रफ्तार ही नहीं, जाने और भी कई खासियतें है बुलेट ट्रेन की

मुंबई : मुंबई से अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खास सपनों में एक है। आगामी मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए जमीन के अधिग्रहण में देरी से इसके लांच की तारीख को आगे खिसकाना पड़ सकता है, लेकिन रेलवे बुलेट ट्रेन के विभिन्न कल-पुरजों और यात्रियों की सुविधाओं को अंतिम रूप देने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। लेकिन यात्रियों की सुविधाओं के लिहाज से यह ट्रेन खास होगी। रेल मंत्रालय ट्रेन की सुविधाओं की योजना को सुधार और उन्हें अंतिम रूप देने में लगा हुआ है। बुलेट ट्रेन में बच्चों को दूध पिलाने के लिए अलग रूम होगा तो बीमार लोगों के लिए भी अतिरिक्त सुविधाएं होंगी। इतना ही नहीं, पुरुष और महिला यात्रियों के लिए अलग-अलग शौचालय होंगे। भारतीय ट्रेनों में यात्रियों को ये सुविधाएं पहली बार मिलेंगी।
बच्चों के लिए अलग व्यवस्‍था
रेल मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार पूरी ट्रेन में 55 सीट बिजनेस क्लास की और 695 सीट स्टेंडर्ड क्लास की होंगी। आपको बताते हैं कि इस ट्रेन में यात्रियों को क्या सुविधाएं दी जाएंगी। ई 5 शिंकनसेन श्रेणी की बुलेट ट्रेन में बच्चों के कपड़े बदलने के लिए अलग स्थान होगा। वहां पर बेबी टॉयलेट सीट, डायपर बदलने के लिए बच्चे को लिटाने की टेबल और कम ऊंचाई वाली सिंक भी लगी होगी।
भारत-जापान का संयुक्त प्रोजेक्ट
देश की पहली बुलेट ट्रेन का यह प्रोजेक्ट भारतीय रेलवे और जापान की शिनकानसेन टेक्नोलॉजी का संयुक्त प्रोजेक्ट है। इसके लिए जापान ने भारत को ऐसा कर्ज दिया है जिसपर बहुत मामूली ब्याज चुकाना होता है।
10 कोच में 750 सीट होगी
ट्रेन के रास्ते में पड़ने वाले पुलों और सुरंगों की डिजायनिंग का 80 फीसद काम पूरा हो गया है। मिट्टी की जांच और पूरे रूट की पड़ताल की जा रही है। दोनों राज्यों में जमीन अधिग्रहण का काम भी शुरू हो गया है। लोगों को नई जगह बसाने के लिए नेशनल हाई स्पीड रेल कारपोरेशन ने 10 हजार करोड़ रुपये का बजट तय किया है। व्हील चेयर इस्तेमाल करने वाले यात्री के लिए अतिरिक्त स्थान वाला टॉयलेट होगा। ट्रेन में ये सारी सुविधाएं एक कोच छोड़कर होंगी। ट्रेन में कुल दस कोच होंगे जिनमें कुल 750 सीट होंगी।
250 से तीन हजार रुपये तक होगा बुलेट ट्रेन का किराया
अहमदाबाद और मुंबई के बीच चलने वाली देश की पहली बुलेट ट्रेन रोजाना 70 फेरे लगाएगी। इसके लिए कई रैक का प्रयोग किया जाएगा। ज्यादा फेरों का मकसद बुलेट ट्रेन को घाटे से बचाना है। इसके लिए यात्रियों को 250 रुपये से लेकर 3000 रुपये तक के कई किराया पैकेज पेश किए जाएंगे। बुलेट ट्रेन का निर्माण इस साल दिसंबर से शुरू होकर 2022 के अंत तक समाप्त होने की उम्मीद है।

