एशियाड : 32 सालों से शीर्ष पांच में भी नहीं पहुंचा भारत

नयी दिल्ली : 18वें एशियाई खेल इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में शनिवार से शरु होने वाले हैं। इन खेलों के 36 प्रतियोगितओं में देश के 572 खिलाड़ी अपना दम खम दिखायेंगे। 2014 के इंचियोन एशियाड के मुकाबले इस बार
भारतीय प्रतिभागियों की संख्या अधिक है। इंचियोन में भारत के 541 खिलाड़ियों ने भाग लिया था। एशियाई खेलों के इतिहास पर नजर डालें तो भारत ने अब तक 139 स्‍वर्ण समेत कुल 616 पदक हासिल किये है। इनमें 82 स्‍वर्ण ताे उसने 1986 के सियोल एशियाड तक जीते थे मगर उसके बाद सिर्फ 57 स्वर्ण ही जीत पाया। जबकि इस दौरान खिलाड़ियों को मिलने वाली सुविधाओं में बढ़ोत्‍तरी हुई। 1986 के सियोल एशियाड में भारत शीर्ष पांच में पहुंच गया था। मगर इसके बाद वह पिछड़ता चला गया।
बीजिंग में सबसे घटिया प्रदर्शन
2002 में बुसान (दक्षिण कोरिया) एशियाई खेलो में तो भारत का प्रदर्शन बहुत ही खराब रहा था। इस बार 650 खिलाड़ियों ने भाग लिया जबकि भारत के खाते में 10 स्वर्ण समेत कुल 35 पदक ही हासिल हुए और तालिका में भारत 8वें स्‍थान पर चला गया। हालांकि एशियाड में भारत का सबसे घटिया खराब प्रदर्शन 1990 में रहा था। बीजिंग में हुए 11वें एशियाई खेलों में भारत 11वें स्थान पर फिसल गया और उसे मात्र 1 स्‍वर्ण सहित 23 पदक हासिल हुआ। दोहा में हुए 15वें एशियाई खेलों में भारत ने 24 साल बाद पदकों का अर्धशतक जमाया। दोहा एशियाई खेलों में भारत ने 550 खिलाड़ियों का दल भेजा था।
ग्वांगझू में सबसे बढ़िया
2010 ग्वांगझू एशियाड में भी भारत अपने खिलाड़ियों और पदकों के अनुपात को कम नहीं कर सका। इस बार भारत ने इन खेलों में भारत ने 609 खिलाड़ियों का भारी भरकम दल भेजा। लेकिन उसके पदकों की संख्या 65 तक ही पहुंच पाई। भारत 10 स्‍वर्ण जीत तालिका में छठे स्थान पर पहुंच गया। एशियाड में भारत यह अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था। इससे ज्यादा पदक उसने अब तक तक किसी एशियाई खेलों में नहीं जीते थे। 2014 इंचियोन एशियाई खेलों में भारतीय खिलाड़ियों ने फिर निराश किया। इन खेलों में 541 खिलाड़ी भेजे गए और उन्होंने 11 गोल्ड समेत कुल 57 मेडल जीते। 18वें एशियाई खेलों के लिए दल के रवाना होने से पहले भारतीय ओलिंपिक संघ (आईओसी) के अध्यक्ष नरेंदर बत्रा ने इस बार भी खिलाड़ियों के 65 से 70 पदक जीतने की संभावना जताई है। भारत जकार्ता में अपने पिछले प्रदर्शन को दोहरा पाए, इसकी संभावना कम ही है। भारत ने निशानेबाजी की जिन स्पर्धाओं में 7 पदक जीते थे, वे इस बार नहीं हो रहीं। यही वजह है कि भारत के स्टार निशानेबाज जीतू राय, गगन नारंग, मेहुली घोष, शाहजर रिजवी भारतीय दल का हिस्सा नहीं हैं।

Leave a Comment

अन्य समाचार

सायना, कश्यप और सौरभ राष्ट्रीय चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में

गुवाहाटीः पूर्व नंबर एक खिलाड़ी सायना नेहवाल, पारूपल्ली कश्यप और सौरभ वर्मा 83वीं योनेक्स सनराइस सीनियर राष्ट्रीय बैडमिंटन चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंच गए। गत चैंपियन सायना ने एकतरफा मुकाबले में भारत की पर्वू नंबर एक खिलाड़ी रही मुंबई की [Read more...]

आस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के लिए टीम इंडिया का हुआ एलान

बुमराह और कोहली की होगी वापसी कुलदीप की जगह मयंक मार्केंडेय को मिला मौका नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट चयन समिति ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ दो मैचों की टी-20 और 5 वनडे मैचों की सीरीज के लिए टीम की घोषणा कर दी है। [Read more...]

मुख्य समाचार

बंदूक की नोक पर भाजपा नेता की बेटी का अपहरण

घटना के विरोध में लोगों ने बंद का पालन कर किया सड़क जाम लाभपुर (बीरभूम) : लाभपुर में 1 स्थानीय भाजपा नेता के घर में घुसकर गुरुवार की रात अपराधियों ने बंदूक की नोंक पर उसकी बेटी का अपहरण कर लिया। [Read more...]

पुलवामा की घटना से मर्माहत हूं, जनता पूछ रही है सवाल – ममता

कहा- यह राजनीतिक का मुद्दा नहीं कोलकाता : बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने पुलवामा की घटना पर बेहद ही दु:ख जताते हुए पीड़ित परिवार के साथ होने का आश्वासन दिया तथा कहा कि वे इस घटना से बेहद ही मर्माहत [Read more...]

ऊपर