प्रायोजको को बांग्लादेश के क्रिकेटरों पर विश्वास लेकिन मुक्केबाज मनोज पर नहीं

नयी दिल्ली : रियो जाने वाले ओलंपिक दल के सदस्य मनोज कुमार से छह साल पहले पदोन्नति का वादा किया गया था जो उन्हें अभी तक नहीं मिला है और उनके पास कोई प्रायोजक भी नहीं है लेकिन इस मुक्केबाज ने खेल छोड़ने के बारे में विचार नहीं किया। इस मुक्केबाज का कहना है कि उनकी जिद ने उन्हें ऐसा करने से रोके रखा है। रियो ओलंपिक के लिये शिव थापा (56 किग्रा) और विकास कृष्ण (75 किग्रा) समेत तीन भारतीय मुक्केबाजों ने क्वालीफाई किया है जिसमें मनोज को छुपारूस्तम कहा जा सकता है। वेल्टरवेट वर्ग में भाग लेने वाले मनोज (64 किग्रा) ने कहा कि मेरी जड़े मराठों से जुड़ी हैं और मैं शिवाजी से काफी प्रेरित हूं, जिससे मैं काफी मजबूत हूं और इतना जिद्दी भी हूं। इस अड़ियलपन ने ही मुझे परिस्थितियों से लड़ने में मदद की। वह जिन परिस्थितियों का जिक्र कर रहे हैं, इसमें विभाग से मिलने वाली पदोन्नति का इंतजार शामिल है जो उन्हें 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के बाद किया गया था। वह भारतीय रेल में तीसरे दर्जे के कर्मचारी हैं, उन्हें तब की केंद्रीयमंत्री ममता बनर्जी ने तरक्की देने का वादा किया था। उस वादे के बाद सात मंत्री इस पद पर आ-जा चुके हैं लेकिन मनोज की स्थिति जस की तस है। मनोज ने कहा कि मैंने इसके बारे में सभी को लिखा है। मुकुल राय से लेकर मौजूदा मंत्री सुरेश प्रभु तक। मुझसे प्रत्येक ने कार्रवाई करने का वादा किया है लेकिन जमीनीं स्तर पर कुछ नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि जहां तक प्रायोजकों की बात है तो मैंने मदद के लिये सभी बड़ी कंपनियों को लिखा है लेकिन शायद सभी को लगता है कि मैं इतनी दूर तक नहीं जा सकता। इसलिये उनसे भी कोई जवाब नहीं मिला है। मेरे पास मेरे बारे में बात करने के लिये कोई नहीं है इसलिये यह भी हमेशा मेरे विरूद्ध ही जाता रहा है। यह पूछने पर कि इतनी मुश्किलों के बाद भी उन्होंने मुक्केबाजी को छोड़ने का विचार नहीं किया तो मनोज ने कहा कि एक सेकेंड के लिये भी नहीं। लोगों को गलत साबित करने में काफी मजा आता है, अब मैं अपने बारे में अच्छा महसूस करता हूं। मैंने किसी के समर्थन के बिना यह सब हासिल किया है, सिर्फ मेरे पास मेरे कोच और बड़े भाई राजेश साथ हैं। हरियाणा के एथलीटों को राज्य सरकार से काफी मदद मिलती है तो वह इससे कैसे महरूम रह गये। उन्होंने कहा कि शायद इसलिये क्योंकि मैं लोगों के आगे झुक नहीं सकता। मैं अपने दिल की बात कहता हूं, मैं किसी को खुश रखने की कोशिश नहीं करता। पता नहीं, इस देश में और यहां तक कि बांग्लादेश के क्रिकेटरों को भी प्रायोजक मिल जाते हैं लेकिन मेरे जैसे लोगों को नहीं, पता नहीं क्यों? क्या हम बुरे हैं? यह मेरे बस की बात नहीं है। ’

Leave a Comment

अन्य समाचार

श्रीकांत और समीर हारे, भारतीय चुनौती समाप्त

नई दिल्लीः किदाम्बी श्रीकांत और भाग्य के सहारे क्वार्टरफाइनल में पहुंचे समीर वर्मा की हार के साथ यहां हांगकांग ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में शुक्रवार को भारतीय चुनौती समाप्त हो गयी। श्रीकांत को पुरुष एकल क्वार्टरफाइनल में अपने से निम्न वरीय [Read more...]

एंडरसन को हरा 15वीं बार एटीपी सेमीफाइनल में फेडरर

लंदनः स्विस मास्टर रोजर फेडरर ने एटीपी फाइनल्स में दक्षिण अफ्रीका के केविन एंडरसन को लगातार सेटों में 6-4, 6-3 से पराजित कर विंबलडन की हार का बदला चुकता किया, हालांकि दोनों खिलाड़ियों ने सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर [Read more...]

मुख्य समाचार

श्रीकांत और समीर हारे, भारतीय चुनौती समाप्त

नई दिल्लीः किदाम्बी श्रीकांत और भाग्य के सहारे क्वार्टरफाइनल में पहुंचे समीर वर्मा की हार के साथ यहां हांगकांग ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में शुक्रवार को भारतीय चुनौती समाप्त हो गयी। श्रीकांत को पुरुष एकल क्वार्टरफाइनल में अपने से निम्न वरीय [Read more...]

टी20 विश्व कप अंतिम टूर्नामेंट होगाः डु प्लेसिस

ब्रिस्बेनः दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने कहा कि 2020 में आस्ट्रेलिया में होने वाला टी20 विश्व कप उनका आखिरी टूर्नामेंट होगा। इस 34 वर्षीय खिलाड़ी ने दो बार 2014 और 2016 में विश्व टी20 में अपने देश [Read more...]

ऊपर