टीम के प्रयास से खुश हूं, लेकिन परिणाम से नहीं : मातोस

नई दिल्लीः फीफा अंडर-17 विश्व कप में शुक्रवार को भारतीय टीम को अमेरिका के हाथों 0-3 से हार का सामना करना पड़ा। इस करारी हार के बाद भारतीय टीम के कोच डी मातोस ने कहा ‘मैं टीम के खिलाड़ियों के सामूहिक प्रयास से खुश हूं, लेकिन उसके परिणाम से खुश नहीं हूं। मैंने कहा था यूएस टीम और दूसरे टीमों की तुलना में हमारे ग्रुप के बीच में बड़ा अंतर है। इसके लिए मुझे उनसे सजा मिली है। मगर कुछ और अनुभव के साथ अगले मैच में टीम बेहतर प्रदर्शन कर सकती है।’
उन्होंने कहा कि भारतीय टीम को शायद पहले हाफ में गेंद का अनुभव मिला हो। मगर दूसरे हाफ में मेजबान देश ने बेहतर प्रदर्शन किया।
वहीं अमेरिकी कोच  हैकवर्थ ने भी भारतीय टीम की लगन और मेहनत की तारिफ करते हुए बताया ‘मैं इस प्रदर्शन से काफी खुश हूं। भारत ने वास्तव में अच्छा खेला है। टीम ने काफी मेहनत की।’
 

रक्षापंक्‍ति मजबूत करने की जरूरत

भारतीय खिलाड़ियों ने निश्चित रूप से अच्छा प्रदर्शन किया जिससे खिलाड़ियों का अगले मैच के लिए मनोबल मजबूत होगा। भारत को अब अपने रक्षापंक्‍ति पर ध्यान देना होगा जिसमें चूक के कारण अमेरिकी खिलाड़ियों को गोल करने का मौका मिल गया।

पहला गोल पेनल्टी पर किया

अमेरिका के सबसे अनुभवी खिलाड़ी और कप्तान सार्जेंट को 30वें मिनट में भारतीय बॉक्स में गिराया गया और रेफरी ने सीधे पेनल्टी का इशारा कर दिया। फॉरवर्ड सार्जेंट खुद पेनल्टी लेने आये और उन्होंने भारतीय गोलकीपर धीरज मोईरंगथम को आसानी से छका दिया। सार्जेंट का शॉट गोल के बाएं हिस्से में गया जबकि धीरज ने दायीं तरफ छलांग लगायी।

दूसरा गोल कार्नर किक से

दूसरे हाफ में 51 वें मिनट में अमेरिका के कार्नर पर डिफेन्स की चूक भारत को भारी पड़ गयी। कार्नर पर भारतीय खिलाड़ी गेंद को ठीक से क्लियर नहीं कर सके और कार्लटन ने बाएं पैर से शक्तिशाली वॉली लगते हुए न केवल भारतीय डिफेन्स को चखा दिया बल्कि अमेरिका का दूसरा गोल भी दाग दिया।

भारतीय खिलाड़ियों ने कई मौंके गंवाए

भारतीय टीम पहले हाफ में अमेरिका के गोल पर एक निशाना ही साध पायी। यह मौका 42 वें मिनट में मिला था लेकिन शॉट सीधे अमेरिकी गोलकीपर के हाथों में गया। दूसरा गोल खाने के चार मिनट बाद कोमल थाटल की किक पोस्ट के ऊपर से निकल गयी। भारतीय खिलाड़ी लगातार कोशिश करते रहे और 83 वें मिनट में अनवर अली का बेहतरीन शॉट पोस्ट से टकरा गया। भारत के हाथ से कम से कम एक गोल करने का मौका निकल गया।

निराशा ने करवाई तीसरी गोल

ये मौका चूकने से भारतीय खिलाड़ी इतने निराश हो गए कि अपने डिफेन्स की तरफ जल्दी नहीं लौट सके। इसका फायदा उठाकर कार्लटन ने गेंद संभाली और बढ़ चले भारतीय गोल की तरफ। कार्लटन ने भारतीय बॉक्स में घुसने के बाद गोलकीपर धीरज को छकाया और आसानी से अमेरिका का तीसरा गोल दाग दिया।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

मुकुल राय को बड़ा झटका, नहीं मिली मोहलत

कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी की तरफ से भाजपा नेता मुकुल राय के खिलाफ दायर मामले में अदालत से मुकुल राय को कोई मोहलत नहीं मिली। अलीपुरदुआर के सिविल जज ने मामले की सुनवायी करते हुए आदेश [Read more...]

नियम के विरुद्ध नहीं लिया जाएगा कोई फैसला – वीसी

कोलकाता : सीयू के बंगला विभाग में गत 2 दिनों से चल रहा विवाद अखिरकार खत्म हुआ। बंगला विभाग के कुछ छात्र अनिवार्य अटेंडेंस ना होने के बावजूद आगामी 27 फरवरी को होने वाली प्रथम वर्ष की परीक्षा में बैठने [Read more...]

मुख्य समाचार

मुकुल राय को बड़ा झटका, नहीं मिली मोहलत

कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी की तरफ से भाजपा नेता मुकुल राय के खिलाफ दायर मामले में अदालत से मुकुल राय को कोई मोहलत नहीं मिली। अलीपुरदुआर के सिविल जज ने मामले की सुनवायी करते हुए आदेश [Read more...]

नियम के विरुद्ध नहीं लिया जाएगा कोई फैसला – वीसी

कोलकाता : सीयू के बंगला विभाग में गत 2 दिनों से चल रहा विवाद अखिरकार खत्म हुआ। बंगला विभाग के कुछ छात्र अनिवार्य अटेंडेंस ना होने के बावजूद आगामी 27 फरवरी को होने वाली प्रथम वर्ष की परीक्षा में बैठने [Read more...]

राज्य में चालू होगा देश का पहला हाइड्रो इंफोरमेटिक कोर्स – राजीव बनर्जी

मॉन्टेनीग्रो स्थित अमेरिकी दूतावास पर ग्रेनेड फेंकने के बाद खुद को उड़ाया

ब्रिटिश संसद के बाहर अंग्रेज ने भारतीय सिख की पगड़ी खींची

गोलीबारी की घटनाओं पर लगेगी रोक, शिक्षक होंगे हथियारबंद : ट्रंप

टेरर फंडिंग : पाक को सऊदी अरब, चीन और तुर्की का साथ मिला

पूर्वोत्तर के लिए विजन ‘ट्रांसपोर्टेशन और ट्रांसफॉर्मेशन’ से ही होगा नागालैंड का विकासः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

जीवन में संतुलन बनाये रखने का एकमात्र साधन ध्यान

भारत आए कनाडाई पीएम ने खालिस्तानी आतंकी को रात्रिभोज पर बुलाया, बवाल मचने पर निमंत्रण को रद्द किया

उपर