ऑटोमैटिक रोटेशन सिस्टम वाली होगी सीट
ट्रेन में ऑटोमैटिक रोटेशन सिस्टम वाली सीट होंगी जिन्हें सुविधा अनुसार एडजस्ट किया जा सकेगा। कोच में फ्रीजर, हॉट केस, गर्म पानी, ठंडे पानी, चाय और कॉफी की सुविधा भी होगी। बिजनेस क्लास के यात्रियों को हैंड टॉवेल भी दिया जाएगा। प्रत्येक कोच में एलसीडी स्क्रीन भी लगी होगी, जिससे यात्रा से जुड़ी जानकारियां मिलती रहेंगी। जापान के सहयोग से पूरी हो रही इस परियोजना की लागत एक लाख करोड़ रुपये होगी।

सुरक्षा का पूरा बंदोबस्त
पूरा प्रोजेक्ट आग व भूकंप रोधी होगा। जिस क्षेत्र में भूकंप आने की संभावना है वहां सीस्मोमीटर लगाए जाएंगे। पूरे ट्रैक पर हवा मापने के यंत्र भी होंगे। ट्रेन की रफ्तार हवा की गति पर निर्भर करेगी। अगर हवा की गति 30 मीटर प्रति सेकंड हुई तो ट्रेन को रोक दिया जाएगा। इस सब सुरक्षा इंतजामों के बाद भी अगर आपात स्थिति बनती है तो सहायता पहुंचाने के लिए एक गाड़ी आठ से दस मिनट में पहुंच जाएगी।
बांद्रा से साबरमती तक खत्म
प्रस्तावित कॉरीडोर मुंबई के बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स से शुरू होकर अहमदाबाद के साबरमती रेलवे स्टेशन पर खत्म होगा। दिन के सबसे व्यस्त समय में तीन ट्रेन और बाकी समय में दो ट्रेन चलाए जाने की योजना है। कुछ ट्रेन चुनिंदा स्टेशनों पर रुकेंगी, जबकि कुछ सभी 12 स्टेशनों पर रुकते हुए चलेंगी। हर रोज 70 ट्रिप लगाई जाएंगी। यानी हर दिशा में 35 ट्रिप। अनुमान है कि रोजाना 40 हजार लोग ट्रेन में सफर करेंगे। 2033 के बाद बुलेट ट्रेनों में 16 बोगियां होंगी।

क्या है इसकी खासियत
320 किमी प्रति घंटा 320 सेकंड (5.3 मिनट) में इतनी रफ्तार पकड़ लेगी ट्रेन। 18 किमी 320 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ने तक ट्रेन द्वारा तय की गई दूरी। 508 किमी ट्रेन का कॉरीडोर। 40 हजार रोजानाट्रेन में सफर करने वालों की अनुमानित संख्या। 10 हजार किमी लांच होने से पहले परीक्षण के लिए चलेगी ट्रेन। 10 ट्रेन की कुल बोगियां। एक बिजनेस और नौ सामान्य क्लास। 3 घंटे मुंबई से अहमदाबाद के बीच की बुलेट ट्रेन से लगने वाला समय। 7 घंटे मुंबई से अहमदाबाद की दूरी तय करने में अभी सबसे तेज ट्रेन द्वारा लिया जाने वाला समय।

Leave a Comment

अन्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

संघ के विचारधारा से नहीं चलेगा देश : राहुल

विश्व में आतंक प्रभावित देशों में भारत तीसरे स्‍थान पर, भारत समेत 5 देशों में 59 फीसदी हमले

तीन दिन पहले ऐसा फैसला सुनाया जिसके बारे बात करने में भी संकोच करती थी अन्य सरकारः पीएम मोदी

स्वामी असीमानंद को बरी करने वाले जज भाजपा में शामिल होना चाहते हैं

भारत-पाक बातचीत रद्द होने से बौखलाया पाक, इमरान खान ने यह कहा

खेल रत्न के लिए अब कोर्ट नहीं जाएंगे बजरंग, मेंटर योगेश्वर की सलाह के बाद बदला फैसला

एशिया कप के रिकार्डधारी बने धवन, 34 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ

ट्रंप सरकार एच-4 वीजाधारकों के वर्क परमिट को रद्द करेगी, भारतीयों पर पड़ेगा सर्वाधिक असर

मुख्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

ऊपर