पालिका के भीतर की जंग का शिकार बन गये मनोज

हुगली : भद्रेश्वर के चेयरमैन के हत्याकांड में बनारस से गिरफ्तार 7 अभियुक्तों को चुंचुड़ा लाया गया। इस मामले अभियुक्तों की गिरफ्तारी के साथ ही पुलिस कई नयी उलझनों को सुलझाने में लगी है। मनोज उपाध्याय की हत्या गोली मारकर हुई लेकिन इनकी हत्या की वजह क्या थी ? इसे लेकर अभी भी संशय बना हुआ था लेकिन कुछ हद तक यह गुत्थी सुलझते हुए नजर आ रही है। एक आला पुलिस अधिकारी के अनुसार मनोज की हत्या नगरपालिका की भीतरी लड़ाई के कारण करायी गयी है। इस लड़ाई की वजह केवल पोजिशन व पैसा है। अधिकारी के अनुसार मनोज के पहले पालिका का चेयरमैन दीपक चटर्जी थे। और वे खुद नगरपालिका का उपचेयरमैन थे लेकिन अपने काम से उन्होंने चेयरमैन का पद हासिल किया। लड़ाई की शुरूआत तब से ही हुई। वह इलाके में इतने धाकड़ नेता के रूप में जाने जाते थे कि उनके अाने पर इलाके के कई अपराधी अपना अड्डा तक बंद कर चुके थे। इनके चेयरमैन बने रहने से उनके ही गुट के कुछ लोगों को आपत्ति थी। इसलिए कुछ भाड़े के शूटरों से उनकी हत्या करवा दी गयी। एक वरीष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार वह हत्या की कुछ गुत्थी को सुलझाने में सफल हो पायी है लेकिन अभी भी कई अनसुलझे सवाल के जवाब बाकी हैं।
अभियुक्तों के बयान में मिले विरोधाभास
इस मामले में चंदननगर के सीपी अजय कुमार के अनुसार मंगलवार को बनारस के सीजीएम कोर्ट में पुलिस ने सातों अभियुक्तों को 3 दिनों के पुलिस रिमांड में लिया। इसके बाद बनारस से इन सभी को चुचुड़ा लाया गया। सीपी के अनुसार पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ में इन सभी अभियुक्तों के विरोधाभास बयान मिले हैं। पुलिस गुरुवार को इन्हें चंदननगर के एसीजेएम की अदालत से रिमांड में लेकर क्रॉस वेरिफिकेशन व गहन पूछताछ करके इस हत्याकांड में अपराधियों की मंशा और अन्य किसी व्यक्ति के शामिल होने के बारे में भी पता लगाएगी । अजय के अनुसार गिरफ्तार किये गये अपराधियों में से रतन और राजू चौधरी के संगीन आपराधिक पृष्ठभूमि है। यह पहले भी कई हत्या , हत्या की कोशिश व फिरौती, रंगदारी के मामले में जेल की सजा काट चुके हैं।

एक्शन के समय घटनास्थल पर ही मौजूद था पार्षद  राजू साव

पुलिस सूत्रों के अनुसार इन अभियुक्तों ने उनके गहन पूछताछ में यह बताया है कि घटनास्थल के दिन चेयरमैन मनोज उपाध्याय के ऊपर गोली चलाए जाने की समय घटनास्थल पर ही भद्रेश्वर नगरपालिका के सात नंबर वार्ड का पार्षद राजू साव भी मौजूद था। बताया जा रहा है कि राजू साव के साथ चेयरमैन मनोज उपाध्याय की जाति दुश्मनी के अलावा राजनैतिक दुश्मनी भी थी। दूसरी तरफ पुलिस सूत्रों के अनुसार इन अपराधियो ने लगातार अपने ठिकानों का परिवर्तन करके पुलिस को गुमराह करने का काम किया।
मोबाइल ऑन होते ही मिला सुराग
पुलिस के अनुसार सातों अभियुक्त बनारस के बेनियाबाग इलाके के बांसतला में स्थित एक लॉज में रह रहे थे। मोबाइल फोन ऑन होते ही टावर लोकेशन, लोकल सोर्सेज और अन्य महत्वपूर्ण टेक्नोलॉजी की सहायता ली गयी। बाद में एडीसी डीडी अतुल विश्वनाथ के नेतृत्व में पुलिस की 2 टीमें स्थानीय क्राइम ब्रांच और एटीएस की टीम के साथ मिलकर लाज के कमरे से इन अपराधियों को धर दबोचा। सीपी ने बताया कि पुलिस की प्रारंभिक पूछताछ में यह पता चला है कि घटना को अंजाम देने के बाद ये अपराधी पहले कार द्वारा घटनास्थल से भागने में कामयाब रहे उसके बाद आवश्यकतानुसार उन्होंने ट्रेन का भी उपयोग किया। पहले ये अपराधी बिहार के पटना पहुंचे उसके बाद यूपी के बनारस में अपना आश्रय लिए हुए थे।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

चेयरमैन हत्याकांड में निर्दल पार्षद यूपी से गिरफ्तार

हुगली : भद्रेश्वर नगरपालिका के चेयरमैन मनोज उपाध्याय हत्याकांड में पुलिस ने मुख्य अभियुक्त निर्दल पार्षद राजू साव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने राजू के साथ उसके दो सहयोगियों प्रभु चौधरी व बाबान यादव को भी [Read more...]

सीएम का जिलों में तूफानी दौरा

कोलकाता : पंचायत चुनाव में भाजपा समेत सभी विरोधी दलों को शिकस्त देने के लिए तृणमूल कांग्रेस चुनावी मैदान में डट चुकी है। भाजपा को राज्य में एक इंच जमीन भी नसीब ना हो उसके लिए खुद तृणमूल सुप्रीमो व [Read more...]

मुख्य समाचार

चेयरमैन हत्याकांड में निर्दल पार्षद यूपी से गिरफ्तार

हुगली : भद्रेश्वर नगरपालिका के चेयरमैन मनोज उपाध्याय हत्याकांड में पुलिस ने मुख्य अभियुक्त निर्दल पार्षद राजू साव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने राजू के साथ उसके दो सहयोगियों प्रभु चौधरी व बाबान यादव को भी [Read more...]

सीएम का जिलों में तूफानी दौरा

कोलकाता : पंचायत चुनाव में भाजपा समेत सभी विरोधी दलों को शिकस्त देने के लिए तृणमूल कांग्रेस चुनावी मैदान में डट चुकी है। भाजपा को राज्य में एक इंच जमीन भी नसीब ना हो उसके लिए खुद तृणमूल सुप्रीमो व [Read more...]

उपर