जीआरएसई की सुरक्षा का भार लेगा सीआईएसएफ

कोलकाता : सीआईएसएफ कर्मियों का दस्ता जल्द ही गार्डनरीच शिपबिल्डर्स एण्ड इंजीनियर्स (जीआरएसई) की सुरक्षा का भार संभालेगा। उल्लेखनीय है कि जीआरएसई में भारतीय सेना के युद्धपोत का निर्माण कार्य होता है। रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, कुछ वर्षों पहले ही शिपयार्ड की ओर से रक्षा मंत्रालय से जीआरएसई में सीआईएसएफ की तैनाती का आग्रह किया गया था जिसे हाल में अनुमोदन मिला है। 400 से अधिक सीआईएसएफ कमांडो का दस्ता महानगर पहुंचने की तैयारी में है और जल्द ही सीआईएसएफ को जीआरएसई की सुरक्षा की जिम्मेवारी सौंप दी जाएगी। गत वर्ष कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स द्वारा डिफेंस के एक ठेका श्रमिक को गिरफ्तार किया गया था जो कि संदिग्ध आईएसआई एजेंट बताया गया था। भारत के महत्वपूर्ण शिपयार्डों में से एक जीआरएसई में वर्तमान समय में 15 जहाजों का निर्माण होता है जिसमें भारतीय सेना के पनडुब्बी रोधी युद्ध वाहक का निर्माण भी किया जाता है।

Leave a Comment

अन्य समाचार

‘गणपति बप्‍पा माेरया’ के नारों से गूंजे महानगर व उपनगर

कोलकाता : हर बार की तुलना में इस बार महानगर समेत उपनगरों में गणेश पूजा का उत्साह काफी अधिक देखने को मिल रहा है। गुरुवार से शुरू गणेश चतुर्थी की धूम विभिन्न स्थानों पर देखने को मिली। ‘गणपति बप्पा मोरया’ [Read more...]

सात राज्यों में भूकंप के झटके, सबसे ज्यादा तीव्रता असम में

नई दिल्लीः देश के सात राज्यों में बुधवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए। सबसे पहले सुबह 5:15 बजे कश्मीर में फिर 5.47 बजे हरियाणा और इसके बाद करीब 10:25 बजे असम, नगालैंड, मणिपुर, पश्चिम बंगाल और बिहार में [Read more...]

मुख्य समाचार

ब्रिटिश गोताखोर ने एलन मस्क पर किया मानहानि मुकदमा

कैलिफोर्नियाः थाईलैंड की गुफा में फंसे बच्चों को बचाने वाले ब्रिटिश गोताखोर वर्नोन अनस्वोर्थ ने अब इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला के सीईओ एलन मस्क के खिलाफ 75,000 डॉलर (54 लाख 40 हजार रुपए) का मानहानि का मुकदमा किया है। अनस्वोर्थ [Read more...]

पूर्व सीएफओ से केस हारी इंफोसिस, अब ब्याज सहित देने होंगे 12.17 करोड़

नई दिल्लीः भारत की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस मंगलवार को आर्बिट्रेशन केस हार गई है। अब उसे पूर्व सीएफओ राजीव बंसल को 12.17 करोड़ रुपये और ब्याज चुकाने होंगे। दरअसल, इंफोसिस के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी विशाल सिक्‍का के कार्यकाल [Read more...]

ऊपर