कोविड काल के बाद ड्रंक ड्राइविंग के खिलाफ 200 गुना कार्रवाई बढ़ी

कोलकाता ट्रैफिक पुलिस की ओर से की गयी कार्रवाई
एक नजर बीते 4 साल में ड्रंकन ड्राइविंग के आंकड़ों पर :
वर्ष मामला मौत
2019 8571 267
2020 2005 201
2021 2513 196
2022 26414 185
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर में की सड़कों को वाहन ड्राइवरों और राहग‌िरों के लिए सुरक्षित बनाने के लिए कोलकाता पुलिस लगातार प्रयासरत है। खासतौर पर रात के वक्त नशे में वाहन चलाने वाले लोगों पर कार्रवाई करने के लिए आए दिन कोलकाता पुलिस की ओर से विशेष अभियान चलाया जाता है। महानगर के महत्वपूर्ण क्रॉसिंग पर ट्रैफिक गार्ड के सार्जेंट और स्थानीय पुलिस स्टेशन के पुलिस अधिकारी संयुक्त रूप से नाका चेकिंग चलाते हैं। खासतौर पर पार्क स्ट्रीट, ईएम बाइपास, एमजी रोड, एक्साइड क्रॉसिंग जैसे इलाकों में नाका चेकिंग चलाया जाता है। इसके कारण पहले के मुकाबले में आए दिन ज्यादा संख्या में लोग नशे की हालत में वाहन चलाने के आरोप में पकड़े जाते हैं। पुलिस की ओर से इन लोगों पर कार्रवाई कीजाती है। पहले 185 एमवी एक्ट के तहत पकड़े जाने वाले लोगों को स्थानीय पुलिस स्टेशन में सौंपा जाता था। वहां पर वकील के जरिए लोगों को जमानत लेकर घर जाना पड़ता था. हालांकि कुछ दिनों पहले कोलकाता पुलिस कमिश्नर ने सभी थानों को निर्देश दिया था कि ड्रंकन ड्राइविंग के मामले में पकड़े जाने वाले लोगों थाना से निजी बॉंड पर रिहा किया जाए। जमानत के लिए वकील की जरूरत नहीं है। कोलकाता ट्रैफिक पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस की ओर से ड्रंकन ड्राइविंग के खिलाफ चलाए जाने वाले अभियान से महानगर की सड़क दुर्घटन की संख्या और उसमे उन्होंने वाली मौत की संख्या में काफी कमी आयी है। पुलिस की ओर से यह अभिन आगे भी जारी रहेगा। ट्रैफिक पुलिस के अनुसार कोविड कालके बाद से 185 एमवी एक्ट के तहत पुलिस की कार्रवाई में 208 गुना इजाफा हुआ है। आंकड़कों की बात करें तो वर्ष 2019 में ड्रंकन ड्राइविंग के 8571 मामला दर्ज किए गए थे। इस साल महानगर में कुल सड़क दुर्घटना में 267लोगों की मौत हो गयी थी। वर्ष 2020 में कोविड काल के कारण ड्रंकन ड्राइविंग के 2005 मामले दर्ज किए गए। इस साल महानगर में हुई सड़क दुर्घटनाओं में 201 लोगों की मौत हुई थी। वर्ष 2021के ड्रंकन ड्राइविंग के 2513 मामले दर्ज किए गए। इस साल सड़क दुर्घटना में 196 लोगों की मौत हुई थी। वर्ष 2022 में ड्रंकन ड्राइविंग के 26414 मामले दर्ज किए थे। वहीं सड़क दुर्घटनाओं में 185 लोगों की मौत हुई थी। कोलकाता ट्रैफिक पुलिस के अधिकारी ने बताया कि शहर की सड़क को सुरक्षित रखने के लिए पुलिस लगातार प्रयासरत है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

स्वान के 4 बच्चों को कुचलनेवाला ऐप कैब ड्राइवर गिरफ्तार

पोस्ता के काली कृष्ण टैगौर स्ट्रीट की घटना सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : चारों भाई-बहन एक साथ दिन भर खेलते रहते थे। गुरुवार की शाम चारों का सड़क आगे पढ़ें »

बैरकपुर फ्लाईओवर पर मांझा से कटी बाइक सवार की नाक

बैरकपुर : शुक्रवार की दोपहर बैरकपुर फ्लाईओवर पर बाइक से जा रहा अनुपम गांगुली मांझे के कारण एक हादसे का शिकार हो गया। अचानक ही आगे पढ़ें »

ऊपर