कर्क राशिफल 10 नवंबर से 16 नवंबर

cancer-daily-horoscope

कर्क राशि वाले ऐसे होते हैं (जिनके नाम का पहला अक्षर हो – ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) : संवेदनशील, कोमल और दयालु कर्क राशि के लोगों की स्मरण शक्ति बहुत तीव्र होती है। इस राशि के लोग शानो-शौकत से रहना पसंद करते हैं और सुगंधित एवं मादक पदार्थों के सेवन का शौक रखते हैं। ये अपनी इच्छा के मालिक होते हैं और खुद पर किसी प्रकार का नियंत्रण पंसद नहीं करते। समझ, सहायक और दयालु होने के साथ-साथ इनका मूड भी काफी जल्दी बदलता है। अतीत को महत्व देने वाले कर्क राशि के लोगों को बिना मतलब की बातें और फालतू के काम पसंद नहीं होते। मित्रता को जीवनभर निभाने वाले कर्क राशि वाले जातकों में गणित की समझ होती है।

इस राशि के लोग अन्तर्मुखी होते हैं और अपने विचारों को जल्दी दूसरों के आगे प्रकट नहीं करते। एक अच्छे और विश्वासनीय साथी होने के साथ-साथ ये काफी भावुक होते हैं। कभी-कभी मानसिक रूप से अस्थिर होने की वजह से इनमें अहम की भावना बढ़ जाती है। इन्हें हर समय घिरे, संरक्षित और सुरक्षित महसूस करने की आवश्यकता होती है। कंप्यूटर के क्षेत्र में इनकी पकड़ अच्छी होती है और इस क्षेत्र में कार्य करने से इन्हें सफलता मिल सकती है।

कर्क राशि

कर्क : बकाया भुगतान थोड़े प्रयास से संभव है, दिन लाभदायक रहने की आशा है, कर्मक्षेत्र में पूरा ध्यान केन्द्रित करें, प्रसन्न रहेंगे।
साप्ताहिक राशिफल: तरह-तरह की समस्याओं के बीच तनाव में न आकर उतनी ही शांति के साथ उनके समाधान के विषय में सोचना आपका सही मार्गदर्शन कर सकता है। आर्थिक स्थिति पर खर्च का दबाव रहेगा, इसलिए अनावश्य खर्च को रोकना होगा, उधार की नीति का त्याग करना होगा। उदर कष्ट से प्रभावित लोग चिकित्सकीय परामर्श में रहें, खानपान संयमित रखें। दिनांक 10 को सामान्य, 11 को प्रगति, 12 को लाभ, 13 को सहयोग, 14 को सुख, 15 को परेशानी, 16 को खर्च। कर्क लग्न के लिए सप्ताह कर्मव्यस्तता का हो सकता है। शुभदिन 12 से 14 नवम्बर एवं शुभांक 2-5-8।

कर्क वार्षिक राशिफल 2019: वर्ष आपके लिए प्राय: मिला- जुला परिणाम देता रहेगा जिसमें प्रगतिकारक स्थिति बनी रहेगी लेकिन कभी- कभी मानसिक भ्रम और पूर्वाग्रह से यथार्थ को समझने में भूलें हो सकती हैं जिसके परिणाम स्वरूप आपके कदम गलत पड़ सकते हैं। पहली तिमाही अर्थात् जनवरी, फरवरी और मार्च के महीने अच्छे रहते हुए भी लाभ में कमी और कर्मक्षेत्र में रुकावटों का क्रम बना रह सकता है फिर भी निराशा पर विजय होती रहेगी। आपके संकल्प भी मूर्तरूप ले सकते है। जहां तक हो सके काम में लगा रहना उचित होगा। संतान पक्ष से प्रसन्नता मिल सकती है और आवश्यक धन की भी प्राप्ति होती रहेगी। स्वजनों की अपेक्षा बढ़ी रहेगी और आप अपनी भूमिका सफलतापूर्वक निभा सकते हैं।

दूसरी तिमाही अर्थात् अप्रैल, मई और जून कुछ विवादास्पद स्थिति उत्पन्न कर सकती है और पारिवारिक समस्याओं का भ्रमित आकलन होने से मन और शरीर थकान का अनुभव कर सकते हैं। व्यक्तिगत और पारिवारिक खर्च में वृद्धि आर्थिक संचय को प्रभावित कर सकती है। इस अवधि में स्वास्थ्य को अनुकूल बनाए रखने के लिए खानपान और रहन- सहन को नियंत्रण में रखना होगा। रिश्तेदारों को लेकर परेशानी में पड़ सकते हैं और उनकी सहायता के लिए खर्च करना पड़ सकता है। काम-धंधे में कोई भी भूल विलम्ब उत्पन्न कर सकती है जिससे चिड़चिड़ापन बढ़ सकता है। सभी बातों में सावधानी बरतना राहत दे सकता है। वाणी को जितना मधुर बना सकते हैं, उतना ही लोगों के प्रिय बने रहेंगे। तीसरी तिमाही अर्थात् जुलाई, अगस्त और सितंबर की अवधि अपनी समाप्ति के कुछ दिन पहले आपको अनुकूल लगेगी और मन में विश्वास पैदा कर सकेगी कि अब आपकी सुविधा बढ़ेगी और काम- धंधे तथा आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा किन्तु इसके पहले बिना कारण के वैर- भाव बना रहेगा और आपमें दोष खोजने वाले अपने ही लोग होंगे। उधार लेने और देने में परहेज करते रहना ही अच्छा होगा। धैर्य ही आपका सहारा होगा और सहिष्णुता प्रत्येक प्रतिकूलता में सहायक होगी। स्वास्थ्य पर सब समय दृष्टि बनाए रखें।

चौथी तिमाही अर्थात् अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर की अवधि नया संदेश ला सकती है और मुसीबतों का अंत आरंभ होगा। आर्थिक सुविधाएं बढ़ेंगी। मांगलिक प्रयत्न में भी सफलता भी मिल सकती है। स्वास्थ्य भी ठीक रहेगा और कर्मक्षेत्र भी अवसर प्रदान करेगा। मान- प्रतिष्ठा बढ़ेगी। पारिवारिक सदस्य अपनी भूल महसूस करेंगे। सहयोग का क्षेत्र बढ़ेगा। महिलाएं प्रसन्न रहेंगी और विद्यार्थी भी आसानी से परिश्रम कर सकेंगे एवं अच्छा फल पा सकेंगे। नौकरी पेशा वाले लोग अधिकारियों से सामान्य व्यवहार की आशा कर सकते हैं। व्यापारी लोग राहत अनुभव करेंगे। कर्क लग्न के लिए वर्ष मिला- जुला परिणाम दे सकता है। अच्छे परिणाम के लिए सोमवार को भगवान शंकर को श्रद्धा से 11 बेलपत्र पर अष्टगंध लगाकर अर्पित करें। वर्ष शुभांक 2, 7 और 8।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पटना का महावीर मंदिर ट्रस्ट अयोध्या के राम मंदिर के श्रद्धालुओं के लिए रसोई चलाएगा

अयोध्या : राम मंदिर के दर्शन के लिए अयोध्या के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए बिहार का महावीर मंदिर ट्रस्ट सामुदायिक भोज की आगे पढ़ें »

विकास का इंतजार कर रहा है औरंगाबाद का रढुआ धाम

औरंगाबाद : बिहार के औरंगाबाद जिले में ऐतिहासिक, पौराणिक और धार्मिक महत्व के रढुआ धाम को आज भी विकास का इंतजार है। जिले के जम्होर पंचायत आगे पढ़ें »

ऊपर