए कहा है।’ हालांकि इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘शून्य पदों के सृजन के लिए वित्त विभाग की अनुमति आवश्यक है, मंत्रीसभा की अनुमति भी लगेगी। सबसे ऊपर इसके लिए मुख्यमंत्री की अनुमति भी चाहिये।’ इस कारण प्रशासनिक तत्परता शुरू होने पर भी वंचित नौकरी प्रार्थियों की नियुक्ति पत्र हाथ में पाने में काफी समय लगेगा।
वर्ष 2016 में नौवीं से 12वीं श्रेणी के शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया से वंचित नौकरीप्रार्थियों के नामों की सूची स्कूल सर्विस कमीशन (एसएससी) को बनानी होगी। इसके बाद कई विभागों की अनुमति लेकर शून्य पद तैयार किये जा सकेंगे। पूरी प्रक्रिया के बाद ही नियुक्ति पत्र मिलने की संभावना है। गत सप्ताह ब्रात्य बसु ने कहा था कि काफी जल्दबाजी में 21 हजार पदों पर नियुक्ति करनी होगी। पूजा से पहले इसकी प्रक्रिया चालू की जायेगी। 21 हजार पदों में अपर प्राइमरी, नौवीं, दसवीं, 11वीं, 12वीं के प्रधान शिक्षक व नये शिक्षक शामिल रहेंगे। इधर, नियुक्ति की मांग पर विभिन्न स्थानों पर 2016 की एसएससी मेधा तालिका में शामिल प्रार्थी धरना दे रहे हैं। हाल में एसएससी दुर्नीति सामने आने के बाद, मुख्य रूप से पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद से राज्य सरकार नौकरी प्रार्थियों के प्रति सतर्क हुई। हाल में कैमेक स्ट्रीट में अभिषेक बनर्जी ने भी नौकरी प्रार्थियों से मुलाकात की थी जिसमें कहा गया था कि 8 अगस्त को नौकरी प्रार्थी ब्रात्य बसु के साथ बैठक करेंगे जिसके तहत सोमवार को बैठक हुई। बैठक के बाद नौकरी प्रार्थी शहीदुल्ला ने संवाददाताओं से कहा, ‘सकारात्मक चर्चा हुई है। शिक्षा मंत्री ने बताया है कि मेधा तालिका में शामिल कम या अधिक 6 हजार नौकरी प्रार्थियों की नियुक्ति की जायेगी। 9वीं से 10वीं श्रेणी तक नियुक्ति की जायेगी।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

दुर्गापूजा को यूनेस्को से मान्यता दिलाने में केंद्र सरकार की भूमिका : मीनाक्षी लेखी

राज्य छीन रहा है श्रेय सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : दुर्गापूजा को यूनेस्को से अमूर्त सांस्कृतिक विरासत का दर्जा मिलने के बाद पूरे राज्य में उत्साह का माहौल आगे पढ़ें »

डेंगू से सावधान रहने के लिए पूजा समितियां भी करें प्रचार

कोलकाता : कोलकाता नगर निगम के मेयर फिरहाद हकीम ने महानगर में डेंगू की स्थिति को चिंताजनक बताते हुए कहा कि कोलकाता नगर निगम और आगे पढ़ें »

ऊपर