चीन को हराकर जीता चाइना ओपन

फुझोऊ: ओलंपिक रजत पदक विजेता भारत की पीवी सिंधू ने इतिहास रचते हुए रविवार को 7 लाख डाॅलर इनामी राशि वाली चीन ओपन बैडमिंटन प्रतियोगिता के फाइनल में चीन की सुन यू को उसी के घर में हराकर अपना पहला सुपर सीरीज प्रीमियर खिताब जीता।

विश्व की 11वीं रैंकिंग की सिंधू ने महिला एकल फाइनल में आठवीं वरीय सून यू के खिलाफ एक घंटे नौ मिनट तक चले संघर्षपूर्ण मुकाबले में 21-11, 17-21, 21-11 से जीत अपने नाम की। यह पहली बार है जब सिंधू ने चाइना ओपन खिताब जीता है। इस मैच में जीत हासिल कर सिंधू ने सून यू के खिलाफ अपना करियर रिकार्ड 3-3 की बराबरी पर पहुंचाया।

सिंधू ने मैच में चीनी खिलाड़ी को हक्का-बक्का कर दिया

पिछले कुछ समय में अपने खेल में काफी परिपक्व हो चुकीं भारतीय बैडमिंटन स्टार‌ सिंधू ने पूरी आक्रामकता के साथ फाइनल में प्रदर्शन किया और पांच गेम प्वांइट जीते जबकि सून के खाते में दो गेम प्वांइट ही आए। मुकाबले के पहले सेट में सिंधू का पलड़ा पूरी तरह भारी रहा और उन्होंने बढ़त के साथ शुरुआत करते हुए 12-7 से सून को पीछे छोड़ा। उन्होंने फिर लगातार पांच अंक लेकर 17-8 की बढ़त ली और आखिर में आसानी से 21-11 से सेट जीता।

पहले सेट में हार के सदमे से बाहर निकलते हुए चीनी खिलाड़ी ने अच्छी वापसी की और दोनों के बीच कड़ा संघर्ष देखने को मिला। सिंधू और सून ने 2-2, 6-6, 7-7 पर बराबरी की। सिंधू ने फिर लगातार चार अंक लेकर 11-7 की बढ़त बनाई। हालांकि सून ने लगातार छह अंक लेकर 16-14 से खुद को आगे कर दिया।

भारतीय खिलाड़ी ने फिर 16-16 पर सून को पकड़ा, लेकिन घरेलू खिलाड़ी ने लगातार अंक लेकर 21-17 से सेट जीता और मुकाबले की 1-1 की बराबरी पर आ पहुंची। इस प्रकार मैच एक रोमांचक स्‍थिति पर आ गया। दोनों खिलाड़ियों ने एक-एक सेट अपने नाम किया था। आखिरी सेट के शुरूआती दौर में दोनों खिलाड़ियों के बीच 1-1 अंक के लिए जंग हो रही थी। 6-6 की बराबरी के बाद सिंधू ने आक्रमक खेल दिखाया जिससे उन्होंने स्कोर को 16-7 तक पहुंचाया। इसके बाद सून के चेहरे पर थकावट झलक रहीं थी । इसके बाद सिंधू ने बिना कोई गलती किए मैच में 21-11 से अपने नाम किया।

पूरे प्रतियोगिता में सिंधू ने किया बेहतरीन प्रदर्शन

अपने अदभुत प्रदर्शन से इस साल रियो ओलंपिक फाइनल तक पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला शटलर बनीं हैदराबादी खिलाड़ी ने चाइना ओपन में भी कमाल का खेल दिखाया और क्वार्टरफाइनल में भी उन्होंने चीनी खिलाड़ी ही बिंगजियाओ की कड़ी चुनौती को तोड़ा जबकि सेमीफाइनल में छठी सीड कोरिया की सून जी ह्यूून को शिकस्त दी थी। रियो के बाद सिंधू का प्रदर्शन ढलता नजर आ रहा था। उन्होंने दो प्रतियोगिताओं में भाग लिया था जिसमें वह शुरूआती दौर में ही बाहर हो गई थी। सिंधू पिछले साल डेनमार्क ओपन में पहली बार सुपर सीरीज टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची थी, लेकिन चीन की ली शुएरूई के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा था। पर इस बार चाइना ओपन में भारत का नेतृत्व करते हुए उन्होंने पूरी श्रृंखला में बेहतरीन खेल प्रदर्शन करते हुए अपने हर एक प्रतिद्वंद्वी को मात दी और आखिरकार रविवार को उन्होंने चीनी विरोधी को हराकर दूसरे भारतीय के तौर पर खिताब अपने नाम किया।

चाइना ओपन इससे पहले भारत की तरफ से सिर्फ सायना नेहवाल ने जीता था

सिंधू से पहले केवल पूर्व नंबर वन भारतीय खिलाड़ी सायना नेहवाल ने इस खिताब को अपने नाम किया था। सायना चाइना ओपन के फाइनल में दो मर्तबा पहुंच चुकी है और दो वर्ष पहले उन्होंने खिताब भी जीता था। सातवीं सीड सिंधू यह टूर्नामेंट जीतने वाली दूसरी भारतीय हैं।

