लोढ़ा समिति की सिफारिशें सब खेलों पर होंगी लागू !

नयी दिल्लीः उच्चतम न्यायालय कई खिलाड़ियों द्वारा दायर उस याचिका पर सुनवाई करेगा जिसमें बीसीसीआई के संबंध में लोढ़ा समिति की कई सिफारिशों को अन्य खेल संस्थाओं पर भी लागू करने की अपील की गयी है।
प्रधान न्यायधीश जे एस खेहर ने केंद्र, भारतीय खेल प्राधिकरण और भारतीय ओलंपिक संघ को नोटिस जारी किये और इस याचिका को भारतीय क्रिकेट बोर्ड में आमूलचूल बदलावों से जुड़े वर्तमान याचिका के साथ जोड़ा। याचिका में बीसीसीआई में ढांचागत सुधारों के संबंध में लोढ़ा पैनल की कुछ सिफारिशों को 2011 की भारतीय राष्ट्रीय खेल विकास संहिता में शामिल करने के लिये केंद्र को निर्देश देने की भी अपील की है।
यह याचिका विभिन्न खेलों से जुड़े 28 खिलाड़ियों ने दायर की है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय खेल महासंघों और उनकी संबंधित राज्य इकाइयों के कामकाज में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिये सरकार को लोढ़ा पैनल की कुछ सिफारिशों को राष्ट्रीय खेल संहिता में शामिल करने के निर्देश दिये जाने चाहिए। लोढ़ा समिति ने अपनी रिपोर्ट में आमूलचूल बदलावों की सिफारिश की। इसके अनुसार मंत्री पदाधिकारी नहीं बन सकते। पदाधिकारियों के लिये अधिकतम आयु सीमा 70 वर्ष तय कर दी गयी है और इसके साथ ही उनके लिये अधिकतम नौ साल का कार्यकाल तय किया गया है। जिन खिलाड़ियों ने यह याचिका दायर की है उनमें अशोक कुमार, बिशन सिंह बेदी, कीर्ति आजाद अश्विनी नाचप्पा और प्रवीण ठिप्से भी शामिल हैं।

लोढा समिति के सुझाव 50 साल पहले लागू होने चाहिये थेः बेदी

जयपुरः पूर्व भारतीय स्पिनर और क्रिकेट विशेषज्ञ बिशन सिंह बेदी ने कहा कि वास्तव में क्रिकेट संस्‍थानों में लोढ़ा समिति जैसे सुझाव आज से 50 साल पहले ही लागू कर दिए जाने चाहिए थे। गौरतलब है कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के संचालन के सदस्यों में बेदी का नाम भी संभावित है। जयपुर में आयोजित साहित्य उत्सव में बोलते हुए इस पूर्व धाकड़ फिरकी गेंदबाज ने कहा कि इस तरह के सुधार असल में आधे दशक पहले ही क्रिकेट खेल संघों में करने चाहिए थे, पर देर आए-दुरुस्त आए। उन्होंने कहा कि बीसीसीआई को सुनिश्चित करना होगा कि उच्चतम न्यायालय के निर्देशों का पालन हो। बेदी ने कहा कि न्यायालय ने लोढ़ा समिति के जरिए एक अच्छी पहल करके नई शुरुआत की है जिसका कुछ लालची और मतलबी क्रिकेट अधिकारी विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक दल भले ही उनमें आपसी मतभेद हो, पर क्रिकेट के मामले में बोलने पर वे सभी एक हो जाते हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

भारत जीत से 6 विकेट दूर, ऑस्ट्रेलिया को चाहिए 219 रन

भारत की दूसरी पारी 307 पर सिमटी, ऑस्ट्रेलिया को शॉन मार्श से आस एडिलेड : एडिलेड टेस्ट के चौथे दिन भारत ने ऑस्ट्रेलिया पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। ऑस्ट्रेलियाई टीम [Read more...]

अजय रोहेरा ने पदार्पण मैच में 267 रन बनाये, 123 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा

देवास/इंदौर : मध्य प्रदेश के अजय रोहेरा ने शनिवार को इतिहास कायम कर डाला। रोहेरा ने अपने डेब्यू मैच में हैदराबाद के खिलाफ नाबाद 267 रन ठोक डाले। ये 84 साल के रणजी इतिहास में डेब्यू मैच खेल रहे किसी [Read more...]

मुख्य समाचार

मुकेश अंबानी की बेटी के वैवाहिक कार्यक्रम में पहुंचीं नामी गिरामी हस्तियां

हॉलीवुड सिंगर बियोंसे सहित अन्य ने अपनी प्रस्तुतियां दीं उदयपुर : देश के प्रमुख उद्योगपति मुकेश अंबानी की बेटी ईशा के वैवाहिक कार्यक्रम में शामिल लेने के लिए देश दुनिया की प्रमुख हस्तियों रविवार को उदयपुर पहुंचीं। हॉलीवुड सिंगर बियोंसे सहित [Read more...]

भारत ने सत्तर के दशक में पूर्ण कंप्यूटरीकृत कर प्रणाली का मौका गंवाया

‘द टाटा ग्रुपः फ्रॉम टार्चबियरर्स टु ट्रेलब्लेजर्स’ में दावा नयी दिल्लीः सत्तर के दशक के आखिर में पूर्ण कंप्यूटरीकृत कर प्रशासन प्रणाली [Read more...]

ऊपर