अखिलेश में दम होता तो बैसाखी के सहारे चुनाव में नहीं उतरते : भाजपा

सपा-कांग्रेस के गठबंधन पर राजनीतिक हलचल

नयी दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उत्तर प्रदेश में शनिवार को यमुना एक्सप्रेस-वे पर अपराधियों द्वारा एक फॉर्म हाउस में मां-बेटी से बलात्कार, डकैती और फिर सड़क पर बस यात्रियों से लूटपाट की घटना को राज्य की अखिलेश यादव सरकार के शासन में ध्वस्त कानून-व्यवस्था का एक और उदाहरण बताते हुए कहा है कि जब यह घटना हो रही थी तब सरकार के मुखिया का पूरा ध्यान कांग्रेस के
साथ गठबंधन एवं घोषणापत्र पर लगा हुआ था।
भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में विकास को लेकर जारी बहस में लखनऊ मेट्रो और अधूरे बने एक्सप्रेस-वे का नाम लिया जा रहा है। अखिलेश यादव सुबह योजनाओं का शिलान्यास करते हैं और शाम को उद्घाटन। समाजवादी पार्टी (सपा) के घोषणापत्र का उल्लेख करते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि अगर उनके घोषणापत्र में दम होता और अपने पांच साल के कामकाज पर भरोसा होता तो वे बैसाखी के सहारे चुनाव में नहीं उतरते। उन्होंने कहा कि भाजपा की चुनावी प्रचार की रणनीति पहले की तरह विकास पर
केन्द्रित रहेगी। इसमें कोई बदलाव नहीं आयेगा। किसान, गरीब,
पिछड़े और दलित के उत्थान के लिये काम करेगी।

कुशासन को ढंकने की कोशिश है सपा-कांग्रेस गठबंधन : ओवैसी

हैदराबाद : एआईएमआईएम के अध्यक्ष असादुद्दीन ओवैसी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए बने समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन को ‘विरोधाभासों से भरा बताते हुए’ कहा कि दोनों दलों ने अपनी कमजोरियों को छिपाने के लिए हाथ मिलाया है। ओवैसी ने दावा किया कि गठबंधन के तहत कांग्रेस जिन 105 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, उनमें से 20 उम्मीदवार सपा के हैं जो कांग्रेस के चुनाव चिह्न पर मैदान में हैं। ओवैसी की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहदुल मुस्लीमीन (एआईएमआईएम) भी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ रही है।  उन्होंने कहा कि गठबंधन का उद्देश्य अगर मुस्लिम वोट को मजबूत करना है तो 2014 के लोकसभा चुनाव में (उत्तर प्रदेश में) एक भी मुस्लिम उम्मीदवार को जीत क्यों नहीं मिली। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव अपने कुशासन को ढंकने की कोशिश कर रहे हैं और वह अपने वादे पूरे करने में नाकाम रहे हैं।’’ हैदराबाद से लोकसभा सदस्य ने कहा कि उत्तर प्रदेश के लोग 2012 का (सपा का) चुनाव घोषणापत्र और 2013 के मुजफ्फरनगर दंगे तथा अपूर्ण वादों को याद करेंगे।

सपा-कांग्रेस गठजोड़ में और दलों को शामिल करे : राकांपा

नयी दिल्ली : राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस के बीच गठजोड़ की सराहना करते हुए कहा कि छोटे धर्मनिरपेक्ष दलों को इसमें
शामिल करके इसका विस्तार किया जाना चाहिए।
लोकसभा में पार्टी के नेता तारिक अनवर ने यहां कहा कि गठजोड़ यद्यपि देर से हुआ है लेकिन यह राज्य के लोगों के हित में होगा। उन्होंने सपा और कांग्रेस से अपील की कि साम्प्रदायिक ताकतों का मुकाबला करने और राज्य से उनका सफाया करने के लिए वे और पार्टियों को इसमें शामिल करके इसे एक बड़ा गठजोड़ बनायें। उन्होंने कहा कि लगभग तीन सौ सीटें हासिल करने के लिए गठजोड़ के वास्ते यह जरूरी है कि सपा- कांग्रेस गठजोड़ छोटे दलों को उनकी ताकत के आधार पर इसमें स्थान दें।  अनवर ने आरक्षण पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विरोध के खिलाफ और साम्प्रदायिकता को हवा देने के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार का पर्दाफाश करने के लिए आंदोलन शुरू करने का भी आह्वान किया।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

बंद से बेअसहर रहा कोलकाता, जिलों में असर

बड़ाबाजार के कई हिस्सों में बंद का व्यापक असर कोलकाताः भाजपा की ओर से बुधवार को बुलाए गए 12 घंटे व्यापी बंद का असर जिलों में काफी हद तक नजर आया। हालांकि महानगर में इसके असर बेअसर रहा। वहीं बड़ाबाजार के [Read more...]

कमाई का जरिया भी आयुष्मान भारत योजना

आधार कार्ड की अनिवार्यता नहीं नयी दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को झारखंड की राजधानी रांची से पूरे देश में आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत कर चुके हैं। इस योजना के तहत लगभग 10 करोड़ परिवारों का 5 लाख रुपये वार्षिक [Read more...]

मुख्य समाचार

चुनाव में भाजपा विरोधी दलों का बिना शर्त समर्थन करूंगा : शंकर सिंह वाघेला

दिल्ली : गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला ने मोदी सरकार पर चुनाव पूर्व किये गये वादे पूरे नहीं करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि वह अगले चुनाव में इस सरकार को दुबारा सत्ता में आने से [Read more...]

कृपानाथ मल्लाह असम विधानसभा के उपाध्यक्ष निर्वाचित

गुवाहाटी : भारतीय जनता पार्टी के विधायक कृपानाथ मल्लाह को बुधवार को सर्वसम्मति से असम विधानसभा का उपाध्यक्ष निर्वाचित किया गया। विधानसभा के अध्यक्ष हितेंद्र नाथ गोस्वामी ने सदन में कृपानाथ मल्लाह को उपाध्यक्ष चुने जाने की घोषणा की। गोस्वामी ने [Read more...]

ऊपर