राफेल विवाद में नया मोड़ः अब फ्रांस के राष्ट्रपति और भारतीय उप सेना प्रमुख ने दिया बड़ा बयान

न्यूयॉर्क/नई दिल्लीः राफेल डील पर भारत में रार बढ़ गया है। विपक्षी पार्टियों ने इस डील पर कई सवाल उठाए है। अब इस मुद्दे पर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने जवाब दिया है। हालांकि उन्होंने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र में इसका सीधा जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा जब भारत और फ्रांस के बीच 36 विमानों के लिए लाखों डॉलर के सौदे पर हस्ताक्षर हुए थे, तब वे सत्ता में नहीं थे। उन्होंने कहा कि यह सौदा दो सरकारों के बीच हुआ समझौता है। वहीं, भारतीय सेना उप प्रमुख ने भी बड़ा बयान दिया है।
मैक्रों ने संयुक्त राष्ट्र महासभा से अलग एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। जिसमें उनसे पूछा गया कि क्या भारत सरकार ने कभी फ्रांस या दैसो को बताया था कि उन्हें राफेल डील में रिलायंस को भारतीय साझेदार बनाना होगा? इसी पर मैक्रों ने कहा- तब मैं सत्ता में नहीं था। इमेनुअल मैक्रों ने कहा कि मैं पूरी तरह स्पष्ट करना चाहूंगा कि यह दोनों सरकारों के बीच की बातचीत है। मैं इसके लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बात का हवाला दूंगा, जो उन्होंने कुछ दिन पहले कही थी। मैक्रों पिछले साल मई में राष्ट्रपति बने थे। भारत ने सितंबर 2016 में फ्रांस सरकार से 58 हजार करोड़ रुपए में 36 राफेल फाइटर विमानों की डील की थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसकी घोषणा 2015 के अपने पेरिस दौरे के करीब डेढ़ साल बाद की थी। उम्मीद है कि सितंबर 2019 इन विमानों की डिलीवरी शुरू हो जाएगी।
राफेल डील पर भारत में विवाद उस समय बढ़ा, जब पूर्व राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद ने फ्रेंच मीडिया को जानकारी दी थी कि राफेल डील में रिलायंस डिफेंस को साझेदार बनाने का प्रस्ताव भारत सरकार ने दिया था। इसके बाद कांग्रेस राफेल डील पर सवाल उठाते हुए कई दिन से भाजपा को घेर रही है।

लोगों को ‘गलत जानकारी’ दी जा रही हैः वायुसेना के उप प्रमुख

नई दिल्ली : राफेल विमान डील को लेकर बचे सियासी घमासान के बीच वायुसेना के उप प्रमुख रघुनाथ नांबियार ने बड़ा बयान ‌दिया है। उन्होंने कहा कि लड़ाकू विमान के करार को लेकर लोगों को ‘गलत जानकारी’ दी जा रही है और मौजूदा सौदा पहले किए जा रहे समझौते से काफी बेहतर है। नांबियार ने पिछले हफ्ते फ्रांस में राफेल विमान को प्रायोगिक आधार पर उड़ाया था। उन्होंने कहा कि वायुसेना के तत्कालीन उपप्रमुख की अगुवाई में वाणिज्य सौदे पर बातचीत हुई थी और उन्होंने इस बातचीत को पूरा किया जो 14 महीने चली थी। उन्होंने कहा कि वायु सेना ने बेहतर कीमत, बेहतर रखरखाव की शर्तें, बेहतर प्रदर्शन के लिए साजोसमान के पैकेज को लेकर नेतृत्व से मिले सभी निर्देशों को पूरा किया है।



एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह का इस्तीफा

रायपुरः छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने गत 15 वर्षों से सत्ता पर काबिज भारतीय जनता दल पार्टी को करारी शिकस्त दी है। रुझानों और नतीजों में कांग्रेस को यहां दो तिहाई बहुमत मिलता नजर आ रहा है। इस बीच राज्य के [Read more...]

शक्तिकांत दास बने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नए गवर्नर

नई दिल्लीः उर्जित पटेल के इस्तीफे के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को उसका नया गवर्नर मिल गया है। वित्त आयोग के सदस्य शक्तिकांत दास को आरबीआई का 25वां गवर्नर बनाया गया है। रिजर्व बैंक के गवर्नर के पद पर [Read more...]

मुख्य समाचार

अब भाजपा सरकार की विदाई तय – ममता

नयी दिल्ली : भाजपा सरकार की विदाई का घंटा बज चुका है। काउंट डाउन शुरू है। 2019 के लिए द गेम इज क्लियर, जनता का मूड सामने आ चुका है। केवल कुछ समय का इंतजार है। यह कहना है बंगाल [Read more...]

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह का इस्तीफा

रायपुरः छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने गत 15 वर्षों से सत्ता पर काबिज भारतीय जनता दल पार्टी को करारी शिकस्त दी है। रुझानों और नतीजों में कांग्रेस को यहां दो तिहाई बहुमत मिलता नजर आ रहा है। इस बीच राज्य के [Read more...]

ऊपर