योजनाओं की सफलता मुख्यमंत्री की देन : ज्योति​प्रिय मल्लिक

अब ‘धान गोदाम’ बनेंगे बंगाल में
कोलकाता : छात्र जीवन में कांग्रेस से जुड़े आज के खाद्य मंत्री ने ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस पार्टी की शुरुआत में ही उनके अनुसरण में चले गये थे। jyoti-priya-mallickउन्होंने ‘दीदी’ को आदर्श बनाकर बंगाल में परिवर्तन की क्रांति में उनका हाथ बंटाया। परिवर्तन की सरकार में राज्य की मुख्यमंत्री ने उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी खाद्य मंत्रालय की भी सौंपी जिसका उन्होंने पूरी जिम्मेदारियों के साथ निर्वाह किया। किसी आम जनता की शिकायत मिलने पर भी उन्होंने कई बार राशन दुकानों का औचक दौरा किया। कभी राशन डीलरों की मनमानी पर उन्होंने रोक लगायी तो कभी खाद्य कार्यालय की इकाइयों में पहुंचकर वहां मौजूद समस्याओं का जायजा लिया। राज्य सरकार की खाद्य योजना को यहां ग्राम-ग्राम तक पहुंचाने में उन्होंने सफलता पाकर मुख्यमंत्री की सराहना पायी। सराहना के साथ पुनः उन्हें खाद्य मंत्री के पद के लिए सबसे काबिल मानकर मुख्यमंत्री ने हाबरा के विधायक ज्योतिप्रिय मल्लिक को खाद्य मंत्री बनाया है। दूसरी बार मंत्री बने ज्योतिप्रिय मल्लिक की आगे क्या लक्ष्य है और इसके लिए क्या योजनाएं है, इन विषयों पर सन्मार्ग ने उनसे बातचीत की-
सन्मार्ग : पिछले 5 सालों में आपने क्या किया ?
खाद्य मंत्री : जो जिम्मेदारियां माननीय मुख्यमंत्री ने मुझे दी थीं उसे पूरा किया है। इस क्रम में 8 करोड़ 33 लाख लोगों को राज्य की खाद्य योजना ‘खाद्य साथी’ का लाभ पहुंचाने में सफल रहा हूं। साथ ही राशन कार्ड को डिजिटल किये जाने की शुरुआत हुई। इसके लिए मुख्यमंत्री को अपार धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने इस मंत्रालय को काम के लिए पर्याप्त फंड भी दिया जिससे ‘खाद्य साथी’ सफल हुई। योजना की सफलता असल में खाद्य मंत्री की नहीं मुख्यमंत्री की ही जीत है मां-माटी-मानुष की जीत है।
सन्मार्ग : कई जगहों पर राशन वितरण की समस्या देखी जा रही है, कारण क्या हैं?
खाद्य मंत्री : किसी भी काम की शुरुआत में थोड़ी परेशानी होती है। कार्डों में कहीं नाम में गलती, पते की गलती की त्रूटियां देखी जा रही थीं जिसे संशोधित किया जा रहा है। साथ ही राशन वितरण की परेशानी का कारण गोदामों में जगह की कमी है। कार्ड धारकों की संख्या बढ़ी है मगर उसकी तुलना में गोदाम में अनाज रखने की जगह की व्यवस्था नहीं हो पायी है। मगर अब गोदामों को विस्तृत किया जा रहा है जिससे ये त्रुटियां भी दूर हो जाएंगी।
सन्मार्ग : आगे की क्या योजनाएं हैं ?
खाद्य मंत्री : इंफास्ट्रक्चर को बढ़ाना ही पहली प्राथमिकता है। 34 वर्षों तक केवल 8 हजार मेट्रिक टन अनाज रखने की व्यवस्था थी जो कि गत 5 वर्ष में 5 लाख मैट्रिक टन हो गयी है मगर लक्ष्य है कि हम इसे बढ़ाकर 7 लाख मेट्रिक टन तक कर पाएं। साथ ही पहली बार राज्य सरकार इस क्षेत्र में ‘पैडी गाेडाउन’ की व्यवस्था करने जा रही है। प्रत्येक बीडीओ कार्यालय में ‘धान गोदाम’ की व्यवस्था की जायेगी। जहां कोई भी किसान व व्यवसायी अपनी धान की बोरियों को बिना मूल्य के सुरक्षित रख पायेगा। इसके लिए उसे टोकन दिया जायेगा और उस टोकन का इस्तेमाल कर वह अपने अनुसार धान की बोरियों को रखवा या फिर निकाल पायेगा। हालांकि इस सुविधा का कोई अनुपयोग ना हो इसपर विशेष अधिकारी नजर रखेंगे। देश भर में अनाज रखने की सुविधा न होने से अनाज के नष्ट हो जाने की समस्या को ध्यान में रखकर राज्य सरकार ने बंगाल में सबसे पहले इसकी व्यवस्था की योजना बनायी है।
सन्मार्ग : तृणमूल जिला अध्यक्ष के तौर पर किन बातों पर ध्यान देना है ?
खाद्य मंत्री : जिले में तृणमूल की पकड़ को और मजबूत करना है। इसके लिए बैठक कर रहा हूं और जिन विधानसभा क्षेत्रों में तृणमूल की हार हुई है वहां हमें लोगों के बीच पहुंचकर अपनी कमियों को जानेंगे और उसे दूर कर वहां विकास करेंगे।

Leave a Comment

अन्य समाचार

मुझे अकबर पर संदेह नहीं

नई दिल्ली : यौन उत्पीड़न के आरोपों से घिरे पूर्व विदेश राज्य मंत्री व पत्रकार एम जे अकबर के बचाव में अब उनकी एक सहकर्मी भी उतर आई हैं। अकबर के साथ काम कर चुकीं पत्रकार जोयिता बसु ने मीटू [Read more...]

खुदरा महंगाई एक साल के न्यूनतम स्तर पर

नई दिल्ली : देश में खुदरा महंगाई दर एक साल में सबसे निचले स्तर पर पहुंच गयी है। सितंबर महीने में जहां यह 3.7 प्रतिशत थी, वहीं अक्टूबर में 3.31 प्रतिशत पर आ है। यह खुदरा मुद्रास्फीति का सितंबर 2017 [Read more...]

मुख्य समाचार

पाक ने 12 भारतीय मछुआरों को किया गिरफ्तार

करांची : पाकिस्तानी अधिकारियों ने सिंध प्रांत तट के समीप पाक समुद्र में कथित तौर पर घुस आने के लिए 12 भारतीय मछुआरों को गिरफ्तार कर लिया। सोमवार को पाक सुरक्षा अधिकारियों ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि [Read more...]

मुझे अकबर पर संदेह नहीं

नई दिल्ली : यौन उत्पीड़न के आरोपों से घिरे पूर्व विदेश राज्य मंत्री व पत्रकार एम जे अकबर के बचाव में अब उनकी एक सहकर्मी भी उतर आई हैं। अकबर के साथ काम कर चुकीं पत्रकार जोयिता बसु ने मीटू [Read more...]

ऊपर