सरकारी तंत्र की उदासीनता से खेल का हीरो बना खलनायक

बोकारोः सरकारी तंत्र की उदासीनता की वजह से खेलकूद के हीरो रहे युवराज अब फिल्म में खलनायक बन गए है। युवराज असल जिंदगी में जीने के लिए अलग विकल्प तलाश रहे है। वहीं सरकारी स्तर पर राज्य में खेलकूद का बेहतर माहौल तैयार करने और खिलाड़ियों को सुविधा-संसाधन मुहैया कराने का दावा का पोल भी खुल गया है। बोकारा के पूर्व भारोत्तोलक युवराज सिंह सरकारी अनदेखी के कारण मजबूर होकर वेटलि‌फ्टिंग और पावरलिफ्टिंग से नाता तोड़ कर फिल्मी दुनिया में कदम रखा। वह फिलहाल भोजपुरी सिनेमा में खलनायक की भूमिका अदा कर रहे हैं।
जीने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ रही
युवराज ने बताया कि शुरूआत में इसके लिए काफी संघर्ष करना पड़ा। बताते हैं कि 2016 में ही गोरेगांव, मुंबई गया और एक भोजपुरी फिल्म में खलनायक के लिए ऑडिशन दिया था। लेकिन इसमें सफल नहीं रहा। इसके बाद लौट कर बोकारो आ गया। यहां अभिनय का प्रशिक्षण लिया। बाद में भोजपुरी फिल्मों में छोटी-छोटी भूमिका अदा की। 2017 में भोजपुरी फिल्म में ब्रेक मिला। उन्होंने राउडी एस में खलनायक की भूमिका में सबको प्रभावित किया। उन्हें एक और भोजपुरी फिल्म में खलनायक का रोल मिला।
कई प्रतियोगिता में जीत चुके पदक
युवराज के पिता चास निवासी अटल बिहारी सिंह बीएसएलकर्मी हैं। युवराज बचपन से ही खेलकूद से लगाव था। स्कूली स्तर पर खेलकूद प्रतियोगिता में भाग लेने लगे और इसमें मेडल भी जीता। 2008 में प्रशिक्षक राजेंद्र प्रसाद से वेटलिफ्टिंग व पावरलिफ्टिंग का प्रशिक्षण लिया। 2009-10 में इन्होंने जमशेदपुर में आयोजित राज्यस्तरीय प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक हासिल किया। 2011-12 में दिल्ली में आयोजित स्कूल नेशनल वेटलिफ्टिंग व पावरलिफ्टिंग प्रतियोगिता में भी स्वर्ण पदक जीता। 2012-13 में बोकारो में आयोजित इंटर स्टील प्लांट वेटलिफ्टिंग व पावरलिफ्टिंग प्रतियोगिता में रजत पदक मिला।
पौष्टिक आहार के लिए पैसे नहीं होने से खेल से तोड़ा नाता
युवराज ने 2015 तक लगातार राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में मेडल जीता। इस दौरान नियोजन के लिए काफी प्रयास किया। लेकिन निराशा हाथ लगी। कहते हैं कि भारोत्तोलन व शक्तित्तोलन के लिए प्रत्येक दिन चार लीटर दूध पीता था। भोजन में पौष्टिक आहार लेता था। हर माह 15 से 20 हजार रुपये खर्च होते थे। इसलिए नौकरी की तलाश शुरू की, लेकिन नहीं मिली। झारखंड में अब तक खेल नीति लागू नहीं हुई है। नौकरी की तलाश में हर जगह हताशा हाथ लगी तो फिल्मों में भाग्य आजमाने की कोशिश की। 2016 में वेटलिफ्टिंग व पावरलिफ्टिंग से नाता तोड़ लिया।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

श्रीकांत का अभियान मोमोटा से हारकर खत्म

चांगजूः भारतीय शटलर किदाम्बी श्रीकांत का अभियान 10 लाख डालर इनामी राशि के चाइना ओपन बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 1000 टूर्नामेंट के क्वार्टरफाइनल में मौजूदा विश्व चैम्पियन केंटो मोमोटा से हारकर खत्म हो गया। [Read more...]

राजनीति में कोई दिलचस्पी नहींः द्रविड़

नई दिल्लीः अपने जमाने के दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि उनकी राजनीति में दिलचस्पी नहीं है। उनका 2019 में होने वाले आम चुनावों में उतरने का कोई इरादा नहीं है। [Read more...]

मुख्य समाचार

भारत में राफेल पर रार, डेप्युटी एयर मार्शल रघुनाथ ने उड़ाया लड़ाकू विमान

नयी दिल्ली : देश में एक तरफ राफेल विमान के सौदे को लेकर राजनीतिक युद्ध छिड़ा हुआ है वहीं दूसरी तरफ वायुसेना 36 राफेल विमानों को बेडे़ में शामिल करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। भारतीय वायु सेना [Read more...]

श्रीकांत का अभियान मोमोटा से हारकर खत्म

चांगजूः भारतीय शटलर किदाम्बी श्रीकांत का अभियान 10 लाख डालर इनामी राशि के चाइना ओपन बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 1000 टूर्नामेंट के क्वार्टरफाइनल में मौजूदा विश्व चैम्पियन केंटो मोमोटा से हारकर खत्म हो गया। [Read more...]

ऊपर