वर्जीनिया में भारतवंशी मां-बेटे की गोली मारकर हत्या

वाशिंगटन : अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन के उपनगर वर्जीनिया में भारतीय मूल की एक महिला और उनके बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस के अनुसार, 65 वर्षीय माला मनवानी और उनका 32 साल का बेटा ऋषि मनवानी अपने घर में मृत पाए गए। पुलिस हत्यारों की तलाश में जुटी है। पुलिस को एक व्यक्ति ने बुधवार को फोन पर सूचित किया था कि टॉमी कोर्ट इलाके में रहने वाला उसका एक सहकर्मी इस हफ्ते काम पर नहीं आया है। पुलिस अधिकारी जब उस व्यक्ति द्वारा दिए गए पते पर पहुंचे तो उन्हें मां-बेटे के शव मिले। अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि दोनों की हत्या क्यों की गई थी? उल्लेखनीय है कि अमेरिका में पिछले कुछ समय से भारतीयों पर हमले बढ़ गए हैं। पिछले साल नवंबर में कैलिफोर्निया में लुटेरों ने भारतीय छात्र धरमप्रीत सिंह जस्सर की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके कुछ दिन बाद ही मिसिसिपी में एक भारतीय युवक की हत्या कर दी गई थी।

Leave a Comment

अन्य समाचार

मोदी सरकार राफेल पर घिरी है, भारतीय सेना प्रमुख का बयान ध्यान भटकाने वाला : पाकिस्‍तान

इस्लामाबाद : संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान विदेश मंत्रियों की बातचीत रद्द करने से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। प्रधानमंत्री इमरान खान के बाद उनके सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि [Read more...]

विश्व में आतंक प्रभावित देशों में भारत तीसरे स्‍थान पर, भारत समेत 5 देशों में 59 फीसदी हमले

वाशिंगटन : दुनिया के तमाम आतंक प्रभावित देशों में भारत लगातार दूसरे साल भी तीसरे स्‍थान पर है। अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा पोषित नेशनल कंसोर्टियम फॉर द स्‍टडी ऑफ टेररिस्‍म एंड रिस्‍पोंसेज टू टेररिस्‍म (एसटीएआरटी) की एक रिपोर्ट के मुताबिक [Read more...]

मुख्य समाचार

पुलवामा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में रविवार को सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया। पुलिस के मुताबिक, अभी और आतंकियों के छिपे होने की आशंका है। फिलहाल, दोनों तरफ से फायरिंग जारी है। उधर, शोपोर के बोमिया [Read more...]

‘ब्याज दरें बढ़ा सकता है रिजर्व बैंक’

नयी दिल्लीः चालू वित्त वर्ष में भारतीय रिजर्व बैंक ब्याज दरों में और वृद्धि कर सकता है। यह बात भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के एक सर्वेक्षण में सामने आयी है। देश की 40% से अधिक कंपनियों ने यह राय व्यक्त [Read more...]

ऊपर