मीन राशिफल 10 नवंबर से 16 नवंबर

aqua-daily-horoscope

मीन राशि वाले ऐसे होते हैं (जिनके नाम का पहला अक्षर हो – दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, च, ची) : मीन राशि के लोग मीठे और शर्मीले दिखते हैं और बहुत जल्दी लोगों के बीच में अपनी जगह बना लेते हैं। इनका स्वभाव चंचल होता है। ये दयालु होते हैं, विशेषकर तब तक जब तक कि इन्हें अकारण परेशान ना किया जाए। मीन जातक अक्सर अपने में खोये रहते हैं और इन्हें आसानी से गुस्सा नहीं आता, परन्तु जब आता है तो कोई भी नहीं बच पाता।

परम्परा और सिद्धान्तों को नहीं भूलने वाले ये लोग आमतौर पर आराम से और पहली नज़र में किसी को भी अपना बनाने की क्षमता रखते हैं। मन को शांत रखते हैं। ये अंतर्मुखी नजर आते हैं, लेकिन आगे बढ़कर बात करते हैं। स्वभाव से भावुक मीन जातक अपने करियर में काफी उतार-चढावों का सामना करते हैं। छोटी-छोटी बातों से ये कई बार मन ही मन आहत भी होते हैं जिसके चलते इनके अवसादग्रस्त होने की आशंका बढ़ जाती है। ये काफी व्यावहारिक होते हैं और कुछ हद तक असहज होते हैं, विशेषकर उन मामलों में जहां इनको इनके हक से वंचित किया जाए।

मीन राशि

मीन : आनंददायक स्थिति बन सकती है, कोई रुका काम किसी आत्मीय के सहयोग से संभव है, काम में ध्यान लगाएं, दिन सुखद रहेगा।

साप्ताहिक राशिफल: अनावश्यक रूप से पैदा हो रही उलझनों से सामना हो सकता है जिनका सहज समाधान आपकी बुद्धिमानी पर निर्भर करेगा। यद्यपि आर्थिक रूप से शायद ही कोई परेशानी हो, फिर भी लेनदेन में सावधानी आवश्यक होगी। पारिवारिक वाद विवादों से स्वयं को जितना अलग रख सकें रखें। कर्मक्षेत्र में सहयोग की कमी नहीं रहेगी लेकिन शारीरिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना होगा।

दिनांक 10 को खानपान, 11 को लाभ, 12 को सहयोग, 13 को अवसर, 14 को सुख, 15 को चिंता, 16 को तनाव। मीन लग्न के लिए सप्ताह उतार-चढ़ाव हो सकता है। शुभ दिन 11 से 13 नवंबर एवं शुभांक 3-5-8।

मीन वार्षिक राशिफल 2019: यह वर्ष मध्यम ही रहने की संभावना है। दैनिक चर्चा में प्राय: उतार-चढ़ाव बने रहने से उत्साह की कमी रह सकती है और ऐसा लग सकता है कि आपकी क्षमता का सही उपयोग नहीं हो पा रहा है। इससे आपमें कभी-कभी उदासीनता भी आ सकती है जो कर्म जीवन के लिए अच्छा नहीं होगा। वर्ष की तिमाहियों पर ध्यान न दिया जाय तो पहली तिमाही अर्थात् जनवरी, फरवरी और मार्च की अवधि बुद्धि को स्पष्ट और निर्णायक रखते हुए काम पर लगे रहने से सफलता प्राप्त हो सकती है और उत्पन्न होने वाली सारी समस्याओं में से कुछ का समाधान भी प्राप्त हो सकता है। आर्थिक स्थिति प्राय: ठीक रहेगी और मान-सम्मान की रक्षा भी होगी। इष्ट मित्र भी साथ देंगे। मनोरंजन की ओर अधिक झुकाव रहने से व्यय भी होगा और स्वयं को बड़ा दिखाने का कोई भी अवसर आप छोड़ना नहीं चाहेंगे। कर्मक्षेत्र में आपका यश बढ़ेगा और आपकी लोकप्रियता भी बढ़ेगी किन्तु समय और अर्थ का सदुपयोग करना आगामी तिमाहियों को संयत रखने में सहायता करेगा। स्वास्थ्य पर ध्यान रखना जरूरी होगा।

दूसरी तिमाही अर्थात् अप्रैल, मई और जून से समस्या बढ़ सकती है। पारिवारिक मतभेद का सामना करना पड़ सकता है। मित्रों में खर्चीला व्यक्ति माने जाएंगे। माता- पिता के स्वास्थ्य पर ही दृष्टि रखना आवश्यक है। मंगल कार्यों के लिए यात्रा हो सकती है। कर्मक्षेत्र में समस्या उत्पन्न हो सकती है और आपके प्रति भूल धारणा तैयार हो सकती है। नौकरी पेशा के लोग अधिकारियों के कोपभाजन हो सकते हैं और तबादले की स्थिति बन सकती है। आपकी वाणी और व्यवहार में कठोरता रहेगी। यात्रा से कष्ट संभव है। आर्थिक समस्या बढ़ सकती है। तीसरी तिमाही अर्थात् जुलाई अगस्त और सितंबर की अवधि स्वयं को संयत रखना कठिन होने पर भी कुछ अर्थालाभ हो सकता है। स्वास्थ्य में उदरकष्ट और नेत्र पीड़ा संभव है। हृदय- रोगी और मधुमेह प्रभावित लोग सावधानी बरतें और अपने व्यवहार को समय-समय पर समझ कर बदलें या संयमित करें।

चौथी तिमाही अर्थात् अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर की अवधि कुछ अनुकूलता के साथ छोटे- छोटे कर्म समाधान कर सकती है। फिर भी तनाव के वशीभूत होकर कोई कदम उठा सकते हैं जिसका परिणाम भविष्य को संकटग्रस्त कर सकते हैं। महिलाएं विशेष सावधानी बरतते हुए परिवार और निकट संबंधियों से व्यवहार करें और अर्थ का महत्व समझे। विद्यार्थियों को भी खाेने के लिए समय का भी अभाव रहेगा अत: अध्ययन पर विशेष ध्यान दें। मीन लग्न के लिए स्वयं को नियंत्रित रखना ही लाभकारी हो सकता है। अच्छे परिणाम के लिए प्रति सोमवार को शिवजी पर 21 बेलपत्र, दूध, दही, मधु और गुलाब से अभिषेक करें। वर्ष शुभांक 1, 6 और 8।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Gay couple wants police protection

बारासात के समलैंगिक जोड़े को मिल रही परिवार से धमकी, पुलिस से लगाई सुरक्षा की गुहार

कोलकाता : भारत के उच्चतम न्यायालय ने पिछले वर्ष ही धारा 377 पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कहा था कि समलैंगिकता अब अपराध नहीं है। आगे पढ़ें »

ram barat

अयोध्या से जनकपुर के लिए निकलेगी भव्य राम बारात, शामिल हो सकते हैं प्रधानमंत्री मोदी

अयोध्या : शीर्ष न्यायालय से राममंदिर के पक्ष में आए फैसले के बाद लोगों में काफी हर्ष और उल्लास है। वहीं विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) आगे पढ़ें »

ऊपर