ममता मिलीं आडवाणी व अखिलेश से

नयी दिल्ली / कोलकाता : बंगाल की सीएम ममता बनर्जी का सोमवार को दिल्ली में बेहद ही व्यस्त कार्यक्रम रहा। राज्य की विकास योजनाओं से संबंधित फंड को लेकर वह पीएम नरेंद्र मोदी से मिलीं। सुबह प्रधानमंत्री से साउथ ब्लाक में मिलने के बाद ममता ने संसद भवन में भी कई अन्य राजनीतिज्ञों से मुलाकात की। इनमें भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक भी थे। आडवाणी से उन्होंने संसद भवन में स्थित राजग के दफ्तर में मुलाकात की थी,जबकि पटनायक से संसद के केन्द्रीय कक्ष में करीब पांच मिनट तक बात की। उन्होंने कहा वे जब भी दिल्ली आती हैं तो ‘आडवाणी जी’ से उनका ‘हालचाल’ जानने के लिए मिलती हैं।  ममता ने बताया कि ये मुलाकात अनौपचारिक थी। ममता बनर्जी ने कहा भी कि वे नवीन पटनायक के स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए उनसे मिली हैं। पटनायक पिछले कुछ महीनों से अस्वस्थ चल रहे हैं। इसके अलावा संसद भवन स्थित दफ्तर में ममता बनर्जी से मिलने शिवसेना के संजय राउत और इसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलामनबी आजाद और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल आए थे। ममता बनर्जी और कांग्रेस के नेताओं में करीब 45 मिनट तक अलग से बैठक हुई। इस बैठक के बारे में पूछने पर ममता बनर्जी ने केवल इतना बताया कि ईवीएम मशीन के मुद्दे पर वे चुनाव आयोग से मिलने जा रहे हैं। शाम 6 बजे ममता बनर्जी ने समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से साउथ एवेन्यू स्थित अपने निवास पर मुलाकात की। अखिलेश अकेले ही उनसे मिलने आए थे। उनकी और ममता बनर्जी के बीच यह बैठक 45 मिनट तक चली। इसके बाद अखिलेश यादव मीडिया से बिना बात किए सीधे चले गए।  यह मुलाकात इस लिहाज से महत्वपूर्ण है कि उत्तर प्रदेश चुनावों मेंं भारतीय जनता पार्टी के प्रदर्शन के बाद विभिन्न गैर भाजपायी दल उसके प्रदर्शन को रोकने के लिये महा-गठबंधन का आह्वान करते रहे हैं। तृणमूल कांग्रेस भाजपा की मुखर आलोचक रही है। कई मौकों पर यह संकेत दे चुकी हैं कि गैर भाजपायी दलों को हाथ मिलाना चाहिये।  इधर, राजनीतिक गलियारे में एक साथ आडवाणी, नवीन पटनायक, अखिलेश यादव और अहमद पटेल गुलाम नवी से हुई मुलाकात को ‘खास’ माना जा रहा है। इस मुलाकात के बाद हुई बातचीत में उन्होंने विपक्षी गठजोड़ की संभावना से इंकार नहीं किया। राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर पूछे किसी सवाल का जवाब नहीं दिया। नारदा कांड के बारे में पूछे सवाल को भी उन्होंने इसे ‘कोर्ट का मामला’ बता कर टाल दिया। पर उन्होंने इस मामले में गिरफ्तार पार्टी संसदीय दल के नेता सुदीप बंद्योपाध्याय की तबीयत को लेकर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि तीन-चार महीने से सुदीप बंद्योपाध्याय ओडिशा के जेल में हैं। अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। पर यह बंगाल में भी हो सकता था। उन्होंने नारदा मामले में यह भी कहा कि इस मामले में कोई जान नहीं है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

नदी में 12 किमी पीछा कर फिल्मी स्टाइल में कस्टम्स ने पकड़ा 3 करोड़ का गार्मेंट

काफी दिनों से चल रहा था समुद्री रास्तों से तस्करी का खेल गोली चलाए जाने से डरे तस्कर ट्रॉलर छोड़कर भागे कोलकाता : नदी में 12 किमी. पीछा कर फिल्मी स्टाइल में कस्टम्स की पी एंड आई यूनिट ने 3 करोड़ की [Read more...]

2019 चुनाव का शंखनाद होगा ब्रिगेड की मेगा रैली से

ममता का अनुमान : 125 सीटों पर सिमट जाएगी भाजपा कोलकाता : लोकसभा चुनाव से पहले 19 जनवरी यानी शनिवार को होने वाली मेगा ब्रिगेड रैली पर देश के राजनीतिज्ञों की निगाहें टिकी हैं। इस मंच से 2019 के लोकसभा चुनाव [Read more...]

मुख्य समाचार

उत्तर प्रदेश में गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण पर कैबिनेट की मुहर

लखनऊः कैबिनेट की बैठक में यूपी में गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण लागू करने के प्रस्ताव पर फैसला लिया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके लिए अध्यादेश के मसौदे को भी मंजूरी दे दी है। इसके तहत [Read more...]

फिल्म रिव्यूः वाय चीट इंडिया

पराग छापेकर- स्टार कास्ट: इमरान हाशमी , श्रेया धनंवतरी- निर्देशक: सौमिक सेन- निर्माता: भूषण कुमार, अतुल कसबेकर इमरान हाशमी की फिल्म 'वाय चीट इंडिया' शुक्रवार को बड़े पर्दे पर रिलीज हो गई है। फिल्म शिक्षा व्यवस्था में फैले भ्रष्टाचार [Read more...]

ऊपर