केंद्र को ममता का 72 घंटे का अल्टिमेटम

हालात सुधारें, वरना होगा आंदोलन तेज

इमरजेंसी से भी बदतर हालात

नोटबंदी की आड़ में कालाधन पनप रहा – केजरीवाल

नयी दिल्ली/ कोलकाता : राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नोट बैन को लेकर केंद्र सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए हालात सुधारने के लिए मोदी सरकार को तीन दिनों यानी 72 घंटे का अल्टिमेटम दिया है। इसके बावजूद हालात नहीं सुधारे तो आंदोलन तेज करने की चेतावनी भी उन्होंने दी।

गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आप पार्टी द्वारा आजादपुर मंडी में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए तृणमूल सुप्रीमो व सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि केंद्र सरकार की नोटबंदी जैसे गलत फैसले के कारण देश में अभूतपूर्व आर्थिक आपात की स्थिति पैदा हो गयी है जिससे आम आदमी का जीना मुहाल हो गया है। आज देश में आपातकाल से भी बुरे हालात हैं। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने तीन दिनों के अंदर हालात नहीं सुधारे तो वह राजनीतिक आंदोलन तेज करेंगी।

ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार को ललकारते हुए कहा कि बेशक उन्हें जेल में भर दिया जाये , गोली मार दो, हम पीछे हटने वाले नहीं है। उन्होंने कहा कि ‘हम डरते नहीं, लड़ते हैं।’ हम नेता से नहीं जनता से डरते हैं। उन्हाेंने सरकार पर देश को बेचने का आरोप लगाते हुए कहा कि देश को बेचा जा रहा है और संविधान को तोड़ा जा रहा है। हम इसकी अनुमति नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने का यह मतलब नहीं है कि मनमर्जी से फैसले लिये जाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह देश भर में घूमकर लोगों की राय जानेंगी। उन्होंने कहा कि यह अहम की लड़ाई नहीं है बल्कि आम जनता की रोजी -रोटी की लड़ाई है। जनता को पहले रोटी, कपड़ा व मकान चाहिए। उन्होंने सरकार से सबसे पहले मार्केट में पैसा डालकर बाजार चालू करने को कहा ताकि लोगों को रोटी,कपड़ा और मकान मिल सके। इस मामले की संयुक्त संसदीय समिति से जांच कराने की कुछ विपक्षी दलों की मांग से असहमति जताते हुए उन्होंने कहा कि जेपीसी मजाक है।

उन्होंने नोटबंदी पर सरकार की ओर से आये दिन बदले जा रहे प्रावधानों पर भी सवाल खड़ा किया। सीएम ने प्रधानमंत्री नरेंद मोदी के अच्छे दिन के वादे पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि ‘आपने कहा था अच्छे दिन आएंगे मगर आज हर आदमी रो रहा है। मंडी और बाजार में सब्जी न होने पर लोग क्या हीरा और एटीएम खायेंगे?’

ममता ने कहा की दिल्ली हो या कोलकाता हर जगह बॉर्डर पर ट्रकों की लंबी कतारें लगी हैं। सब्जी व फल भरे हैं जो ख़राब हो रहे हैं। आज नौबत यह आ गई है कि लोगों को रुपये निकालने के लिए हाथ पर काली स्याही लगवानी पड़ रही है। जिस जनता ने मोदी जी को कुर्सी दी, वह उसी पर विश्वास नहीं कर रहे हैं। यह जनता का अपमान है। उन्हें लगता है पूरी जनता चोर है और वह अकेले साधु हैं।

मोदी की विदेश यात्रा पर भी व्यंग्य करते हुए उन्होंने कहा कि विदेशों में घूम -घूमकर वह प्लास्टिक अर्थव्यवस्था की बात करने लगे हैं। उन्होंने कहा देश के आम आदमी को भूखे मरते छोड़कर आप विदेश चले जाएंगे पर हम विदेश नहीं जायेंगे। वहीं दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि नोटबंदी की आड़ में कालाधन पनप रहा है और भ्रष्‍टाचार बढ़ा है। इससे भ्रष्‍टाचार नहीं मिटेगा, भ्रष्‍टाचार के खिलाफ हमने भी लड़ाई लड़ी है और जान की बाजी तक लगा दी है।

केजरीवाल ने कहा, ‘मोदीजी ने विजय माल्या को एक ही रात में लंदन भेज दिया जिन पर बड़ा उधार है।’ केजरीवाल ने यह सवाल करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली पर भी प्रहार किया कि क्या उन्होंने हाल ही में अपनी बेटी की शादी पर बस 2.5 लाख रुपए ही खर्च किए? उन्होंने यहां आजादपुर फल और सब्जी मंडी में व्यापारियों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘मोदीजी, लाइन में खड़ा रहने को राष्ट्रभक्ति कहकर लोगों को बेवकूफ मत बनाइए।’

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

ब्रेकिंग न्यूजः 26 को भाजपा ने बुलाया बंद

कोलकाताः इस्लामपुर में 2 छात्रों की मौत की घटना के खिलाफ प्रदेश भाजपा ने 26 सितंबर को राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है। इस घटना को लेकर राजनीतिक उफान चरम पर है। वहीं प्रशासन के खिलाफ लोगों का गुस्सा साफ [Read more...]

बागड़ी मार्केट में लगा ताला

सोमवार को निकाला जाएगा मार्केट के भीतर का सामान कोलकाता : एक सप्ताह पहले तक जिस बागड़ी मार्केट में चहल-पहल थी आज वहां ताला झूल रहा है। 96 घंटों तक लगातार दावानल में जलते रहे बागड़ी मार्केट की आग बुझने के बाद [Read more...]

मुख्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

ऊपर