धर्म के नाम पर लोगों को बांटना चाहती है भाजपा

ममता मिलीं नवीन से, कहा – हम दोनों साथ हैं
भाजपा को रोकने के लिए क्षेत्रीय पार्टियां एकजुट हों 

भुवनेश्वर/ कोलकाता : बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि वह (भाजपा) धर्म और जाति के नाम पर लोगों को बांटना चाहती है। भाजपा विभाजन की राजनीति कर रही है। देश में बेहतर संघवाद के लिए सभी क्षेत्रीय पार्टियां मिलकर काम करें। साथ मिलकर ही भाजपा को हरा सकती हैं। 3 दिवसीय दौरे पर ओडिशा गयीं ममता बनर्जी ने कोलकाता वापसी के दौरान गुरुवार को ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक से उनके आवास पर मुलाकात कीं। नवीन पटनायक ने भले ही कहा कि यह सौजन्यतामूलक मुलाकात थी, इसका रानजीति से कोई लेनदेन नहीं है लेकिन सूत्रों के मुताबिक 15 मिनट तक चली बैठक में विभिन्न मुद्दों पर बातचीत हुई। बैठक के बाद पत्रकारों से रूबरू होते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि भाजपा धर्म, क्षेत्र एवं जाति के नाम पर देश को बांटने की कोशिश कर रही है। वे हिंदुओं को मुस्लिमों से, ईसाइयों को हिंदुओं से लड़ा रही है और यह सिलसिला चलता रहता है। सीएम ने कहा कि भाजपा का कोई थ्रेट नहीं है। क्षेत्रीय पार्टियां साथ मिलकर उसे पराजित कर सकती हैं। क्षेत्रीय पार्टियों को हमेशा ही मजबूत कड़ी की तरह साथ रहना होगा। इसे नियमित कार्यक्रम में शामिल करना होगा। हमलोग चाहते हैं देश का संघवाद और मजबूत हो। सभी राज्य ही महत्वपूर्ण हैं।
उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले ही भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक भुवनेश्वर में हुई तथा यहां से अमित शाह ने ओडिशा और बंगाल दाेनों राज्यों में आगे बढ़ने की रूप रेखा तय की। अभी हाल में ओडिशा में सम्पन्न पंचायत चुनावों में भाजपा को बड़ी कामयाबी मिली है, वहीं बंगाल के एक विधान सभा क्षेत्र में हुए उपचुनाव में वह दूसरी सबसे बड़ी पार्टी होकर उभरी है। ऐसे में ममता और नवीन की बैठक अहम मानी जा रही है।

आज तृणमूल का सांगठनिक चुनाव

ममता कर सकती हैं अहम घोषणाएं

कोलकाता : जमीनी स्तर पर संगठनात्मक चुनाव प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद तृणमूल कांग्रेस का राष्ट्रीय स्तर पर सांगठनिक चुनाव आज 21 अप्रैल को होगा। माना जा रहा है कि इस चुनाव के बाद पार्टी सुप्रीमो ममता बनर्जी 2019 के लोकसभा चुनाव की रूपरेखा तय करेंगी। नेताजी इंडोर स्टेडियम में आज राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा। वहीं वर्किंग कमेटी का भी निर्वाचन हो सकता है। यह निर्वाचन 5 वर्ष के अंतराल पर होता है। निर्वाचन आयोग ने पिछले वर्ष तृणमूल कांग्रेस को राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा दिया। इधर, तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि ममता बनर्जी फिर से सर्वसम्मति से पार्टी अध्यक्ष चुन ली जाएंगी, सभी यह देखना चाहेंगे कि संगठन में कोई पद पर बदलाव होता है या नहीं। तृणमूल सूत्रों के मुताबिक पार्टी प्रमुख कई अहम फैसले भी ले सकती हैं।

 

 

 

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

रैगिंग मामले में दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा

कोलकाता : रैगिंग मामले में सरकार की तरफ से सभी कॉलेजों को सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है। इसके बावजूद भी अगर एेसी घटना घटती है तो उसका हम समर्थन नहीं करेंगे। रैगिंग मामले में जांच करने के बाद [Read more...]

सरकार चलाने लायक नहीं है भाजपा : ममता

कोलकाता : मुख्यमंत्रीममता बनर्जी ने एक बार फिर भाजपा पर जमकर हमला बोला। बुधवार को मेयो रोड के गांधी मूर्ति के निकट तृणमूल युवा कांग्रेस द्वारा आयोजित संहति दिवस की सभा को संबोधित करते हुए भाजपा पर एक के बाद [Read more...]

मुख्य समाचार

मुकुल राय को बड़ा झटका, नहीं मिली मोहलत

कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी की तरफ से भाजपा नेता मुकुल राय के खिलाफ दायर मामले में अदालत से मुकुल राय को कोई मोहलत नहीं मिली। अलीपुरदुआर के सिविल जज ने मामले की सुनवायी करते हुए आदेश [Read more...]

नियम के विरुद्ध नहीं लिया जाएगा कोई फैसला – वीसी

कोलकाता : सीयू के बंगला विभाग में गत 2 दिनों से चल रहा विवाद अखिरकार खत्म हुआ। बंगला विभाग के कुछ छात्र अनिवार्य अटेंडेंस ना होने के बावजूद आगामी 27 फरवरी को होने वाली प्रथम वर्ष की परीक्षा में बैठने [Read more...]

राज्य में चालू होगा देश का पहला हाइड्रो इंफोरमेटिक कोर्स – राजीव बनर्जी

मॉन्टेनीग्रो स्थित अमेरिकी दूतावास पर ग्रेनेड फेंकने के बाद खुद को उड़ाया

ब्रिटिश संसद के बाहर अंग्रेज ने भारतीय सिख की पगड़ी खींची

गोलीबारी की घटनाओं पर लगेगी रोक, शिक्षक होंगे हथियारबंद : ट्रंप

टेरर फंडिंग : पाक को सऊदी अरब, चीन और तुर्की का साथ मिला

पूर्वोत्तर के लिए विजन ‘ट्रांसपोर्टेशन और ट्रांसफॉर्मेशन’ से ही होगा नागालैंड का विकासः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

जीवन में संतुलन बनाये रखने का एकमात्र साधन ध्यान

भारत आए कनाडाई पीएम ने खालिस्तानी आतंकी को रात्रिभोज पर बुलाया, बवाल मचने पर निमंत्रण को रद्द किया

उपर