बड़ा कुछ होने वाला है बीरभूम में, सीबीआई ने डाला डेरा

मुख्य बातें
अनुव्रत के करीबियों के बैंक अकाउंटों में किसके रुपये? बैंक अधिकारियों से पूछताछ
अनुव्रत के मां काली की मूर्ति के गहनों पर भी सीबीआई की नजर
कुछ और बैंकों के अधिकारियों को तलब किया सीबीआई ने
मवेशी तस्करी मामले में दो बैंक अधिकारियों से पूछताछ
बांग्लादेशी बैंकों में फंड ट्रांसफर को लेकर भी हुए सवाल
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता / बीरभूम : सीबीआई की टीम फिर से बीरभूम में डेरा डाल चुकी है। इससे अब अंदाजा लगाया जा रहा है कि जल्द ही कुछ बड़ा हो सकता है। इधर, गुरुवार को सीबीआई के अधिकारियों ने दो बैंक अधिकारियों से घंटों पूछताछ की। इसके साथ ही कुछ और बैंकों के अधिकारियों को भी तलब किया गया है। इन्हें आज शुक्रवार को बुलाया गया है। इसके साथ ही अनुव्रत के आवास स्थित मां काली की मूर्ति पर चढ़ाये जाने वाले सोने के आभूषणों पर भी सीबीआई की नजर है। इस संबंध में स्थानीय ज्वेलर्स को बुलाकर पूछताछ की गयी है। इन सबको बोलपुर स्थित सीबीआई के अस्थाई कैंप में बुलाया गया था। सूत्र बताते हैं कि सुबह 10 बजे सीबीआई की टीम के समक्ष ये अधिकारी पेश हुए। इन बैंक अधिकारियों से पूछा गया कि अनुव्रत के करीबी लोगों के बैंक अकाउंटों में किसके रुपये हैं, इनका स्रोत क्या दिखाया गया है ? यानी कि यह कैश में जमा है या फिर कहीं से चेक आया था। सीबीआई की टीम यह पता लगा रही है कि उनसे संबंधित और कौन-कौन रिश्तेदार या उनके समर्थकों के अकाउंट नम्बर उक्त बैंक में हैं। सूत्राें की माने तो सीबीआई को खबर है कि आयकर बचाने के लिए उन्होंने लगभग 100 लोगों के अकाउंट में रुपये रखवाये थे। इस बारे में भी इन अधिकारियों से सीबीआई की टीम ने पूछताछ की है।
विदेशों में भी फंड ट्रांसफर करने के बारे में पूछा गया
इसके अलावा क्या बॉर्डर पार भी ट्रांजेक्शन्स हुए थे, इसका भी पता लगाया जा रहा है। इसके साथ ही लगभग 80 से 90 की संख्या में संपत्तियों को लोन पर खरीदा गया था। क्या यह दिखाने के लिए खरीदा गया था ? इस बारे में भी पूछताछ की गयी। सीबीआई की टीम विभिन्न बैंकों के अधिकारियों को तलब कर रही है। आरोप है कि कुछ अधिकारियों ने इसमें उनकी मदद की थी। वहीं इन अधिकारियों से पूछा गया कि इन खातों में किस तरह से लेनदेन होता था और विदेशों में भी फंड ट्रांसफर किन ​-किन अकाउंटों में किया गया है। उल्लेखनीय है कि मवेशी तस्करी से हासिल होने वाली राशि बड़े पैमाने पर फर्जी कंपनियों के जरिए दूसरे बैंक अकाउंट में ट्रांसफर की जाती थी। इन दोनों अधिकारियों से इस बारे में पूछताछ की गयी है तथा इनका बयान रिकॉर्ड किया गया। मवेशी तस्करी मामले में गिरफ्तार अनुव्रत मंडल फिलहाल 21 सितंबर तक जेल हिरासत में हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

11 दिसंबर को टेट की परीक्षा, 11000 से अधिक है वैकेंसी

कोलकाता : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि  दुर्गा पूजा के बाद दिसंबर के दूसरे सप्ताह में प्राथमिक शिक्षकों की नियुक्ति के आगे पढ़ें »

पौधे लगा रहे किसान के खेत से निकला ‘बेशकीमती खजाना’!

नई दिल्ली : एक किसान पौधा लगाने के लिए जमीन खोद रहा था तभी उसका कुदाल किसी शख्त चीज से टकराने लगी। उसने अपने बेटे आगे पढ़ें »

ऊपर