केंद्रीय मंत्री जॉन बारला के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

सन्मार्ग संवाददाता
अलीपुरद्वार : केंद्रीय गृह राज्य मंत्री निशीथ प्रमाणिक के बाद अब केंद्रीय राज्य अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री जॉन बारला के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है। तूफानगंज महकमा अदालत ने शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री व अलीपुरद्वार लोकसभा केंद्र के सांसद जॉन बारला के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया। वर्ष 2019 में लोकसभा चुनाव के दौरान चुनावी निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर सांसद जॉन बारला व पार्टी के कार्यकर्ताओं ने तूफानगंज बीडीओ कार्यालय परिसर में चुनावी पथ सभा का आयोजन किया था। इसके खिलाफ चुनाव आयोग के निर्देश पर बशीरहाट थाना में ‌जॉन बारला के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। इस मामले में जॉन बारला समेत कुल 4 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज की गयी थी, लेकिन 3 लोगों को रियायत मिल गयी। गत 15 नवंबर यानी मंगलवार को जॉन बारला को अदालत ने समन भेजा था। इसके बावजूद कोर्ट में मंत्री व उनके अधिवक्ता के पेश नहीं होने पर तूफानगंज महकमा दायरा अदालत ने जॉन बारला के ‌खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी कर दिया। इस घटना से राजनीतिक गलियारे में हलचल मच गयी है। इधर, तूफानगंज महकमा अदालत के एपीपी संजय बर्मन ने कहा कि गत 4 अप्रैल 2019 को चुनावी आचार संहिता का उल्लघंन कर जॉन बारला के नेतृत्व में बाइक रैली निकाली गयी थी। उस समय वह ‌अलीपुरद्वार लोकसभा केंद्र में प्रत्याशी के तौर पर खड़े हुए थे। इस कारण उनके खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। गत 15 तारीख को समन के अनुसार कोर्ट में पेश नहीं होने के कारण उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है। यहां उल्लेखनीय है कि इससे पहले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री निशीथ प्रमाणिक के खिलाफ अलीपुरद्वार डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने अरेस्ट वारंट जारी किया था। वर्ष 2009 में अलीपुरद्वार में दो स्वर्ण आभूषण की दुकानों में चोरी के मामले में आरोपियों की सूची में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री निशीथ प्रमाणिक का भी नाम शामिल है। उनके अलावा इस चोरी के मामले में और लोगों के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्ज हो चुके हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएए लागू होने से कोई नहीं रोक सकता : शुभेंदु

कहा, साबित करें ​कि मैंने सीएम के पैर छूए सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा में सौजन्यता की राजनीति को भूलते हुए शनिवार को विपक्ष के नेता शुभेंदु आगे पढ़ें »

हाई कोर्ट ने खड़े किए हाथ, कहा : सुप्रीम कोर्ट जाएं

हीरा की रद्दगी और रेरा की बहाली से जुड़ा एक उलझा हुआ सवाल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल चार मई को पश्चिम बंगाल आगे पढ़ें »

ऊपर