इलाज कराने में असमर्थ पिता ने की आत्महत्या

कोलकाता : बेटी की इलाज का खर्च उठाने में असमर्थ पिता ने पेड़ से लटक कर आत्महत्या कर ली। घटना बर्दवान के एक प्राइवेट नर्सिंगहोम की है जहां प्रसूता के इलाज के बाद अस्पताल की तरफ से 40 हजार रुपयों का बिल थमाया गया जिसे देखकर तपन लेट (48) के होश उड़ गये। पहले तो उसने रुपये जुगाड़ने की कोशिश की मगर जब रुपयों का जुगाड़ नहीं हो पाया तो उसने आत्महत्या कर ली।  तपन झारखण्ड के दुमका जिले के मालूटी गांव का रहने वाला था। तपन की बेटी चुमकी को प्रसव के लिए रामपुरहाट अस्पताल में भर्ती कराया गया था मगर उसकी हालत बिगड़ने के कारण गत 19 फरवरी को उसे बर्दवान मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में रेफर कर दिया गया था। आरोप है कि एम्बुलेंस के ड्राइवर ने बेहतर इलाज का झांसा देकर चुमकी को प्राइवेट नर्सिंगहोम ले गया। 21 फरवरी को तपन को प्रबंधन की तरफ से बिल की राशि बतायी गयी। आत्महत्या करने के बाद गांववालों ने चंदा संग्रह कर 12 हजार रुपए नर्सिंगहोम में जमा करवाये मगर प्रबंधन की तरफ से चुमकी को छुट्टी नहीं दी गयी। गांववालों ने डाॅक्टरों को तपन के आत्महत्या की बात भी बतायी लेकिन उसका कोई फायदा नहीं हुआ।

Leave a Comment

अन्य समाचार

सरकार बंद नहीं होने देगी : ममता

कोलकाता/इटली : सरकार बंद नहीं होने देगी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने साफ कह दिया है कि 26 सितंबर को बंद न हो उसके लिए प्रशासन की सक्रिय भूमिका रहेगी। सीएम ने कहा कि इस्लामपुर फायरिंग में दोनों छात्रों की माैत [Read more...]

जैन संप्रदाय की महिला बनी मुरारई की प्रधान

रामपुरहाट (बीरभूम) : जैन संप्रदाय की एक गृहवधू को प्रधान पद पर नियुक्त कर तृणमूल कांग्रेस ने मिसाल पेश की है। तृणमूल कांग्रेस का दावा है कि यह पहली बार है कि राज्य में किसी जैन संप्रदाय की महिला पहली [Read more...]

मुख्य समाचार

‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ ने फिर बनाया मुरीद

नयी दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर से अपने फैसले से साबित कर दिया कि डीआरएस के मामले में उनसे सटीक कोई नहीं है। अगर वह इशारा कर दें तो मान लीजिए [Read more...]

केजरीवाल ने शाह को दी बहस की चुनौती

नयी दिल्लीः भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर काम नहीं करने के बयान पर केजरीवाल ने रविवार को कहा कि जितना काम उन्होंने किया है उसे कोई चुनौती नहीं दे सकता। जनता की सेवा का [Read more...]

ऊपर