समाजवादी कुनबे में एक बार फिर सामने आई कलह, शिवपाल ने सेकुलर मोर्चा का किया गठन

लखनऊ : सपा (समाजवादी पार्टी) परिवार की जंग एक बार फिर बाहर चर्चा में आया। सपा में काफी समय से उपेक्षित चल रहे शिवपाल यादव ने बुधवार को समाजवादी सेकुलर मोर्चा के गठन का ऐलान कर सियासी गलियारे में हलचल मचा दी है। उन्होंने कहा कि सपा में जो उपेक्षित महसूस कर रहे हैं वह मेरे पास आएं। छोटे-छोटे दलों को भी जोडऩे की बात कही है। उन्होंने साफ किया कि वे समाजवादी पार्टी को नहीं छोड़ रहे हैं। शिवपाल यादव ने कहा मैंने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन किया है। जिस किसी का भी समाजवादी पार्टी में सम्मान नहीं हो रहा उन्हें हमारे साथ आना चाहिए। समाजवादी कुनबे में लंबे समय से चली आ रही कलह अब बगावत के रूप में सामने आ रही है। दरअसल अखिलेश यादव और शिवपाल के बीच रिश्ते में खटास 2017 में यूपी विधानसभा चुनाव के पहले आई थी। इसी का नतीजा था कि अखिलेश ने अपने चाचा शिवपाल को मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया था। इसके बाद मुलायम कुनबे की लड़ाई सड़क पर आ गई थी। हालांकि मुलायम सिंह यादव ने कई बार कुनबे को एक करने की कोशिश की, लेकिन वे कामयाब नहीं हो सके। इसी के चलते पिछले दिनों खबर आई कि शिवपाल बीजेपी का दामन थाम सकते हैं।

छोटी पार्टियों को भी जोड़ेंगे शिवपाल
हम अपने साथ छोटी पार्टियों को भी जोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि अब मुलायम सिंह यादव तय करें कि उन्हें क्या करना है? उनके इस कदम पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि इसमें कुछ नया नहीं है।शिवपाल ने मोर्चे की घोषणा के साथ कहा है कि सपा में मुझे काम करने की जिम्मेदारी (पद) नहीं दी जा रही है और न ही कोई मौका दिया जा रहा है। ऐसे में मेरे पास कोई रास्ता नहीं बचा था। इसी के मद्देनजर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने का फैसला किया है।

मुलायम किसके साथ होंगे इसका फैसला पार्टी करेगी
शिवपाल के इस फैसले पर जब अखिलेश यादव से सवाल किया गया तो वे इसे टालते नजर आए। हालांकि, उन्होंने इतना जरूर कहा कि इसमें कुछ नया नहीं है और जैसे-जैसे केंद्र व राज्य के चुनाव नजदीक आएंगे, ऐसी चीजें देखने को मिलेंगी। उन्होंने अमर सिंह का नाम लिए बिना कहा कि जो हुआ वो यही इशारा कर रहा है इससे पहले शिवपाल ने कहा कि लोकसभा चुनाव के वक्त ये तय होगा कि कौन कौन कहां से चुनाव लड़ेगा। शिवपाल ने कहा कि अब मुलायम सिंह यादव तय करेंगे वो क्या फैसला करेंगे। चुनाव में उनके खिलाफ उम्मीदवार उतारेंगे या नहीं इसका फैसला पार्टी करेगी।

शिवपाल ने कहा कि उन्हें किसी भी मीटिंग में नहीं बुलाया जाता
शिवपाल यादव ने कहा कि बीजेपी में जाने की अफवाह गलत है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी में नेताजी (मुलायम सिंह) का सम्मान न होने से आहत हूं। इसी तरह कई नेता ऐसे हैं जिनको पार्टी में उपेक्षित रखा गया है। शिवपाल ने कहा कि उन्हें भी किसी भी मीटिंग में नहीं बुलाया जाता। शिवपाल ने कहा इस मोर्चे के सहारे उपेक्षित दलों को भी जोड़ा जाएगा। समाजवादी सेक्युलर मोर्चा यूपी में नया सियासी विकल्प होगा। इससे पहले शिवपाल यादव ने मुलायम सिंह यादव से लोहिया ट्रस्ट में मुलाकात की। दोनों के बीच सेक्युलर मोर्चे के गठन और उसे मजबूत करने को लेकर मंत्रणा हुई थी। इसके बाद बीजेपी की सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने भी मंगलवार शाम को शिवपाल से मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात पर शिवपाल ने कहा कि सभी छोटे दलों को इस मोर्चे से जोड़ने की कोशिश की जा रही है।

Leave a Comment

अन्य समाचार

भाजपा को हराने में फेल हुए तो बेचने पड़ सकते हैं पकौड़े : अखिलेश

इटावा : सामाजिक न्याय एवं प्रजातंत्र बचाओ देश बचाओ साइकिल रैली के मौके पर शुक्रवार को सैफई पंडाल में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए समाजवादी पार्टी अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने देश की [Read more...]

भीम आर्मी के संस्थापक रावण जेल से रिहा

सहारनपुर : भीम आर्मी के संस्थापक चन्द्रशेखर आजाद उर्फ रावण को शुक्रवार तड़के जेल से रिहा कर दिया गया। वे सहारनपुर में जातीय हिंसा भड़काने के आरोप में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून(रासुका) के तहत जेल में बंद थे। पुलिस सूत्रों ने [Read more...]

मुख्य समाचार

तमिलनाडु में भ्रष्टाचार के खिलाफ द्रमुक का प्रदर्शन

चेन्नईः तमिलनाडु की अन्नाद्रमुक सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए विपक्षी द्रमुक ने अपने पार्टी प्रमुख एमके स्टालिन के नेतृत्व में मंगलवार को पूरे राज्य में अन्नाद्रमुक के खिलाफ प्रदर्शन किया। स्टालिन के अलावा, उनके बेटे उदयनिधि, बहन कनिमोझी [Read more...]

तेलंगाना में टीआरएस के लिए भाजपा चुनौती : राव

हैदराबादः भाजपा प्रवक्ता व राज्यसभा सदस्य जीवीएल नरसिम्हा राव ने मंगलवार को कहा कि तेलंगाना में कांग्रेस-तेदेपा गठजोड़ से उसकी चुनावी संभावनाओं में सुधार हुआ और वहां वह खुद को टीआरएस के लिए मुख्य चुनौती मानती है क्योंकि पार्टी अपने [Read more...]

ऊपर