पार्टी लाइन से ऊपर उठकर नेताओं ने की निंदा

कोलकाता : यूपी में भाजपा के युवा नेता योगेश वार्ष्णेय द्वारा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ दिये गये बयान की राज्य के नेताओं ने भी पार्टी लाइन से ऊपर उठकर निंदा की है।
तृणमूल ने कहा, ‘तुरंत गिरफ्तार किया जाए अभियुक्त को’
योगेश के बयान की निंदा करते हुए तृणमूल के महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा, ‘दिल्ली में केंद्र से हम पूछ रहे हैं कि योगेश को गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है ? उसने जो किया है, वह संविधान के खिलाफ है। क्या किसी को कुछ भी कहने का अधिकार है ? राजनीति इस प्रकार के शब्दों के इस्तेमाल की अनुमति नहीं देती है।’
पार्थ ने कहा कि 90 के दशक में भी ममता बनर्जी को मारने की कोशिश की गयी थी। उन्होंने कहा, ‘उन्हें (भाजपा) यह पता नहीं कि ममता बनर्जी को जान से मारने की साजिश पहले भी रची जा चुकी है। वे लोग अलीगढ़ या दिल्ली में बैठे – बैठे बड़ी – बड़ी बातें करते हैं। ऐसे लोग राजनीति में दुष्ट तत्व होते हैं। प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष से लेकर अलीगढ़ में योगेश तक भाजपा के नेताओं ने अपनी शब्दावली में केवल गंदे शब्दों का इस्तेमाल करना ही सीखा है। बंगाल में अगर काेई भाजपाई सीएम के खिलाफ कुछ कहेगा तो फिर उसका जवाब देने के लिए व सीएम की रक्षा के लिए हजारों व लाखों तृणमूल समर्थक सड़क पर उतरेंगे। भाजपा का कोई जनाधार नहीं है। वह हथियार के साथ राजनीति कर रही है। बंगाल में 70 के दशक में हम ऐसी राजनीति देख चुके हैं और ऐसी राजनीति को राज्य पहले भी नकार चुका है।’
योगेश के बयान की निंदा करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘ममता बनर्जी की तुष्टीकरण की राजनीति के कारण लोगों का उनके प्रति गुस्सा है, लेकिन इसके बावजूद भाजपा किसी प्रकार की हिंसात्मक राजनीति का समर्थन नहीं करती है। ऐसे बयान की पार्टी निंदा करती है।’ वहीं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने भी योगेश के बयान की निंदा की और कहा, ‘भाजपा इस प्रकार की राजनीति की निंदा करती है, लेकिन जब पश्चिम बंगाल के मंत्रियों की मौजूदगी में देश के प्रधानमंत्री के खिलाफ फतवा जारी किया गया था तो उस समय उसकी भी निंदा होनी चाहिए थी।’
भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने कहा, ‘ऐसे बयान देने वाला भाजपा का नेता है कि नहीं, इसमें भी संदेह है। कोई जेहादी ही इस तरह के बयान दे सकता है।’
इस संबंध में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘हम लोग इस प्रकार के अभद्र बयानों के सख्त खिलाफ हैं। ऐसे बयान न केवल हिंसा को बढ़ावा देते हैं बल्कि ध्रुवीकरण का माहौल भी उत्पन्न करते हैं। योगेश के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की आवश्यकता है।’
वहीं माकपा के विधायक सुजन चक्रवर्ती ने कहा, ‘योगेश के खिलाफ उचित कार्रवाई करनी होगी। पुलिस को भी कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। यह एक गैर व्यावहारिक और अभद्र बयान है।’

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

ब्रेकिंग न्यूजः 26 को भाजपा ने बुलाया बंद

कोलकाताः इस्लामपुर में 2 छात्रों की मौत की घटना के खिलाफ प्रदेश भाजपा ने 26 सितंबर को राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है। इस घटना को लेकर राजनीतिक उफान चरम पर है। वहीं प्रशासन के खिलाफ लोगों का गुस्सा साफ [Read more...]

बागड़ी मार्केट में लगा ताला

सोमवार को निकाला जाएगा मार्केट के भीतर का सामान कोलकाता : एक सप्ताह पहले तक जिस बागड़ी मार्केट में चहल-पहल थी आज वहां ताला झूल रहा है। 96 घंटों तक लगातार दावानल में जलते रहे बागड़ी मार्केट की आग बुझने के बाद [Read more...]

मुख्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

ऊपर