धनु राशिफल 10 नवंबर से 16 नवंबर

sagi-daily-horoscope

धनु राशि वाले ऐसे होते हैं (जिनके नाम का पहला अक्षर हो – ये, यो, भा, भी, भू, ध, फ, ढ, भे) : रोमांच से भरपूर धनु राशि के तहत पैदा हुए लोग काफी खुले विचारों के होते हैं और दूसरों के बारे में जानने की कोशिश हमेशा करते रहते हैं। नई-नई चीजों के बारे में जानकारी रखना इन्हें काफी अच्छा लगता है। इनके अनुसार जो इनके द्वारा परखा हुआ है, वही सत्य है। जीवन में भौतिक सुखों का अधिक महत्व देने वाले दूसरों पर बहुत कम विश्वास करते हैं। इनमें धैर्य की कमी होती है, पर ये अत्यधिक महत्वाकांक्षी और स्पष्टवादी होते हैं।

इस राशि के लोग पढ़ाई और करियर के कारण अपने वैवाहिक जीवन में परेशानियों का सामना करते हैं और हमेशा कोशिश करते हैं कि लोगों को इनसे किसी तरह की शिकायत न हो। जीवन के अर्थ को अच्छी तरह समझने वाले इस राशि के लोगों को कार्यस्थल पर काफी सफलता और मान-सम्मान मिलता है। धनु जातकों का ध्यान लक्ष्य से भटकाना बड़ा मुश्किल होता है। ये अच्छे श्रोता होते हैं और इन्हें खुले विचार वाले और ईमानदार लोग पसंद होते हैं। ये पुरानी विचारधारा से थोड़ा दूर ही रहते हैं।

धनु राशि

धनु :प्रगति प्रधान दिन बने रहने की आशा है, पूरी निष्ठा के साथ कर्मक्षेत्र से जुड़े रहें, मित्राें का सहयोग बना रहेगा, प्रसन्न रहेंगे।
साप्ताहिक राशिफल: परिस्थितियां आपके पक्ष में अनुकूल हो रही हैं, चाह रही हैं जिसे आप असंभव समझ रहे थे, वह संभव है लेकिन आपको भी तो प्रस्तुत होना है, इस सत्य को समझना होगा। पारिवारिक मामलों में स्वयं को कोमल बनाए रखना एवं जीवनसाथी और इष्ट मित्रों की भावनाओं को समझना आवश्यक होगा। स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों को अनदेखा न करें। खानपान संयमित रखें। दिनांक 10 को चिंता, 1 को सामान्य, 12 को सुख, 13 को सहयोग, 14 को प्रगति, 15 को लाभ, 16 को खानपान। धनु लग्न के लिए सप्ताह कर्म चंचलता का रहेगा। शुभ दिन 13 से 15 नवंबर एवं शुभांक 4-6-8।

धनु वार्षिक राशिफल 2019: यह वर्ष आर्थिक स्थिति के लिए उतना प्रशस्त नहीं रहने से सम्हल कर खर्च की योजना बनाना उचित होगा। ऋण पर आधारित कोई भी कार्यक्रम बनाने के पहले गहरे सोच- विचार करने की आवश्यकता होगी। वर्ष की पहली तिमाही अर्थात् जनवरी, फरवरी और मार्च की अवधि में आने वाले दिनाें के लिए संचित कोष को अगर अक्षुण्ण रखने का प्रयास किया जाय तो भविष्य की गतिविधियों की गति अच्छी रह सकती है। शिक्षा और अच्छे सार्वजनिक रुचि के लिए आवश्यक खर्च करने की प्रवृत्ति बढ़ेगी। स्वास्थ्य और पारिवारिक मद पर व्यय हो सकता है। इष्ट- मित्रों को भी आपसे कुछ आशा रहेगी। मांगलिक प्रयत्न में सफलता मिलेगी। प्रतिष्ठा पर कोई आंच संभव नहीं लगता। पैतृक जायदाद के किसी विवाद को अभी टालते रहना अच्छा होगा। कोर्ट- कचहरी से दूर रहना और केवल काम-धंधे तक ही अपने को सीमित रखना किसी भी भय से आपकी रक्षा कर सकता है।

दूसरी तिमाही अर्थात् अप्रैल, मई और जून विशेष सावधानी रखने की अवधि बन सकते हैं। इस अवधि में खर्च की कमी और बकाया भुगतान की प्राप्ति से आर्थिक सुदृढ़ता बन सकती है। स्वास्थ्य पर अवश्य ध्यान रखें और दैनिक दिनचर्या पर संयम रखें। यह अवधि मध्यम परिणाम की होगी। किसी भी प्रतिकूल विचार और प्रयास को स्वयं से दूर रखें। नौकरी पेशावाले भी सावधानी बरतें और सहयोगियों तथा अधिकारियों से अपने बर्ताव को संयमित करें। व्यापारी वर्ग यथार्थ स्थिति का आकलन अवश्य करते रहें। तनाव और आवेश को जहां तक हो सके व्यक्तिगत ही रखना उचित होगा और कर्मक्षेत्र पर इसका प्रभाव नहीं पड़े, इसका प्रयास करते रहना होगा। यात्रा आवश्यक हो तो करना चाहिए किन्तु इसके परिणाम को सहजता से लेना सुख दे सकता है। तीसरी तिमाही अर्थात् जुलाई, अगस्त और सितंबर आर्थिक, मानसिक, शारीरिक और सामाजिक स्थिति को स्थिर बनाए रख सकते हैं। इस अवधि में आपका आत्मबल सहायता करेगा किन्तु मनमानापन कोई न कोई उलझन उत्पन्न कर सकता है। घर-गृहस्थी सामान्य रूप से चल सकती है। इसमें हस्तक्षेप नहीं करें और अपने ऊपर आधारित पारिवारिक सदस्याें से स्नेह का व्यवहार करें।

चौथी तिमाही अर्थात् अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर की अवधि अचानक अनुकूल मोड़ ले सकती है और काम-धंधे में अच्छी प्रगति हो सकती है। रुका हुआ काम आगे बढ़ेगा और लाभ होगा। कर्मचारी भी अच्छे व्यवहार की आशा कर सकते हैं। कामकाजी महिलाएं तरक्की पा सकती हैं और गृहिणी महिलाएं अध्ययन पर जोर देकर आगामी परीक्षाओं में सफल हो सकती हैं। धनु लग्न के लिए वर्ष मध्यम ही बना रह सकता है। अच्छे परिणाम के लिए प्रत्येक बृहस्पतिवार को शक्ति और श्रद्धा के अनुसार किसी मंदिर में अन्नदान करना उचित होगा। वर्ष शुभांक 2, 4 और 6।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Gay couple wants police protection

बारासात के समलैंगिक जोड़े को मिल रही परिवार से धमकी, पुलिस से लगाई सुरक्षा की गुहार

कोलकाता : भारत के उच्चतम न्यायालय ने पिछले वर्ष ही धारा 377 पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कहा था कि समलैंगिकता अब अपराध नहीं है। आगे पढ़ें »

ram barat

अयोध्या से जनकपुर के लिए निकलेगी भव्य राम बारात, शामिल हो सकते हैं प्रधानमंत्री मोदी

अयोध्या : शीर्ष न्यायालय से राममंदिर के पक्ष में आए फैसले के बाद लोगों में काफी हर्ष और उल्लास है। वहीं विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) आगे पढ़ें »

ऊपर