सीमा विवाद के शीघ्र समाधान का चीन ने किया वादाः प्रणव

BEIJING, MAY 26 (UNI):- President Pranab Mukherjee (L) meeting the Chairman of National People's Congress Zhang Dejiang, at Great Hall of the People, in Beijing, on Thursday. UNI PHOTO-97U
राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी चीन के नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के चेयरमैन झांग जेंग के साथ बीजिंग के ग्रेट हाल ऑफ पीपुल में, एजेंसियां

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने शुक्रवार को कहा कि चीन ने भारत के साथ सीमा विवाद का शीघ्र तर्कसंगत और दोनों पक्षों को स्वीकार्य समाधान ढूंढने का संकल्प व्यक्त किया है और आतंकवाद के मुद्दे पर सहयोग बढ़ाने का आश्वासन दिया है।
प्रणव मुखर्जी ने चीन की यात्रा की समाप्ति पर जारी आधिकारिक वक्तव्य में कहा कि चीन के नेतृत्व ने सीमा विवाद का उचित और दोनों पक्षों को स्वीकार्य समाधान शीघ्र ढूंढने का संकल्प जताया है। उन्होंने कहा कि चीन के नेतृत्व के साथ भारत की सहमति बनी है कि सीमा के मसले का शीघ्र समाधान ढूंढने के साथ ही सीमा प्रबंधन में सुधार किया जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि सीमा के इलाकों में शांति और सद्भाव कायम रहे। राष्ट्रपति ने कहा कि चीन के नेताओं के साथ उनकी मुलाकात में आतंकवाद का मुद्दा भी उठा और इस बुराई के खिलाफ संघर्ष करने के लिए सभी देशों के व्यापक सहयोग पर जोर दिया गया। उनकी बैठकों में आतंकवाद महत्वपूर्ण विषय रहा और उन्होंने चीन के नेताओं से कहा कि आतंकवाद की बढ़ रहे कृत्यों पर पूरी दुनिया में चिंता है और भारत लगभग पैंतीस साल तक आतंकवाद से प्रभावित रहा है। राष्ट्रपति ने कहा कि आतंकवाद अच्छा या बुरा नहीं होता है। आतंकवाद विचारधारा या भौगोलिक सीमाओं का सम्मान नहीं करता है। उसका एकमात्र मकसद विनाश करना होता है। इस वैश्विक बुराई से निपटने के लिए दुनिया के सभी देशों का व्यापक सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ कड़ी और प्रभावी कार्रवाई के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इसमें शामिल करना होगा। करीबी पड़ोसी होने के नाते भारत और चीन को मिलकर काम करना चाहिए। प्रणव ने कहा कि चीन नेतृत्व इस बात से सहमत था कि आतंकवाद पूरी मानव जाति के लिए एक बुराई है। उसने संयुक्त राष्ट्र और अन्य मंचों पर सहयोग बढ़ाने की इच्छा व्यक्त की है। राष्ट्रपति 24 मई को एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधि मंडल के साथ चीन की चार दिवसीय यात्रा पर यहां आए थे। उनके प्रतिनिधि मंडल में कपड़ा मंत्री संतोष कुमार गंगवार, विभिन्न दलों और क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने वाले चार सांसद- डॉ भूषण लाल जांगडे, के सी वेणुगोपाल, सुधीर गुप्ता और सुश्री रंजनदेव धनंजय भट्ट तथा राष्ट्रपति भवन, विदेश मंत्रालय और मानव संसाधन विकास के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हैं। शिक्षा जगत के आठ लोगों का एक और प्रतिनिधि मंडल उनके साथ आया, जिनमें कुलपति और उच्चतर शिक्षा संस्थानों के प्रमुख शामिल थे।
राष्ट्रपति की यात्रा गुआंगदोंग प्रांत के ग्वांझू से शुरू हुई, जिसकी चीन के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका रही है। यह चीन के सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 10 प्रतिशत है। ग्वांझू को राष्ट्रपति की यात्रा के लिए इसलिए चुना गया था कि इसका भारत के साथ ऐतिहासिक संबंध होने के साथ ही अर्थव्यवस्था और लोगों के बीच संपर्क में महत्वपूर्ण है। राष्ट्रपति ने कहा कि वहां चीन के नेताओं ने भारत, विशेषकर गुजरात के साथ व्यापार को बढ़ावा देने और लोगों के बीच संपर्क कायम करने में दिलचस्पी दिखाई। उन्होंने भारत में शुरू की गयी विभिन्न विकास योजनाओं के बारे में पूछताछ की और व्यापार तथा निवेश संबंधों को बढ़ाने में अग्रणी भूमिका निभाने की इच्छा व्यक्त की। प्रणव हुआलिन मंदिर भी गए, जो छठी शताब्दी में भारतीय बौद्ध भिक्षु बोधिधर्म के चीन पहुंचने के उपलक्ष्य में बनाया गया था। इसके बाद राष्ट्रपति ने पीकिंग विश्वविद्यालय में कुलपतियों की गोलमेज बैठक में भाग लिया तथा कार्यक्रम में मुख्य भाषण दिया। इस दौरान दोनों देशों के उच्चतर शिक्षा संस्थानों के बीच शोध और नवाचार में सहयोग और अध्यापकों तथा छात्रों के मध्य आदान प्रदान बढ़ाने के दस समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। उन्होंने कहा कि भारत ने शंघाई सहयोग संगठन में उसकी सदस्यता का समर्थन करने के लिए चीन का आभार व्यक्त किया। चीन ने कहा है कि इससे क्षेत्रीय स्थिरता में भारत का योगदान मजबूत होगा। राष्ट्रपति ने कहा कि चीन नेतृत्व के साथ बैठकों में द्विपक्षीय व्यापार और निवेश और ऊर्जा सहयोग बढ़ाने पर भी मुख्य रूप से चर्चा हुई, जिनमें उन्होंने चीन को बताया कि भारत ऊर्जा की कमी का सामना कर रहा है और वह देश के भीतर बिजली उत्पादन बढ़ाने के प्रयासों में लगा है। एजेंसियां

