हजारों किसानों व श्रमिकों ने निकाली रैली

नयी दिल्लीः स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के तहत कृषि उत्पादों के लिए लाभकारी कीमत देने, ऋण माफी और न्यूनतम वेतन प्रति माह 18,000 रुपये से कम नहीं दिये जाने की मांग को लेकर वामपंथी किसान और मजदूर संगठनों द्वारा आयोजित ‘मजदूर किसान संघर्ष रैली’ के तहत हजारों किसानों और श्रमिकों ने बुधवार को रामलीला मैदान से संसद मार्ग तक मार्च निकाला।
पूरे देश से आये लोगों ने अपने हाथों में लाल झंडा और केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ नारेबाजी की। ट्रेड यूनियन और किसान संगठनों के नेताओं ने संसद मार्ग पर रैली को संबोधित किया।

किसानों की रैली के कारण लुटियन में यातायात प्रभावित हुआ।

दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्विटर पर बताया कि संसद मार्ग, जनपथ और केजी मार्ग को यातायात के लिए बंद कर दिया गया था जिसके चलते मोटर सवारों के वैकल्पिक मार्गों से जाने के कारण उस पर दबाव रहा। मोटर सवारों के अशोक रोड और बाबा खड्ग सिंह मार्ग इस्तेमाल करने के कारण यहां यातायात प्रभावित हुआ।

Leave a Comment

अन्य समाचार

फ्रांस से 3000 एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल खरीदने की तैयारी कर रहा है भारत

नयी दिल्ली : फ्रांसीसी कंपनी से रक्षा सामग्री खरीद पर चल रहे विवाद को दरकिनार करते हुए भारत ने अपनी सुरक्षा प्रणाली को और मजबूत तथा विश्‍वस्‍तरीय बनाने तथा सेना को नये उपकरणों से लैस करने की खातिर फ्रांस से [Read more...]

2019 में ब्रिटेन को पीछे छोड़ भारत बन सकता है 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्‍था

नई दिल्लीः इस वर्ष भारत ब्रिटेन को पीछे छोड़कर विश्व की 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्‍था बन सकता है। ग्लोबल कंसल्टेंसी फर्म पीडब्ल्यूसी का ऐसा मानना है। 2017 में भारत ने फ्रांस को पीछे छोड़कर छठा स्थान हासिल किया था। वैश्विक अर्थव्यवस्था [Read more...]

मुख्य समाचार

प्रवासी भारतीयों की दुनियाभर में बढ़ी नेतृत्व क्षमता : सुषमा

2022 तक ‘नूतन युवा भारत’ बनाने में मदद करेगी युवाओं की बढ़ती संख्या वाराणसी : प्रवासी भारतीयों की दुनियाभर में बढ़ती नेतृत्व क्षमताओं को नये भारत की विकास यात्रा के लिए अहम बताते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को [Read more...]

चीनः 28 वर्षों में विकास दर में आई काफी कमी, अभी और गिरावट के आसार

बीजिंगः चीन की विकास दर में 1990 के बाद से अब तक सबसे अधिक कमी आई है। चीन की विकास दर 2018 में 6.6% रही, जो कि 28 साल में यह सबसे कम है। इससे पहले 1990 में चीन की [Read more...]

ऊपर