बिहार विधानसभा में छात्रवृत्ति का मामला उठा

पटनाः बिहार विधानसभा में शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के घटक दलों ने पिछड़ा, अति पिछड़ा एवं दलित वर्ग के छात्रों को दी जाने वाली पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना को बंद किये जाने तथा तकनीकी संस्थानों में पढ़ रहे अनुसूचित जाति-जनजाति विद्यार्थियों को दी जा रही छात्रवृत्ति में कटौती के विरोध में शोरगुल और नारेबाजी की। शून्य काल के शुरू होते ही प्रतिपक्ष के नेता डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि राज्य सरकार ने पिछड़ा, अति पिछड़ा एवं दलित वर्ग के छात्रों को दी जाने वाली पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना बंद कर दी है। इस योजना के बंद कर दिये जाने के कारण गरीब छात्रों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में काफी कठिनाई हो रही है। उन्होंने कहा कि इसी तरह सरकार ने राज्य के बाहर तकनीकी संस्थानों में पढ़ रहे अनुसूचित जाति-जनजाति के छात्र-छात्राओं को दी जा रही छात्रवृत्ति में भी कटौती कर दी है, जिससे विद्यार्थियों का भविष्य अंधकार में चला गया है। डॉ. कुमार ने राज्य सरकार से पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना को फिर से शुरू करने और अनुसूचित जाति- जनजाति के छात्र-छात्राओं को दी जा रही छात्रवृत्ति में कटौती के संबंध में सदन के अंदर तुरंत वक्तव्य देने की मांग की। इस पर संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष यदि कार्य संचालन नियमावली के नियमों के तहत विषयों को उठाएंगे तो सरकार उस पर अवश्य संज्ञान लेगी। उन्होंने यह भी कहा कि वैसे भी सदन के अंदर जो भी मामले उठाये जाते हैं, उस पर संज्ञान लिया ही जाता है। भाजपा और उसके सहयोगी दल राष्ट्रीय लोक समता पार्टी तथा लोक जनशक्ति पार्टी  के सदस्य अपनी सीट से ही कुछ देर तक शोरगुल करते रहे। बाद में सभाध्यक्ष  विजय कुमार चौधरी के आग्रह पर सभी सदस्य शांत होकर अपनी सीट पर बैठ गये। सभा की कार्यवाही समाप्त होने के बाद प्रतिपक्ष के नेता डॉ. प्रेम कुमार ने  संवाददाताओं से कहा कि सरकार के इस निर्णय के कारण राज्य से बाहर पढ़ने  वाले अनुसूचित जाति-जनजाति के विद्यार्थी अपनी पढ़ाई छोड़कर घर वापस लौटने  को मजबूर हो गये हैं। डॉ. कुमार ने कहा कि राज्य सरकार ने छात्रवृत्ति की  राशि को डेढ़ लाख रुपये से घटाकर 75 हजार रुपये कर दी और अब मात्र 15 हजार  रुपये देने की बात कही जा रही है। जिन छात्रों ने चार वर्ष पूर्व संस्थानों  में नामांकन कराया है, उनको निकाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि वर्ष  2015-16 में जिन छात्रों ने नामांकन कराया है उन्हें ही 15 हजार रुपये  सरकार की ओर से मिलेगा।

लाठीचार्ज के विरोध में हंगामा

विधानसभा में राजद के घटक दलों ने शिक्षकों पर लाठी चार्ज के विरोध में जमकर हंगामा किया। ध्यानाकर्षण के बाद नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार ने शिक्षकों पर गुरुवार को हुए लाठी चार्ज के मामले को उठाया और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। इसके बाद भाजपा और उसके सहयोगी दल के सदस्य शोरगुल और नारेबाजी करते हुए सदन के बीच में आ गये। राजग सदस्यों के सदन के बीच में होने के बावजूद नेता प्रतिपक्ष को आसन की ओर से अपनी बात रखने का मौका दिये जाने पर संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने आपत्ति जाहिर की और कहा कि जब सदन व्यवस्थित नहीं है तब नेता प्रतिपक्ष कैसे भाषण दे रहे हैं?

Leave a Comment

अन्य समाचार

सृजन घोटाला: सुशील मोदी की बहन के घर आयकर का छापा

पटनाः बिहार के भागलपुर में हुए सृजन घोटाले से जुड़े मसले में गुरुवार को आयकर विभाग ने पटना में गुरुवार को उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की बहन रेखा मोदी के दफ्तर पर छापेमारी की। आयकर विभाग के अलावा इस छापेमारी में [Read more...]

खीर वाले बयान पर रालोसपा के उपेंद्र कुशवाहा की सफाई

पटनाः राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने सोमवार को अपने खीर वाले बयान पर सफाई दी। उन्होंने कहा- मैंने किसी दल से जोड़कर बातें नहीं की थीं। मैंने समाज को जोड़ने को लेकर [Read more...]

मुख्य समाचार

भाजपा के सामने किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय

नीमच : भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि देश में अब उनकी पार्टी के सामने कांग्रेस या अन्य किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं है। कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार दोपहर नीमच और जावद में कार्यकर्ताओं [Read more...]

नरेंद्र मोदी और अशरफ गनी के बीच हुई महत्वपूर्ण बैठक

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अशांत अफगानिस्तान में जारी शांति प्रक्रिया की स्थिति सहित अनेक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय एवं द्विपक्षीय मुद्दों पर बुधवार को यहां गहन विचार विमर्श किया। नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर [Read more...]

ऊपर