राष्ट्रमंडल खेल: मीराबाई चानू ने देश को दिलाया पहला स्वर्ण पदक

गोल्ड कोस्टः देशवासियों की उम्मीदों को लेकर आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में चल रहे राष्ट्रमंडल खेलों के पहले दिन महिलाओं के 48 किग्रा वर्ग में उतरी मीराबाई चानू ने भारत को पहला स्वर्ण पदक दिला दिया है। उन्होंने 48 किग्रा वर्ग में 196 किग्रा. का भार उठाकर रिकॉर्ड प्रदर्शन भी किया। मीराबाई से पहले पी गुरुराजा ने पुरुषों के 56 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीतकर भारत को इन खेलों में पहला पदक दिलाया। मीराबाई से जिस स्वर्णिम शुरुआत की उम्मीद की गई थी, उन्होंने बिल्कुल उसी तरह प्रदर्शन करके देश को जश्न मनाने का मौका दे दिया।
एनाहिम का तोड़ा रिकॉर्ड
भारतीय भारोत्तोलक का प्रदर्शन इतना दइमखम से भरा था कि यहा आए सभी खिलाड़ी और दर्शक आश्चर्यचकित हो गए। उन्होंने स्नैच और क्लीन एंड जर्क में अपनी सभी छह लिफ्ट के साथ नये रिकॉर्ड स्‍थापित किये। उन्होंने कुल 196 किग्रा वजन उठाकर नवंबर 2017 में अमेरिका के एनाहिम में हुयी विश्व भारोत्तोलन चैंपियनशिप में अपने 194 किग्रा वजन उठाने के विश्व रिकॉर्ड को तोड़ डाला। मीराबाई ने स्नैच में तीन प्रयासों में 80, 84 और 86 किग्रा भार उठाया जबकि क्लीन एंड जर्क के अपने तीन प्रयासों में उन्होंने 103, 107 और 110 किग्रा भार उठाया। स्नैच में उनका 86 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 110 किग्रा का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा। विश्व चैंपियनशिप में उन्होंने स्नैच में 85 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 109 किग्रा भार उठाया था। मणिपुर की मीराबाई ने स्नैच में अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ 85 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 109 किग्रा के रिकार्ड को पीछे छोड़ा।

Leave a Comment

अन्य समाचार

मीडिया पर भी गुंडई

कोलकाता : सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसक घटनाएं तो हुई ही, साथ ही चौथे स्तंभ यानी मीडिया को भी नहीं बख्शा गया। राज्य में मीडिया पर भी हमले हुए। जिलों में तो हमले [Read more...]

गिरिजा देवी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: राज्यपाल

कोलकाता : बनारस घराने की अंतिम दीपशिखा के रूप में पद्म विभूषण गिरिजा देवी भले ही आज मौन हो गईं, लेकिन उनका संगीत लोगों के जहन में युगों-युगों तक रहेगा। भले ही वह मौन हो गई हों लेकिन उनकी ठुमरी, [Read more...]

मुख्य समाचार

मीडिया पर भी गुंडई

कोलकाता : सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसक घटनाएं तो हुई ही, साथ ही चौथे स्तंभ यानी मीडिया को भी नहीं बख्शा गया। राज्य में मीडिया पर भी हमले हुए। जिलों में तो हमले [Read more...]

गिरिजा देवी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: राज्यपाल

कोलकाता : बनारस घराने की अंतिम दीपशिखा के रूप में पद्म विभूषण गिरिजा देवी भले ही आज मौन हो गईं, लेकिन उनका संगीत लोगों के जहन में युगों-युगों तक रहेगा। भले ही वह मौन हो गई हों लेकिन उनकी ठुमरी, [Read more...]

उपर