बैलेट पेपर पर बोलीं ममता : ‘ओल्ड इज आलवेज गोल्ड’

नई दिल्ली/ कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो व बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ईवीएम के जरिए हो रहे मतदान के खिलाफ हैं। उनका मानना है कि ईवीएम के जरिए चुनाव में गड़बड़ी हो सकती है। वैकल्पिक व्यवस्था के बारे में उनका साफ कहना है कि जैसे पहले मतपत्रों के माध्यम से चुनाव होते थे, वह तरीका सही है और उसे ही अपनाना चाहिए। उन्होंने साथ ही यह टिप्पणी भी की ‘ओल्ड इज आलवेज गोल्ड’।  ईवीएम को लेकर सोमवार को 15 राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि ने चुनाव आयोग से मुलाकात की। तृणमूल कांग्रेस भी इस प्रतिनिधिमंडल में शामिल थी। ममता बनर्जी से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा लोकतंत्र में यदि प्रमुख राजनीतिक पार्टियां ईवीएम का विरोध करती हैं तो चुनाव आयोग को इसका संज्ञान लेना चाहिए। ममता ने कहा कि उन्होंने काफी पहले ईवीएम का विरोध किया था। 2006 में उन्होंने ईवीएम पर एक किताब भी लिखी थी जिसमें इस वोटिंग मशीन की तकनीकी गडबड़ियों के बारे में भी लिखा था। उन्होंने कहा जिस तरह माकपा चुनाव में जीती थी उसके बाद उन्हें ईवीएम पर संदेह हुआ था। उन्होंने बताया कि उस दौरान ईवीएम को लेकर उन्होंने फ्लोरिडा की एक अदालत में अपनी तरफ एक शपथ पत्र भी दाखिल किया था। यह पूछे जाने पर कि मतदान के लिए उनकी समझ से दूसरा विकल्प क्या हो सकता है, ममता ने कहा कि उन्हें शुरू से पुराने मतदान प्रणाली पर भरोसा रहा है। ओल्ड इज आलवेज गोल्ड। उन्होंने कहा कि इससे क्या फर्क पड़ता यदि इस प्रणाली को अपनाने के लिए कुछ ज्यादा कर्मचारी लगाने पड़ें, कुछ ज्यादा पैसा खर्च करना पड़े। लोकतंत्र में निष्पक्ष चुनाव का भरोसा होना मायने रखता है। यदि ज्यादातर राजनीतिक दल ईवीएम पर भरोसा नहीं करते तो चुनाव आयोग को इसे हटा देना चाहिए। भाजपा के खिलाफ ‘विपक्षी महाजोट’ के बारे में ममता ने अपनी सहमति जाहिर की। उनका कहना है कि इसके लिए राजनीतिक पार्टियां सामने आकर एक साथ इस दिशा में कोशिश करती हैं तो इसमें उनका भी समर्थन रहेगा। उन्होंने कहा कि ‘राजनीति में किसी रास्ते पर आगे बढ़ने से ही आगे रास्ता दिखाई देता है। कांग्रेस और ‘आप’ जैसी पार्टियों के आपसी अंतर्विरोध से उत्पन्न होने वाली कठिनाईयों के मामले में ममता ने सकारात्मक रुख दिखाते हुए यह कहा कि किसी रास्ते पर चलने पर कोई अवरोध सामने आता है तो दूसरा रास्ता अपने आप खुल जाता है। राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव इसी वर्ष होने वाले हैं। इस मुद्दे पर विपक्षी एकजुटता या विपक्ष के साझा किसी उम्मीदवार के बारे पूछे सवालों पर ममता ने जवाब देने से मना कर दिया। इसी तरह तीस्ता के मामले में उन्होंने कहा कि मैंने सुझाव दिए हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

बागड़ी मार्केट की आग से प्रभावित हुआ महानगर के मेडिकल स्टोर्स का स्टॉक

कोलकाता : गत शनिवार को बागड़ी मार्केट में लगी आग के बाद मंगलवार को भी रह- रह कर भवन के तीसरे और चौथे तल्ले से उठती आग की लपटों को देखा जा सकता था। इस भयावह आग में हजारों लोगों [Read more...]

बड़ा सवाल : कब तक सिफारिशों पर टिकी रहेगी बड़ाबाजार की सुरक्षा

नियमों को ताक पर रखकर चलती है बड़ाबाजार में कई दुकानें सोनू ओझा कोलकाता : अग्निकांड जिसकी लपटों में न जाने कितने ही व्यवसायियों की कमर तोड़ कर रख दी मगर अफसोस इससे सबक लेने की जगह अभी भी बड़ाबाजार में सिफारिश [Read more...]

मुख्य समाचार

भाजपा के सामने किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय

नीमच : भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि देश में अब उनकी पार्टी के सामने कांग्रेस या अन्य किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं है। कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार दोपहर नीमच और जावद में कार्यकर्ताओं [Read more...]

नरेंद्र मोदी और अशरफ गनी के बीच हुई महत्वपूर्ण बैठक

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अशांत अफगानिस्तान में जारी शांति प्रक्रिया की स्थिति सहित अनेक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय एवं द्विपक्षीय मुद्दों पर बुधवार को यहां गहन विचार विमर्श किया। नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर [Read more...]

ऊपर