15 मार्च तक 72 हजार शिक्षकों की नियुक्ति – पार्थ

कोलकाता : आगामी 15 मार्च तक राज्य में कुल 72 हजार शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी। इसके तहत प्राथमिक स्तर पर 42 हजार शिक्षकों के अलावा उच्च प्राथमिक, माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्तर पर 30 हजार शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी। इस बीच प्राथमिक स्तर पर शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया भी शुरू की जा चुकी है। उक्त बातें राज्य के शिक्षा व संसदीय मामलों के मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहीं। उन्होंने कहा कि कुछ लोग बेवजह कोर्ट में याचिका दायर कर शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया में बाधा पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे लोगों से आवेदन है कि नियुक्ति प्रक्रिया में बाधा न पहुंचाकर अपनी समस्याओं से हमें अवगत कराएं। पार्थ ने कहा कि गत 34 वर्षों में माकपा के शासनकाल में शिक्षा व्यवस्था में कोई सुधार नहीं किया गया। माकपा के शासन में स्कूलों में शिक्षकों व छात्रों का अनुपात भी ठीक नहीं था जिसे अब ठीक करने की कोशिश की जा रही है। टेट के परीक्षा परिणाम को लेकर उन्होंने कहा कि जिन परीक्षार्थियों के पास एसएमएस या ईमेल गये उन्हें टेट में चुना गया है। टेट में न चुने जाने के कई कारण हैं। पहला कारण आरक्षण नीति है, दूसरा कारण है कि कुछ परीक्षार्थियों का कहना था कि उन्होंने बी. एड. किया है, लेकिन उनके सर्टिफिकेट में गड़बड़ी देखी गयी। इसके अलावा कुछ परीक्षार्थियों ने फॉर्म में पैरा टीचर लिखा है, लेकिन असल में वह पैरा टीचर नहीं हैं। कई ऐसे आवेदन भी आये जिन्होंने फॉर्म में ‘ट्रेन्ड’ लिखा था, लेकिन असल में वे प्रशिक्षित नहीं हैं। वहीं सिंगुर के मुद्दे पर पार्थ ने कहा कि इस शिक्षा सत्र से ही आठवीं कक्षा की इतिहास की पुस्तक में सिंगुर का अध्याय शामिल किया जाएगा। स्कूलों में पुस्तकें देनी शुरू की जा चुकी हैं, जहां – जहां पुस्तकें नहीं भेजी गयी हैं, उन स्कूलों में भी जल्द से जल्द पुस्तकें भेजने के निर्देश दिये गये हैं। इसके अलावा तेभागा आंदोलन को भी पाठ्य पुस्तक में शामिल किया जा सकता है।
इधर, विधानसभा में वरिष्ठ नेता अब्दुल मन्नान के साथ हुए आचरण को लेकर पार्थ ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी स्वयं अब्दुल मन्नान से मिलने अस्पताल गयी थीं। ऐसी राजनीतिक सौजन्यता केवल ममता बनर्जी ही निभा सकती हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष राजनीतिक सौजन्यता भूल चुका है जिस कारण सोमवार को भी विपक्ष ने विधानसभा में तांडव मचाया। उन्होंने कहा कि अब राम और श्याम (माकपा व कांग्रेस) एक हो गये हैं। लाल व तिरंगा एक साथ मिलकर राजनीतिक सौजन्यता भूलकर काम कर रहे हैं। उन्होंने विपक्ष से विधानसभा की कार्यवाही में शामिल होने की भी अपील की।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

मुख्य समाचार

‘सबका साथ सबका विकास’ के मिशन के साथ आगे बढ़ रहा छत्तीसगढ़ : मोदी

रायपुरः छत्तीसगढ़ के एक दिवसीय संक्षिप्त दौरे पर शनिवार को गये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जांजगीर चांपा जिला में अटल विकास यात्रा के दौरान कृषक सम्मेलन में कहा कि रमन सिंह सरकार ने छत्तीसगढ़ को प्रगति करने वाले राज्यों में [Read more...]

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

ऊपर