स्वामी : राहुल भक्ति से नहीं बल्कि राजनीतिक अभिलाषा साधने के लिए गए मानसरोवर

नईदिल्ली : राहुल गांधी के कैलाश मानसरोवर यात्रा पर सुब्रमण्यम स्वामी का तीखा हमला किया है। स्वामी ने राहुल की यात्रा पर व्यग्यं करते हुए कहा कि यह यात्रा कम प्रचार-प्रसार ज्यादा लगती है। हमलोगों में जो असली हिन्दू होते है वो तीर्थ यात्रा में प्रचार नहीं करते। उन्होंने इसका दुरुपयोग बताते हुए कहा कि यह शिव भगवान को नाराज करने के बराबर है। स्वामी ने कहा कि राहुल गांधी कितना कदम चले हैं तो यह भी बता दें कि कितना सांस लिए हैं। स्वामी ने कहा कि इस यात्रा के जरिए कैलाश मनसरोवर का दुरुपयोग हो रहा है और यह हमारे संस्कार के विरुद्ध है। राहुल जो पिक्चर भेज रहे हैं, उसमें किसी तरह का कैलाश का जिक्र नहीं है। राहुल गांधी ने कैलाश की पवित्रता को ठेस पहुंचाया है। राहुल कैलाश मनसरोवर भक्ति से नहीं गए बल्कि राजनीतिक अभिलाषा साधने के लिए गए, जिसका उन्हें नुकसान होगा।

राहुल गांधी हिंदू है हीं नहीं
स्वामी ने कहा कि पशुपतिनाथ में सोनिया गांधी को भी इजाजत नहीं मिली थी क्योंकि वह क्रिश्चन हैं। इसलिए शायद राहुल को भी इजाजत नहीं मिली होगी। स्वामी ने कहा कि राहुल गांधी तो असली हिंदू है ही नहीं। स्वामी ने कहा कि राहुल ने कुछ मेहनत नहीं की है और ना ही कैलाश मानसरोवर को खुलवाने में मदद की। उन्होंने कहा कि हमने जब कैलाश मानसरोवर को खुलवाया था तब कांग्रेसवालों ने अर्चन डाली थी। राहुल गांधी के दुबई जाने के सवाल पर स्वामी ने कहा कि चुनाव आने वाले हैं, इसलिए राहुल गांधी दुबई काला धन प्राप्त करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसबार राहुल गांधी बिना एसपीजी सुरक्षा के दुबई जाएंगे तो एसपीजी को सुरक्षा वापस लेनी चाहिए और सरकार को इसपर निगरानी रखनी चाहिए।

राहुल ने मानसरोवर यात्रा पर किया था शेयर
दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इन दिनों कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर हैं। राहुल की मानसरोवर यात्रा पिछले कई दिनों से लगातार खबरों में बनी हुई है। राहुल ने इस यात्रा का वीडियो शेयर किया था और अब उन्होंने अपनी ट्रिप की कुछ फोटोज भी शेयर की हैं। इसी के साथ कांग्रेस के ट्विटर हैंडल पर दो फोटोज शेयर की गई हैं, जिसमें एक तो राहुल की है लेकिन दूसरी फोटो में उनके फुट स्टेप्स के बारे में जानकारी दी गई है। कांग्रेस के ट्विटर हैंडल पर शेयर की गई फोटो में बताया गया है कि राहुल गांधी ने इस यात्रा में 46 हजार 433 कदम चले हैं। इस हिसाब से राहुल लगभग 34 किलोमीटर पैदल चल चुके हैं। कांग्रेस के पेज से शेयर इस पोस्ट में लिखा गया था कि क्या राहुल इतना चल सकते हैं?

राहुल पशुपतिनाथ मंदिर के दर्शन को छोड़कर ल्हासा पहुंचे
आपको बता दें कि एक सितंबर को राहुल गांधी ने पशुपतिनाथ मंदिर के दर्शन को छोड़कर तिब्बत में ल्हासा पहुंच गए थे। राहुल गांधी के इस यात्रा पर पहले ही बीजेपी इस पर कई सवाल खड़े कर विवाद पैदा कर चुकी है। नेपाल में भारतीय मिशन के अंदर के एक सूत्र ने बताया था कि राहुल गांधी यहां एक व्यक्तिगत दौरे पर थे और पशुपतिनाथ दर्शन की योजना बनाए थे, लेकिन वे सीधे ल्हासा चले गए थे। कैलाश मानसरोवर जाने के लिए राहुल गांधी नेपाल पहुंचे थे। उम्मीद थी कि राहुल काठमांडू में पशुपतिनाथ मंदिर के दर्शन के लिए पहुंचेंगे। उधर, गांधी के दौरे को लेकर नेपाल पुलिस के एक प्रवक्ता सैलेन्द्र थापा छेत्री ने बताया था कि यह उनका व्यक्तिगत दौरा था और वो यहां कैलाश मानसरोवर जाने के लिए यहां रुके थे। हमने उन्हें और भारत से उनके साथ आए लोगों के लिए अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराई थी। हमे उनके कार्यक्रम के बारे में जानकारी नहीं थी और इसे गोपनीय रखा गया था।


एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

मैं भारत से प्यार करता हूं : ट्रंप

संयुक्त राष्ट्र : विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में एक उच्च स्तरीय कार्यक्रम के दौरान एक दूसरे का कुशल क्षेम पूछा। मादक पदार्थों के प्रतिरोध पर इस कार्यक्रम की अध्यक्षता अमेरिकी [Read more...]

देशभर में हो सकती है पेट्रोल-डीजल की भारी किल्लत

पेट्रोलियम उत्पादों और रुपये में स्थिरता के लिए सरकार उठाने जा रही है बड़ा कदम नई दिल्लीः देश में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमत और डॉलर के मुकाबले [Read more...]

मुख्य समाचार

मैं भारत से प्यार करता हूं : ट्रंप

संयुक्त राष्ट्र : विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में एक उच्च स्तरीय कार्यक्रम के दौरान एक दूसरे का कुशल क्षेम पूछा। मादक पदार्थों के प्रतिरोध पर इस कार्यक्रम की अध्यक्षता अमेरिकी [Read more...]

विमान वाहक पोत ‘विराट’ को संरक्षित करने की पेशकश

मुंबईः वाइस एडमिरल गिरीश लूथरा, वेस्टर्न कमांड फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ ने सोमवार को संवाददाताओं से बताया कि महाराष्ट्र, गोवा और आंध्रप्रदेश ने जुलाई में सेवा मुक्त हुए विमान वाहक पोत ‘विराट’ को संरक्षित करने की पेशकश की है। महाराष्ट्र सरकार [Read more...]

ऊपर