समाजवादी कुनबे में एक बार फिर सामने आई कलह, शिवपाल ने सेकुलर मोर्चा का किया गठन

लखनऊ : सपा (समाजवादी पार्टी) परिवार की जंग एक बार फिर बाहर चर्चा में आया। सपा में काफी समय से उपेक्षित चल रहे शिवपाल यादव ने बुधवार को समाजवादी सेकुलर मोर्चा के गठन का ऐलान कर सियासी गलियारे में हलचल मचा दी है। उन्होंने कहा कि सपा में जो उपेक्षित महसूस कर रहे हैं वह मेरे पास आएं। छोटे-छोटे दलों को भी जोडऩे की बात कही है। उन्होंने साफ किया कि वे समाजवादी पार्टी को नहीं छोड़ रहे हैं। शिवपाल यादव ने कहा मैंने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन किया है। जिस किसी का भी समाजवादी पार्टी में सम्मान नहीं हो रहा उन्हें हमारे साथ आना चाहिए। समाजवादी कुनबे में लंबे समय से चली आ रही कलह अब बगावत के रूप में सामने आ रही है। दरअसल अखिलेश यादव और शिवपाल के बीच रिश्ते में खटास 2017 में यूपी विधानसभा चुनाव के पहले आई थी। इसी का नतीजा था कि अखिलेश ने अपने चाचा शिवपाल को मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया था। इसके बाद मुलायम कुनबे की लड़ाई सड़क पर आ गई थी। हालांकि मुलायम सिंह यादव ने कई बार कुनबे को एक करने की कोशिश की, लेकिन वे कामयाब नहीं हो सके। इसी के चलते पिछले दिनों खबर आई कि शिवपाल बीजेपी का दामन थाम सकते हैं।

छोटी पार्टियों को भी जोड़ेंगे शिवपाल
हम अपने साथ छोटी पार्टियों को भी जोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि अब मुलायम सिंह यादव तय करें कि उन्हें क्या करना है? उनके इस कदम पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि इसमें कुछ नया नहीं है।शिवपाल ने मोर्चे की घोषणा के साथ कहा है कि सपा में मुझे काम करने की जिम्मेदारी (पद) नहीं दी जा रही है और न ही कोई मौका दिया जा रहा है। ऐसे में मेरे पास कोई रास्ता नहीं बचा था। इसी के मद्देनजर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने का फैसला किया है।

मुलायम किसके साथ होंगे इसका फैसला पार्टी करेगी
शिवपाल के इस फैसले पर जब अखिलेश यादव से सवाल किया गया तो वे इसे टालते नजर आए। हालांकि, उन्होंने इतना जरूर कहा कि इसमें कुछ नया नहीं है और जैसे-जैसे केंद्र व राज्य के चुनाव नजदीक आएंगे, ऐसी चीजें देखने को मिलेंगी। उन्होंने अमर सिंह का नाम लिए बिना कहा कि जो हुआ वो यही इशारा कर रहा है इससे पहले शिवपाल ने कहा कि लोकसभा चुनाव के वक्त ये तय होगा कि कौन कौन कहां से चुनाव लड़ेगा। शिवपाल ने कहा कि अब मुलायम सिंह यादव तय करेंगे वो क्या फैसला करेंगे। चुनाव में उनके खिलाफ उम्मीदवार उतारेंगे या नहीं इसका फैसला पार्टी करेगी।

शिवपाल ने कहा कि उन्हें किसी भी मीटिंग में नहीं बुलाया जाता
शिवपाल यादव ने कहा कि बीजेपी में जाने की अफवाह गलत है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी में नेताजी (मुलायम सिंह) का सम्मान न होने से आहत हूं। इसी तरह कई नेता ऐसे हैं जिनको पार्टी में उपेक्षित रखा गया है। शिवपाल ने कहा कि उन्हें भी किसी भी मीटिंग में नहीं बुलाया जाता। शिवपाल ने कहा इस मोर्चे के सहारे उपेक्षित दलों को भी जोड़ा जाएगा। समाजवादी सेक्युलर मोर्चा यूपी में नया सियासी विकल्प होगा। इससे पहले शिवपाल यादव ने मुलायम सिंह यादव से लोहिया ट्रस्ट में मुलाकात की। दोनों के बीच सेक्युलर मोर्चे के गठन और उसे मजबूत करने को लेकर मंत्रणा हुई थी। इसके बाद बीजेपी की सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने भी मंगलवार शाम को शिवपाल से मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात पर शिवपाल ने कहा कि सभी छोटे दलों को इस मोर्चे से जोड़ने की कोशिश की जा रही है।

Leave a Comment

अन्य समाचार

गाजीपुर मंडी में मुर्गा-मुर्गियों को मारने पर हाईकोर्ट की रोक

बूचड़खाना स्थापित करने की योजना पेश करने को कहा नयी दिल्ली : गाजीपुर मुर्गा मंडी में मुर्गा-मुर्गियों को मारने पर दिल्ली उच्च न्यायालय [Read more...]

गोपनीय सूचनाएं आईएसआई से साझा करने के आरोप में बीएसएफ का कांस्टेबल गिरफ्तार

नोएडा/लखनऊ : पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई की एक महिला एजेंट सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के कांस्टेबल अच्युतानंद मिश्र को हनीट्रैप में फंसा कर उससे गोपनीय सूचनाएं हासिल कर रही थी और उसे अपनी एजेंसी को भेज रही थी। कांस्टेबल को [Read more...]

मुख्य समाचार

5 प्रदेशों व चंडागढ़ में ईंधनों के एक समान दर रखने पर सहमति

चंडीगढ़ः वाहन ईंधनों के दर पिछले कई दिनों से रिकॉर्ड उच्च स्तर पर हैं। इसे देखते ह‌ुए केंद्र सरकार ने राज्यों से टैक्स घटाने की अपील की। इस पर ध्यान देते हुए दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तरप्रदेश और चंडीगढ़ [Read more...]

खनिज ईंधन पर निर्भरता घटाना चाहती है सरकारः गोयल

नयी दिल्लीः जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम करना ऊर्जा क्षेत्र में सरकार की नीति और कार्यक्रमों का प्रमुख लक्ष्य है। कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार विश्व ऊर्जा नीति शिखर सम्मेलन [Read more...]

ऊपर