सरकार भोजन या नौकरियां देने में असमर्थ तो भीख मांगना अपराध कैसे?

भिखारियों के पुनर्वास के लिए योजना लाने की मांग

नयी दिल्लीः राजधानी में भीख मांगने को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि इस कृत्य को दंडित करने के प्रावधान असंवैधानिक हैं और उन्हें रद्द करना चाहिए।
भीख को अपराध की श्रेणी से हटाने की मांग वाली हर्ष मंडर और कर्णिका साहनी की जनहित याचिकाओं पर सुनवाई कर रहे कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर के एक पीठ ने बुधवार को कहा कि इस फैसले का परिणाम यह होगा कि इस अपराध के कथित आरोपित के खिलाफ बंबई के भीख मांगना रोकथाम कानून के तहत लंबित मुकदमा रद्द किया जा सकेगा। दोनों याचिकाओं में भिखारियों के लिए मूलभूत मानवीय और मौलिक अधिकार मुहैया कराने का अनुरोध किया गया था।
न्यायालय ने कहा कि मामले के सामाजिक और आर्थिक पहलू पर अनुभव आधारित विचार करने के बाद दिल्ली सरकार भीख के लिए मजबूर करने वाले गिरोहों पर काबू के लिए वैकल्पिक कानून लाने को स्वतंत्र है। अदालत ने 16 मई को पूछा था कि जहां सरकार भोजन या नौकरियां प्रदान करने में असमर्थ है वहां भीख मांगना अपराध कैसे हो सकता है?
केंद्र सरकार ने कहा था कि बंबई के भीख मांगने पर रोकथाम कानून के तहत भीख मांगना अपराध की श्रेणी में है।

दूसरी तरफ, दिल्ली में विपक्षी भाजपा ने भिक्षावृत्ति को अपराध से बाहर करने के फैसले को ‘दो धारी तलवार’ बताते हुए आप सरकार से भिखारियों के पुनर्वास के लिए योजना लाने को कहा।

दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि भीख मांगने को अपराध के दायरे से बाहर करना दो धारी तलवार है। अब भिखारियों को अपराधियों की तरह बंद नहीं किया जा सकेगा लेकिन भीख मांगने का संगठित गिरोह भी है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार भिखारियों को कौशल प्रशिक्षण देने और उनके पुनर्वास के लिए योजना लेकर आये।
उल्लेखनीय है कि फिलहाल भिक्षावृत्ति पर कोई केंद्रीय कानून नहीं है। इसके अभाव में अधिकतर राज्यों ने बंबई भिक्षावृत्ति रोकथाम अधिनियम 1959 को अपनाया है जो भीख मांगने को अपराध करार देता है।

Leave a Comment

अन्य समाचार

फ्रांस से 3000 एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल खरीदने की तैयारी कर रहा है भारत

नयी दिल्ली : फ्रांसीसी कंपनी से रक्षा सामग्री खरीद पर चल रहे विवाद को दरकिनार करते हुए भारत ने अपनी सुरक्षा प्रणाली को और मजबूत तथा विश्‍वस्‍तरीय बनाने तथा सेना को नये उपकरणों से लैस करने की खातिर फ्रांस से [Read more...]

2019 में ब्रिटेन को पीछे छोड़ भारत बन सकता है 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्‍था

नई दिल्लीः इस वर्ष भारत ब्रिटेन को पीछे छोड़कर विश्व की 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्‍था बन सकता है। ग्लोबल कंसल्टेंसी फर्म पीडब्ल्यूसी का ऐसा मानना है। 2017 में भारत ने फ्रांस को पीछे छोड़कर छठा स्थान हासिल किया था। वैश्विक अर्थव्यवस्था [Read more...]

मुख्य समाचार

कर्जमाफी को लेकर किसानों में भ्रम फैलाने की कोशिश कर रही है भाजपा : पायलट

जयपुर : यहां पत्रकारों से बातचीत में राजस्थान के उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कर्जमाफी को लेकर किसानों में भ्रम फैलाने की कोशिश कर रही है। सरकार ने सहकारी बैंकों और [Read more...]

प्रवासी भारतीयों की दुनियाभर में बढ़ी नेतृत्व क्षमता : सुषमा

2022 तक ‘नूतन युवा भारत’ बनाने में मदद करेगी युवाओं की बढ़ती संख्या वाराणसी : प्रवासी भारतीयों की दुनियाभर में बढ़ती नेतृत्व क्षमताओं को नये भारत की विकास यात्रा के लिए अहम बताते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को [Read more...]

ऊपर