दो नई गेंदों के उपयोग से क्रिकेट से लुप्त हुआ रिवर्स स्विंगः सचिन

नयी दिल्लीः भारतीय क्रिकेटर टीम के पूर्व मशहूर मास्टर बलास्टर खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ने हाल ही में खेले गये वनडे मैच में लगे रनों की बौछार से अपनी चिंता व्यक्त की। सचिन ने वनडे मैच में दो नई गेंदों के उपयोग की टिप्पणी करते हुए ट्वीटर में लिखा यह नाकामी को न्योता देने जैसा है। सचिन ने ट्विटर पर लिखा ‘वनडे मैच में दो नई गेंदों का उपयोग नाकामी को बुलाने जैसा है । गेंद को उतना समय ही नहीं मिलता कि रिवर्स स्विंग मिल सके। हमने डेथ ओवरों में काफी वक्त से रिवर्स स्विंग नहीं देखी। हाल ही में इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध वनडे में सर्वोच्च स्कोर खड़ा किया था।

वकार यूनुस ने किया समर्थन

दूसरे तरफ रिवर्स स्विंग में महारथ हासिल किये हुए पाकिस्तान के वकार यूनुस ने सचिन की बातों का समर्थन करते हुए कहा कि यही वजह है कि अब आक्रामक तेज गेंदबाज नहीं निकलते है। सभी रक्षात्मक खेलते हैं। सचिन से पूरी तरह सहमत हूं। रिवर्स स्विंग लुप्त ही हो गई है। आईसीसी द्वारा अक्टूबर वर्ष 2011 में वनडे में दो नई गेंदों का प्रयोग शुरू किया गया था।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

किसान की बेटी, भारत की ‘उड़नपरी’

फिनलैंडः हिमा दास ने फिनलैंड में चल रही वर्ल्ड अंडर-20 एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के 400 मीटर ट्रैक इवेंट में स्वर्ण पदक जीता। दुनिया के किसी भी ट्रैक इवेंट में स्वर्ण जीतने वाली वे पहली भारतीय हैं। रोमानिया की एंड्रिया मिकलोस को [Read more...]

विनोद कांबली ने मॉल में मशहूर सिंगर के पिता को मारा मुक्का

मुंबईः विनोद कांबली और उनकी पत्नी एंड्रिया पर गायक अंकित तिवारी के पिता आरके तिवारी (58 वर्ष) से मारपीट और बदसलूकी का आरोप लगा है। वहीं, एंड्रिया ने आरके तिवारी पर बदनीयती से छूने का आरोप लगाया है। दोनों पक्षों [Read more...]

मुख्य समाचार

अफगान में आत्मघाती हमला, 7 मरे, 15 जख्मी

काबुलः अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में रविवार की शाम शाम करीब 4.30 बजे ग्रामीण पुनर्वास और विकास मंत्रालय के गेट के बाहर एक हमलावर ने खुद को विस्फोटक से उड़ा लिया। इस आत्मघाती हमले में आम लोग एवं सुरक्षाकर्मी समेत [Read more...]

भगवान जगन्नाथ का रथ गुंडिचा मंदिर पहुंचा

पुरीः भगवान जगन्नाथ का ‘नंदीघोष’ रथ रविवार को गुंडिचा मंदिर पहुंच गया। रथ यात्रा के दौरान शनिवार को बालागंडी चक पर इस रथ को रोकना पड़ा और उस दिन रथयात्रा पूरी नहीं हुई क्योंकि सूर्यास्त के बाद रथों को नहीं [Read more...]

ऊपर