छेत्री के गोल से भारत ने जीता इंटरकांटिनेंटल कप खिताब, केन्‍या को 2-0 से हराया

मुंबई : कप्तान और स्टार स्ट्राइकर सुनील छेत्री के डबल से भारत ने केन्या को रविवार को 2-0 से हराकर चार देशों का हीरो इंटरकांटिनेंटल कप फुटबॉल खिताब जीत लिया। सुनील छेत्री ने आठवें और 29 वें मिनट में गोल कर भारत की जीत सुनिश्चित कर दी। भारत ने केन्या को लीग चरण में भी 3-0 से हराया था और अब फाइनल में उसे दो गोल से शिकस्त दे दी। भारत ने लीग चरण में केन्या को हराने के अलावा चीनी ताइपे को 5-0 से शिकस्त दी थी लेकिन उसे न्यूजीलैंड से 1-2 से हार झेलनी पड़ी थी। छेत्री ने ताइपे के खिलाफ तीन गोल, केन्या के खिलाफ दो गोल, न्यूजीलैंड के खिलाफ एक गोल और फाइनल में दो गोल किये।
मैस्‍सी से की बराबरी, सिर्फ रोनाल्‍डो से पीछे है छेत्री
छेत्री इसके साथ ही अर्जेंटीना के करिश्माई स्ट्राइकर लियोनल मेस्‍सी के 64 अंतर्राष्ट्रीय गोलों की बराबरी पर पहुंच गये। मौजूदा अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों में अब सिर्फ पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो 81 गोलों के साथ छेत्री और मैसी से आगे हैं। छेत्री ने टूर्नामेंट में कुल आठ गोल दागे और अकेले अपने दम पर भारत को खिताबी जीत दिलाई। मुंबई फुटबॉल एरेना में छेत्री के करिश्मे ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। भारत ने पिछले मुकाबले में न्यूजीलैंड से मिली हार को पीछे छोड़ते हुए फाइनल में बेहतरीन प्रदर्शन किया। भारत को पहला गोल आठवें मिनट में ही मिल गया। छेत्री को बॉक्स के बाहर गिराया गया और भारत को फ्री किक मिल गयी।
पहला गोल दाएं और दूसरा बाएं पैर से की
अनिरुद्ध थापा ने फ्री किक ली जबकि छेत्री ने खिलाड़ियों के बीच में अचानक प्रकट होते हुए गेंद को गोल की दिशा दिखा दी। भारत का पहला गोल होते ही पूरा स्टेडियम खुशी से झूम उठा। छेत्री ने जहां पहला गोल दाएं पैर से किया वहीं उनका दूसरा गोल बाएं पैर से था। अनस एडाथोडिका ने छेत्री को लम्बा पास दिया। छेत्री ने गेंद को अपने सीने पर लेकर अपने सामने गिरा दिया। छेत्री के लिए विशेष रूप से लगाए गए मार्कर माइकल किब्वागे इस समय छेत्री को घेर नहीं पाए और छेत्री का बाएं पैर से लगाया गया शॉट गोलकीपर पैट्रिक मतासी को छकाता हुआ गोल में समा गया। स्टेडियम एक बार फिर शोर से गूंज उठा। छेत्री का यह रिकॉर्ड 64 वां गोल था और भारतीय कप्तान ने इसके साथ ही मैस्‍सी की बराबरी कर ली। भारत ने फिर इस दो गोल की बढ़त को अंत तक बनाये रखा और केन्या को वापसी करने का कोई मौका नहीं दिया। केन्या ने दूसरे हाफ में एक- दो मौके बनाये लेकिन भारतीय रक्षापंक्ति ने मुस्तैदी से अपना किला संभाले रखा। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ के अध्यक्ष प्रफुल पटेल ने विजेता टीम को ट्रॉफी और 50 हजार डॉलर का चेक सौंपा जबकि केन्या को 25 हजार डॉलर मिले। छेत्री को प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट का पुरस्कार मिला और उन्हें 7500 डॉलर दिए गए।

Leave a Comment

अन्य समाचार

मारपीट मामले में स्टोक्स और हेल्स को सजा सुनाएगा इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड

दोनों ने खेल का अपमान कियाः इंग्लैंड बोर्ड लंदनः पिछले साल क्लब के बाहर मारपीट करने के मामले में इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) हरफनमौला खिलाड़ी [Read more...]

बहुत दिनों बाद युवराज करेंगे क्रिकेट की मैदान पर वापसी

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट टीम के विस्फोटक बल्लेबाज युवराज सिंह को विजय हजारे ट्राफी के लिए पंजाब टीम में शामिल किया गया है। वैसे उन्हें इस टीम में कप्तान के तौर पर नहीं चुना गया है बल्कि कप्तान मनदीप सिंह [Read more...]

मुख्य समाचार

भाजपा के सामने किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय

नीमच : भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि देश में अब उनकी पार्टी के सामने कांग्रेस या अन्य किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं है। कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार दोपहर नीमच और जावद में कार्यकर्ताओं [Read more...]

नरेंद्र मोदी और अशरफ गनी के बीच हुई महत्वपूर्ण बैठक

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अशांत अफगानिस्तान में जारी शांति प्रक्रिया की स्थिति सहित अनेक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय एवं द्विपक्षीय मुद्दों पर बुधवार को यहां गहन विचार विमर्श किया। नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर [Read more...]

ऊपर