मां-बाप की भी हत्या कर चुका है उदयन?

बयान की तस्दीक के लिए भोपाल व बांकुड़ा पुलिस जाएगी रायपुर
10वीं पास भी है कि नहीं  ‘आईआईटीयन’, पुलिस को है संदेह
खुद को बताता था अमरीकी नागरिक

बांकुड़ा/कोलकाता/भोपाल : राजधानी भोपाल में हुए हाईप्रोफाइल आकांक्षा हत्याकांड में एक नया खुलासा हुआ है। भोपाल एसपी (साउथ) सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि आकांक्षा के अलावा उसने अपने माता-पिता की भी हत्या की है। अभियुक्त से उसके माता-पिता के बारे में काफी पूछताछ की गयी थी। शुरुआत में उसने दोनों के बारे में कुछ नहीं बताया। लगातार पूछताछ के बाद वह टूट गया और उसने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में वर्ष 2011 में माता-पिता की हत्या करने की बात कबूली है। उसके बयान के बाद भोपाल पुलिस और बांकुड़ा पुलिस की टीमें अब उसे रायपुर लेकर जाएंगी। वहीं दूसरी ओर आकांक्षा के शव का उसके मामा व भाई की मौजूदगी में भोपाल में अंतिम संस्कार कर दिया गया। भोपाल की कोर्ट ने उदयन को 6 दिन की ट्रांजिट रिमांड में बांकुड़ा ले जाने की अनुमति दे दी है लेकिन अभियुक्त द्वारा किये गये नये खुलासे की पड़ताल हेतु उसे रायगंज ले जाया गया है। इसके बाद उसे बांकुड़ा लाया जाएगा। पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि फेसबुक पर खुद को वह अमेरिकी नागरिक बताता था। फेसबुक पर वह कभी बराक ओबामा के साथ सुबह की मीटिंग तो कभी शाम को ट्रम्प के साथ डिनर करने का अपडेट करता था। पुलिस के मुताबिक उदयन संभवत: साईको है। वह पहले खुद को आईआईटीयन बता रहा था लेकिन उसके 10वीं पास होने पर भी संदेह है। पुलिस को उसके मोबाइल फोन से कुछ युवतियों के भी नंबर मिले हैं।
पहले कहा था उसकी मां रहती है न्यूयार्क में
पूछताछ में पहले तो उसने पुलिस को बरगलाने की कोशिश की कि उसकी मां इंद्राणी दास न्यूयार्क में रहती है। पिता के बारे में उसने बताया कि 6 साल पहले उनकी मौत हो गयी। संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर पुलिस ने सख्ती दिखायी तो वह दोनों के खून की बात कबूल लिया। उसने बताया कि उसकी मां रायपुर में वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के पद से रिटायर्ड हुई थी, जबकि पिता एक सरकारी संस्थान से अधिकारी के पद से रिटायर्ड हुए थे। पिता की रायपुर में फैक्टरी भी थी।  आकांक्षा की लाश छिपाने का आइडिया अंग्रेजी सीरियल से लिया था : उदयन ने बताया कि लाश को चबूतरे में दफनाने का आइडिया उसे इंग्लिश चैनल पर ‘वॉकिंग डेथ’ नाम के सीरियल से आया था। पुलिस से पूछताछ में यह बात भी सामने आई कि उदयन ने आकांक्षा के चबूतरे के ऊपर फांसी का फंदा लटका रखा था। उसने बताया है कि वह खुद भी अपनी जान देना चाहता था लेकिन हिम्मत नहीं जुटा पाया।
सीने पर बैठकर तकिए से मुंह दबाया : 14 जुलाई 2016 की रात आकांक्षा और उदयन के बीच जमकर बहस हुई थी। आकांक्षा सो गयी लेकिन उदयन रातभर जागता रहा। मारने की प्लानिंग करता रहा। 15 जुलाई की सुबह वह आकांक्षा के सीने पर बैठ गया और तकिए से उसका तब तक मुंह दबाया रहा, जब तक कि उसकी सांसें थम नहीं गयीं। इसके बाद भी उसका गुस्सा शांत नहीं हुआ। उसने हाथ से उसका गला घोट दिया। ऐसा सिर्फ इसलिए किया क्योंकि, आकांक्षा अपने एक दोस्त से फोन पर अक्सर बात करती थी। यह बात उसे नागवार गुजरती थी।

 

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ ने फिर बनाया मुरीद

नयी दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर से अपने फैसले से साबित कर दिया कि डीआरएस के मामले में उनसे सटीक कोई नहीं है। अगर वह इशारा कर दें तो मान लीजिए [Read more...]

रेवाड़ी गैंगरेपः 10 दिन बाद सेना के जवान समेत 2 आरोपी गिरफ्तार

नई दिल्लीः रेवाड़ी गैंगरेप मामले में 10 दिन से फरार चल रहे एक सेना का जवान समेत 2 आरोपी पकड़ लिए गए हैं। ये दोनों आरोपी इस दुष्कर्म कांड में शामिल थे। इनमें से गिरफ्तार पंकज आर्मी में तैनात है। [Read more...]

मुख्य समाचार

‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ ने फिर बनाया मुरीद

नयी दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर से अपने फैसले से साबित कर दिया कि डीआरएस के मामले में उनसे सटीक कोई नहीं है। अगर वह इशारा कर दें तो मान लीजिए [Read more...]

केजरीवाल ने शाह को दी बहस की चुनौती

नयी दिल्लीः भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर काम नहीं करने के बयान पर केजरीवाल ने रविवार को कहा कि जितना काम उन्होंने किया है उसे कोई चुनौती नहीं दे सकता। जनता की सेवा का [Read more...]

ऊपर