Leave a Comment

अन्य समाचार

सबसे पहले आईफोन खरीदने के लिए तीन दिन से सड़क पर सो रहा युवक

टेक्सासः ऐप्पल ने इस साल तीन नए आईफोन लॉन्च किए हैं। ये हैं आईफोन एक्सएस, आईफोन एक्सएस मैक्स और आईफोन एक्सआर। ऐसे में अमेरिका में आईफोन के नए मॉडल सबसे पहले खरीदने के लिए लोगों ने अलग-अलग तरीके अपनाने शुरू [Read more...]

ब्रिटिश गोताखोर ने एलन मस्क पर किया मानहानि मुकदमा

कैलिफोर्नियाः थाईलैंड की गुफा में फंसे बच्चों को बचाने वाले ब्रिटिश गोताखोर वर्नोन अनस्वोर्थ ने अब इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला के सीईओ एलन मस्क के खिलाफ 75,000 डॉलर (54 लाख 40 हजार रुपए) का मानहानि का मुकदमा किया है। अनस्वोर्थ [Read more...]

मुख्य समाचार

भारत में राफेल पर रार, डेप्युटी एयर मार्शल रघुनाथ ने उड़ाया लड़ाकू विमान

नयी दिल्ली : देश में एक तरफ राफेल विमान के सौदे को लेकर राजनीतिक युद्ध छिड़ा हुआ है वहीं दूसरी तरफ वायुसेना 36 राफेल विमानों को बेडे़ में शामिल करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। भारतीय वायु सेना [Read more...]

श्रीकांत का अभियान मोमोटा से हारकर खत्म

चांगजूः भारतीय शटलर किदाम्बी श्रीकांत का अभियान 10 लाख डालर इनामी राशि के चाइना ओपन बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 1000 टूर्नामेंट के क्वार्टरफाइनल में मौजूदा विश्व चैम्पियन केंटो मोमोटा से हारकर खत्म हो गया। [Read more...]

ऊपर