कोहली को फायदा, धोनी को नुकसान

मेरठः मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) की सिफारिश पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) जल्द ही क्रिकेट में बल्ले और गेंद के बीच संतुलन बनाने के लिए बल्ले की मोटाई की सीमा 40 एमएम करे देगी। इससे एक तरफ भारतीय कप्तान विराट कोहली को फायदा होगा वहीं पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के लिए यह खतरे की घंटी साबित हो सकती है। गौरतलब है कि विराट का बल्ला नए नियमों के अनुसार बिल्कुल सटीक है। धोनी लंबे समय से 45 एमएम की मोटाई वाले बल्ले से खेल रहे हैं। कोहली समेत शिखर धवन, चेतेश्वर पुजारा, केएल राहुल 40 एमएम या उससे कम मोटाई के बल्ले से खेलते हैं। इससे मेरठ की क्रिकेट का सामान बनाने वाली इंडस्ट्री को मुनाफा होगा क्योंकि 45 से 50 एमएम के बल्लों को तराशना बेहद कठिन था। तमाम दिग्गजों के हाथ में जल्द ही बदला हुआ बल्ला नजर आएगा। आईसीसी के नए नियम से इंडस्ट्री की बाछें खिल गई हैं। इस क्षेत्र में मेरठ में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्ले बनते हैं।
प्रशंसकों के लिए बुरी खबर
यह नियम लागू होने के बाद जो बल्लेबाज भारी या मोटे बल्ले से खेलते थे, उनके प्रदर्शन में ऊंच-नीच होने की आशंका है। ऐसे में गगनचुंबी छक्कों की बारिश देखना पसंद करने वाले लोगों को रनों के छींटों से काम चलाना पड़ेगा।
नया नियम एक अक्टूबर से लागू होगा
बल्लों के आकार में बदलाव का यह नियम एक अक्टूबर से लागू किया जाएगा। मोटे किनारे वाले बल्लों से गेंद बड़ी तेजी से सीमाक्षेत्र के बाहर चली जाती थी। एबी डिविलियर्स, डेविड वार्नर, क्रिस गेल और धोनी समेत तमाम बल्लेबाजों ने मोटे बल्लों से खेलते हुए ढेरों रन बनाए हैं। इंग्लैंड की बल्ला निर्माता कंपनी ग्रेनिकल्स ने 45 से 50 एमएम के एज वाला बल्ला बनाकर कारोबार की दिशा बदल दी थी। तमाम बल्लेबाज लंबे शॉट के लिए ऐसे बल्लों पर निर्भर रहने लगे थे।
श्रीलंका दौरे में हो सकते हैं इस्तमाल
ज्यादातर बल्लेबाज 1160 से 1250 ग्राम के बल्ले से खेलते हैं, लेकिन धोनी समेत अन्य ताबड़तोड़ बल्लेबाज 1300 ग्राम के बल्लों से खेलना पसंद करते थे। लेकिन अब सभी बल्लेबाजों को अपनी पसंद के विपरित बने बल्लों से ही खेलना होगा।
मेरठ में बल्लों को हाथ से तराशा जाता है। मेरठ की कंपनियों ने 40 एमएम से कम मोटाई वाला बल्ला बनाना शुरू कर दिया है। श्रीलंका खेलने गई भारतीय टीम के खिलाड़ियों के लिए नए बल्ले भेजे गए हैं।
बल्ले का कैसा होगा नया आकार ?
लंबाई : सवा 34 इंच
चौड़ाई : सवा चार इंच
स्पाइन : 67 मिमी
मोटाई : 40 मिमी

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

चीनः 28 वर्षों में विकास दर में आई काफी कमी, अभी और गिरावट के आसार

बीजिंगः चीन की विकास दर में 1990 के बाद से अब तक सबसे अधिक कमी आई है। चीन की विकास दर 2018 में 6.6% रही, जो कि 28 साल में यह सबसे कम है। इससे पहले 1990 में चीन की [Read more...]

फ्रांस से 3000 एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल खरीदने की तैयारी कर रहा है भारत

नयी दिल्ली : फ्रांसीसी कंपनी से रक्षा सामग्री खरीद पर चल रहे विवाद को दरकिनार करते हुए भारत ने अपनी सुरक्षा प्रणाली को और मजबूत तथा विश्‍वस्‍तरीय बनाने तथा सेना को नये उपकरणों से लैस करने की खातिर फ्रांस से [Read more...]

मुख्य समाचार

प्रवासी भारतीयों की दुनियाभर में बढ़ी नेतृत्व क्षमता : सुषमा

2022 तक ‘नूतन युवा भारत’ बनाने में मदद करेगी युवाओं की बढ़ती संख्या वाराणसी : प्रवासी भारतीयों की दुनियाभर में बढ़ती नेतृत्व क्षमताओं को नये भारत की विकास यात्रा के लिए अहम बताते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को [Read more...]

चीनः 28 वर्षों में विकास दर में आई काफी कमी, अभी और गिरावट के आसार

बीजिंगः चीन की विकास दर में 1990 के बाद से अब तक सबसे अधिक कमी आई है। चीन की विकास दर 2018 में 6.6% रही, जो कि 28 साल में यह सबसे कम है। इससे पहले 1990 में चीन की [Read more...]

ऊपर