साक्षी ने खत्म किया ‘कोच-विवाद’

नयी दिल्लीः ओलंपिक कांस्य पदक विजेता महिला पहलवान साक्षी मलिक ने स्पष्ट कर दिया कि ईश्वर दहिया और मनदीप उनके कोच हैं। इसके साथ ही कोच को लेकर चल रहा विवाद खत्म हो जाएगा। हरियाणा की साक्षी ने डैटसन रेडी गो स्पोर्ट कार की ब्रांड एम्बेसेडर बनने के बाद कहा ‘ ईश्वर और मनदीप ही मेरे कोच हैं। ईश्वर ने 2004 से लेकर 2009 तक मुझे कोचिंग दी थी और 2010 से अब तक मनदीप मेरे कोच हैं।’ रोहतक की साक्षी के इस बयान के बाद उनके कोच को लेकर चल रहे विवाद का पटाक्षेप हो जाना चाहिए। साक्षी को अपनी इस सीमित संख्या वाली कार का नया चेहरा घोषित करने के लिये आयोजित कार्यक्रम में इस पहलवान को रियो ओलंपिक खेलों में अपनी उपलब्धि के लिये नयी डैटसन रेडी गो स्पोर्ट कार देकर सम्मानित भी किया गया। निसान मोटर इंडिया के अरूण मल्होत्रा ने उन्हें यह कार सौंपी।

यह था विवाद

दरअसल साक्षी के ओलंपिक में पदक जीतने के बाद चार कोचों ने साक्षी का कोच होने का दावा किया है। साक्षी के पदक जीतने के बाद हरियाणा सरकार ने घोषणा की थी कि उनके कोच को 10 लाख रुपए का नगद पुरस्कार और पदोन्नति दी जाएगी। लेकिन चार कोचों के सामने आने के बाद राज्य सरकार ने इस फैसले को फिलहाल रोक दिया है और कहा है कि साक्षी मलिक जिस कोच के लिए अपनी सहमति देंगी, उसे ही उनका कोच माना जाएगा।

ईश्वर दहिया ने ही हाल में कहा था कि उन्होंने साक्षी को बचपन से कुश्ती के दांव पेच सिखाए थे। साक्षी ने ईश्वर से सर छोटू राम स्टेडियम में कुश्ती सीखी थी। रोहतक में कार्यवाहक खेल अधिकारी रहे राजवीर सिंह भी साक्षी का कोच होने का दावा कर रहे हैं। मनदीप भी साक्षी के कोच रहे हैं और जब साक्षी ने ओलंपिक में पदक जीता था तो उस समय कुलदीप मलिक भारतीय टीम के साथ कोच के रूप में थे।

साक्षी ने हालांकि इससे पहले कोच के बारे में पूछे जाने पर बार बार यही कहा था कि वह यहां गाड़ी लांच करने आयीं हैं और कोच के बारे में न पूछा जाए। लेकिन जब उन्हें याद दिलाया गया कि वह कोच की बदौलत ही इस मुकाम तक पहुंची हैं तो उन्होंने अपने कोच को लेकर ईश्वर और मनदीप के नाम लिये।

अपने नये स्टारडम से बेहद खुश दिखाई दे रही साक्षी ने अपने ओलंपिक सफर के लिये कहा’ मैं 12 साल से कुश्ती कर रही हूं और मेरा सपना था कि ओलंपिक में मैं अपने देश के लिये पदक जीतूं। मैं अकेली रियो गयी थी और अब पूरा देश मेरे साथ है। ओलंपिक पदक के बाद मुझमें एक अलग सा आत्मविश्वास आया है और मेरी तो दुनिया ही बदल गयी है।’ साक्षी ने कहा’ मैं कई इवेंट में जाती हूं, मुझे अवार्ड मिले हैं और मैं कई लीजेंड से मिली हूं। सचिन तेंदुलकर जैसे बड़े खिलाड़ी ने मुझसे कहा था कि कभी अपना अभ्यास मत छोड़ना और लगातार उसे करते रहना। मैरीकॉम ने भी मुझसे कहा कि हमेशा अपने पैर जमीन पर रखो।’ वर्ष 2020 के अगले ओलंपिक के लिये अपने लक्ष्य के बारे में पूछे जाने पर साक्षी ने कहा’ अगले ओलंपिक में अभी चार वर्ष का समय है। मैंने बड़ा सपना पूरा कर लिया है। मुझे अभी छोटे छोटे सपने भी पूरे करने हैं। मुझे खुद पर भरोसा पैदा हुआ है कि मैं कुछ कर सकती हूं और मेरा युवाओं को यही संदेश है कि खुद पर भरोसा रख मंजिल हासिल की जा सकती है।’ साक्षी को इस कार की पहली चाबी भेंट की गयी और वह इस कार की पहली ग्राहक बन गयीं। साक्षी ने इस बारे में कहा कि वह पहली पहलवान हैं जो किसी कार की ब्रांड एम्बेसेडर बनी हैं। वह जबरदस्त गति से कार चलाती हैं लेकिन उनका मानना है कि गाड़ी चलाने में गति पर पूरा नियंत्रण होना चाहिये।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

भारतीय महिला टीम ने 3-0 से टी-20 सीरीज भी जीती

चौथे मैच में श्रीलंका को 7 विकेट से हराया अनुजा ने जेमिमा के साथ 96 रन की अटूट साझेदारी की कोलंबोः स्टार खिलाड़ी [Read more...]

शमी के खिलाफ जारी हो सकता है गैर-जमानती वारंट !

कोर्ट में पेश नहीं होने से शमी की मुश्किलें बढ़ सकती है नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने इंग्लैंड दौरे पर [Read more...]

मुख्य समाचार

5 प्रदेशों व चंडागढ़ में ईंधनों के एक समान दर रखने पर सहमति

चंडीगढ़ः वाहन ईंधनों के दर पिछले कई दिनों से रिकॉर्ड उच्च स्तर पर हैं। इसे देखते ह‌ुए केंद्र सरकार ने राज्यों से टैक्स घटाने की अपील की। इस पर ध्यान देते हुए दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तरप्रदेश और चंडीगढ़ [Read more...]

खनिज ईंधन पर निर्भरता घटाना चाहती है सरकारः गोयल

नयी दिल्लीः जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम करना ऊर्जा क्षेत्र में सरकार की नीति और कार्यक्रमों का प्रमुख लक्ष्य है। कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार विश्व ऊर्जा नीति शिखर सम्मेलन [Read more...]

ऊपर