60 दिन – राज्यभर में व्यापक अभियान चलेगा दीदीर सुरक्षा कवच का

पूरे अभियान के लिए 320 नेताओं की टीम
3,343 क्षेत्रों का किया जायेगा दौरा
कैसे काम करेगा नया अभियान
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने सोमवार को कहा कि दीदीर सुरक्षा कवच कार्यक्रम से लोगों को लाभ होगा। जनहित योजनाओं को घर घर पहुंचाना ही इसका उद्देश्य है। इसके के तहत अंचल एक दिन/ नगर एक दिन 11 जनवरी से शुरू होगा और 28 जनवरी तक चलेगा। पूरी प्रक्रिया के लिये 320 नेताओं की टीम तैयार की गयी है।
320 नेता 3,343 क्षेत्रों का दौरा करेंगे : सांसद, विधायक, जिला परिषद सभाधिपति, जिला अध्यक्ष समेत कुल 320 नेता 3,343 क्षेत्रों का दौरा करेंगे। हर क्षेत्र में एक नेता जाएगा। प्रत्येक को कम से कम 10 दिनों तक इस कार्यक्रम का पालन करना चाहिए। कार्यक्रम की शुरुआत सांस्कृतिक कार्यक्रम से होगी। पार्टी नेतृत्व जनसंपर्क बैठक कर स्थानीय लोगों की शिकायतें सुनेगा। फिर नेता को क्षेत्र के किसी प्रमुख व्यक्ति से बात करनी होगी। उसके बाद दोपहर या रात का खाना खाने के बाद नेता किसी पार्टी कार्यकर्ता के घर रात गुजारेंगे। वहीं, जनप्रतिनिधि क्षेत्र के सरकारी संस्थानों का औचक निरीक्षण भी करेंगे।
कौन कब किस क्षेत्र में जाएगा, तय करेगी पार्टी
सरकारी संस्थानों का औचक निरीक्षण कब करना है, यह जनप्रतिनिधि तय करेंगे। हालांकि, इस लंच या डिनर का मतलब व्यंजन भोज नहीं है। सीएम ने साफ चेतावनी दी है कि गांवों में सरल भोजन जैसा होता है वैसा ही करना होगा।
धैर्य से सुननी होगी लोगों की बातें, दिखानी होगी विनम्रता
ममता बनर्जी और अभिषेक ने साफ कहा है कि इस अभियान के दौरान सभी को लोगों की बातें धैर्य से सुननी होगी। विनम्रता दिखानी होगी। सूची से बाहर जाकर भी कोई कुछ कहता है तो भी उसे सुनना होगा।
घर – घर जायेंगे दीदी के दूत
3.5 लाख पार्टी कर्मी (दीदी के दूत) सुरक्षा कवच लेकर घर घर जाएंगे। हर ग्रुप में 5 लोग होंगे। बंगाल के 10 करोड़ लोगों तक पहुंचेंगे। हर परिवार को आधा घंटा दिया जाएगा। वे घर-घर जाकर लोगों की समस्याएं सुनेंगे। दीदी का पत्र सौंपेंगे।
सरकारी योजना का लाभ किसे मिल रहा है, किसी नहीं यह जानना होगा। यदि कोई शिकायत हो तो उसे ‘दीदीर दूत’ एप पर दर्ज किया जाएगा। घर के प्रत्येक सदस्य के फोन पर क्यूआर कोड स्कैन कर एप को डाउनलोड किया जाए। कैलेंडर भी दिया जायेगा। पूरी प्रक्रिया पूरी होने के बाद टीम द्वारा स्टीकर को घर के दरवाजे पर लगाना होगा।
अभिषेक का स्पष्ट संदेश
पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए अभिषेक का स्पष्ट संदेश है कि नौकरी करें। फिर टीम को समय दें। दीदी के दूत एक नायक के रूप में ममता बनर्जी के प्रतिनिधि होंगे। इसलिए धैर्य होना चाहिए। स्वयंसेवकों के लिए 10 दिनों के प्रशिक्षण की व्यवस्था पार्टी कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मंगलवार को 11 पीपल के पत्तों से ऐसे करें …

कोलकाताः हिंदू धर्म में मंगलवार का दिन सबसे शुभ दिन में से माना जाता है। इस दिन हनुमान जी की पूजा की जाती है। भगवान आगे पढ़ें »

मैं कोलकाता में ही हूं, ईडी कार्यालय में फोन कर कहा ​अभियुक्त गोपाल दलपति ने

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मैं कोलकाता में हूं, मैं ईडी के समक्ष पेश होना चाहता हूं। एसएससी मामले के अभियुक्त गोपाल दलपति ने ईडी कार्यालय में आगे पढ़ें »

ऊपर