इस साल के प्रतियोगिता को लेकर अभी तक कुल 26 बार चाइना ओपन सुपर सिरिज का आयोजन हो चुका है जिसमें 23 बार चीनी खिलाड़ियों ने खिताब को अपने नाम किया है। सिंधू से पहले सायना नेहवाल ने दो साल पहले यह क‌रिशमा कर दिखाया था। इन सब के अलावा एक बार मलेशिया के मी चूंग ने इस 700000 डॉलर इनामी राशी वाली खिताब जीता था।

…अन्य भारतीय खिलाड़ी तो मानो आए और गए

चाइना ओपन में अन्य भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था। चौथी वरीय सायना नेहवाल भी चोट से उबरने के बाद इस प्रतियोगिता में उतरीं थीं लेकिन वह महिला एकल के पहले ही दौर में हारकर बाहर हो गयीं थीं। पुरुषों में एचएस प्रणय दूसरे और अजय जयराम क्वार्टरफाइनल में बाहर हो गए थे, जिससे सिंधू ही टूर्नामेंट में अकेले भारतीय चुनौती को संभाले हुई थीं और उन्होंने खिताब के साथ इसे विजयी रहते हुए संपन्न किया।

जीत से बेहद खुश: सिंधू

पहला सुपर सीरिज प्रीमियर खिताब जीतकर उत्साहित ओलंपिक रजत पदक विजेता पी वी सिंधू ने कहा कि लंबे समय का उनका सपना आखिरकार सच होने के बाद वह इतनी भावविहल हो गई कि कुछ बोल ही नहीं सक रही है।

सिंधू ने कहा कि,’सुपर सीरिज जीतना मेरा बहुत पुराना सपना था। ओलंपिक के बाद सभी मुझसे पूछ रहे थे कि अब क्या। मेरे लिये सुपर सीरिज खिताब जीतना अहम था। ओलंपिक के बाद जिंदगी बहुत बदल गई है। लोगों को लगा कि मुझे वापसी में बहुत समय लगेगा लेकिन मैने काफी मेहनत की थी। यह मेरा पहला सुपर सीरिज खिताब है और मैं इसे हासिल कर बहुत खुश हूं। मेरे पास अभिव्यक्त करने के लिये शब्द नहीं है। मुझे लगा कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दे सकती हूं क्योंकि मैने बहुत अभ्यास किया था। मैं डेढ साल बाद सून के खिलाफ खेल रही थी। वह भी मेरी तरह लंबी और आक्रामक है। मैं दूसरा गेम हार गई लेकिन तीसरे में अच्छी शुरूआत करके बढत बनाये रखी। मुझे सायना नेहवाल द्वारा 2014 में चाइना ओपन जीतने के बाद उसकी अनुकरण करने की खुशी है।’

प्रधानमंत्री मोदी जी ने सिंधू को दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू को करियर में पहली बार चाइना ओपन सुपर सीरीज जीतने पर रविवार को बधाई देने के साथ उनकी बेहतरीन खेल प्रदर्शन की तारिफ भी की।

सिंधू का करियर

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सिंधू ने कोलंबो में आयोजित 2009 सब जूनियर एशियाई बैडमिंटन चैंपियनशिप में कांस्य पदक विजेता रही हैं। उसके बाद उन्होने वर्ष-2010 में ईरान फज्र इंटरनेशनल बैडमिंटन चैलेंज के एकल वर्ग में रजत पदक जीता । 2012 को वे एशिया यूथ अंडर-19 चैम्पियनशिप के फाइनल में उन्होने जापानी खिलाड़ी नोजोमी ओकुहरा को हराया। सिंधु ने रियो में आयोजित किए गए 2016 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया और महिला एकल स्पर्धा के फाइनल में पहुंचने वाली भारत की पहली महिला बनीं। सेमी फाइनल मुकाबले में सिंधु ने जापान की नोज़ोमी ओकुहारा को सीधे सेटों में हराया था।

गूगल की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया कि महिला एकल बैडमिंटन के सेमीफाइनल में विश्व की नंबर छह खिलाड़ी नोज़ोमी ओकुहारा को हराने के बाद सिंधु सबसे अधिक खोजे जाने वाली भारतीय खिलाड़ी हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

मारपीट मामले में स्टोक्स और हेल्स को सजा सुनाएगा इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड

दोनों ने खेल का अपमान कियाः इंग्लैंड बोर्ड लंदनः पिछले साल क्लब के बाहर मारपीट करने के मामले में इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) हरफनमौला खिलाड़ी [Read more...]

बहुत दिनों बाद युवराज करेंगे क्रिकेट की मैदान पर वापसी

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट टीम के विस्फोटक बल्लेबाज युवराज सिंह को विजय हजारे ट्राफी के लिए पंजाब टीम में शामिल किया गया है। वैसे उन्हें इस टीम में कप्तान के तौर पर नहीं चुना गया है बल्कि कप्तान मनदीप सिंह [Read more...]

मुख्य समाचार

भाजपा के सामने किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय

नीमच : भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि देश में अब उनकी पार्टी के सामने कांग्रेस या अन्य किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं है। कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार दोपहर नीमच और जावद में कार्यकर्ताओं [Read more...]

नरेंद्र मोदी और अशरफ गनी के बीच हुई महत्वपूर्ण बैठक

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अशांत अफगानिस्तान में जारी शांति प्रक्रिया की स्थिति सहित अनेक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय एवं द्विपक्षीय मुद्दों पर बुधवार को यहां गहन विचार विमर्श किया। नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर [Read more...]

ऊपर