अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस का एक साथ सीरिया पर हमला, दागी एक के बाद एक कई मिसाइलें

दमिश्कः अभी हाल ही में सीरिया में हुए रासायनिक हमले में कई लोगों के मारे जाने के बाद अब विश्व के तीन महाशक्ति देशों ने एक साथ सीरिया पर ताबड़तोड़ करीब 100 मिसाइलें दागी है। अमेरिका, ब्रिटेन‌ और फ्रांस के इस हमले से सीरिया की राजधानी दहल उठी और यहां धुआं ही धुआं नजर आया। वहीं, इसके जवाब में असद सरकार ने भी उचित जवाब देते हुए एंटी गाइडेड मिसाइल को लॉन्च किया।
दरअसल, सीरिया के पूर्वी गोता के डौमा में हाल में सीरिया द्वारा रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल से बच्चों सहित 75 लोग मारे गए थे। इसके जवाब में विश्व के तीन महाशक्तियों ने मिसाइलें दागी। पेंटागन के अनुसार ये हवाई हमले सीरिया के रासायनिक हथियारों के तीन भंडारगृहों को निशाना बनाकर किए गए। इसमें दमिश्क के पास वैज्ञानिक शोध अनुसंधान इकाई शामिल है, जहां रासायनिक हथियारों का कथित तौर पर उत्पादन होता है। होम्स के पास रासायनिक हथियार भंडारण इकाई और होम्स शहर के अहम सैन्य ठिकाने, जहां रासायनिक हथियारों से जुड़ी सामग्री रखी जाती है।
सूत्रों के अनुसार जिन-जिन स्थानों को निशाना बनाकर हमले किए गए, उनमें सीरियाई सेना की 4वीं टुकड़ी और रिपब्लिकन गार्ड भी शामिल हैं। अमेरिकी रक्षा अधिकारियों के मुताबिक इस हमले में शामिल अमेरिकी विमानों में बी-1 बमवर्षक और जहाज हैं। सीरिया के वायु रक्षा ने दक्षिणी दमिश्क की ओर आ रहे 13 रॉकेटों को हवा में ही नाकाम कर दिया। सीरियाई सरकारी टीवी ने कहा कि ये हमले अंतर्राष्ट्रीय कानून का स्पष्ट उल्लंघन हैं और यह अंतर्राष्ट्रीय वैधता की अवमानना को दर्शाता है।
गौरतलब है कि ट्रंप ने शुक्रवार रात अपने 3 सहयोगियों के साथ मिलकर सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद को कथित रासायनिक हमले के लिए दंडित करने और उन्हें ऐसा दोबारा करने से रोकने के लिए सैन्य हमले करने की घोषणा की थी। सीरिया सरकार लगातार प्रतिबंधित हथियार के इस्तेमाल की बात नकार रही है। अमरीका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस का कहना है कि प्रारंभिक हवाई हमलों में अमरीकी हार की कोई रिपोर्ट नहीं है। उन्होंने हमले करने की संभावना को खारिज किए बिना कहा , ” फिलहाल यह एकमात्र हमला है। मैटिस ने कहा कि रासायनिक हथियार बनाने में असद के मददगार विभिन्न स्थलों पर हमला किया गया है। ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि हमले के प्रभावों का आकलन किया जाना अभी बाकी है।

उधर, ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने आज कहा कि उन्होंने ब्रिटेन की सेनाओं को सीरिया के रासासनिक हथियारों के ठिकानों को नष्ट करने के लिए हमले करने का आदेश दिया है। ट्रंप ने सीरिया हमले को लेकर रूस को घेरा है। ट्रंप ने कहा कि सीरिया पर हुआ हमला असद के रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल को रोकने की रूस की विफलता का प्रत्यक्ष परिणाम है। ट्रंप ने कहा है कि सीरिया पर अमरीकी हमलों की ब्रिटिश, फ्रांसीसी सहयोगियों के साथ मिलकर शुरू की गई प्रक्रिया अब भी चल रही है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

राहुल गांधी ने रक्षामंत्री को राफेल मिनिस्टर कहा, इस्‍तीफा मांगा

नयी दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण पर राफेल डील को लेकर एक बार फिर से हमला बोला है। राहुल गांधी ने राफेल विमान सौदे का ठेका सरकारी उपक्रम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को नहीं दिए [Read more...]

बागड़ी मार्केट के ए ब्लाक से मिला डीजल भरा कनस्तर

कोलकाता : शनिवार की देर रात बागड़ी मार्केट में लगी आग को 4 दिन बाद भी पूरी तरह से तो बुझाया नहीं जा सका है। इसबीच बुधवार को मार्केट के भीतर ए ब्लॉक से बोतल में बंद लगभग 20 लीटर [Read more...]

मुख्य समाचार

केरल के विधायक फिर तलब

नयी दिल्लीः राष्ट्रीय महिला आयोग ने जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली नन के खिलाफ कथित तौर पर अभ्रद भाषा का इस्तेमाल करने पर केरल के निर्दलीय विधायक पीसी जॉर्ज को समन जारी कर उन्हें [Read more...]

केरल कांग्रेस के अध्यक्ष बने रामचंद्रन

तिरुअनंतपुरमः कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत द्वारा बुधवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री मुल्लापल्ली रामचंद्रन के केरल राज्य कांग्रेस अध्यक्ष बनाये जाने की घोषणा पर विधानसभा में विपक्ष के नेता रमेश चेन्नितला (कांग्रेस) ने कहा कि इससे पार्टी को आगामी लोकसभा चुनावों [Read more...]

ऊपर