भारतीय वायु सेना का बड़ा युद्धभ्यासः फाइटर प्लेन की दहाड़ से पाकिस्तान और चीन में खलबली

नई दिल्लीः भारतीय वायु सेना देश की सुरक्षा व्यवस्‍था को और पुख्ता बनाने के लिए लगातार अपनी शक्ति को बढ़ाने पर ध्यान दे रहा है। 3 दिनों से चल रहे गगनशक्ति 2018 शक्ति प्रदर्शन में पाकिस्तान सीमा से लेकर भारत-चीन सीमा के बीच करीब 5 हजार से अधिक फाइटर प्लेन ने उड़ान भरी। इस युद्धभ्यास में 15 हजार से अधिक भारतीय वायुसेना के जवानों व अधिकारियों ने हिस्सा लिया।
तीसरे दिन 1100 विमानों ने हिस्सा लिया
गगनशक्ति 2018 के तहत तीसरे दिन भारतीय वायु सेना के 1100 विमानों ने हिस्सा लिया। इसमें लड़ाकू विमान तेजस वायुसेना में शामिल होने के बाद पहली बार इसे भी देखा गया। इसमें सुखोई-30 एमकेआई, मिग-21, मिग-29, मिग 27, जगुआर व मिराज जैसे सीरीज के कई फाइटर प्लेन भी देखे गए। बड़े परिवहन विमान सी-17 ग्लोब मास्टर, सी-130 जे सुपर हरक्यूलिस और अटैक हेलिकॉप्टर एमआई 35, एमआई 17 वी 5, एमआई 17, एएलएच ध्रुव, एएलएच भी शामिल हैं। वायु सेनाध्यक्ष बीएस धनोवा ने कहा कि पाकिस्तान बेहद करीब से इस ऑपरेशन पर नजर रख रहा था जो “आसमान को हिला रहा है और धरती को चीर रहा है। वायुसेना ने अपना अभ्यास पश्चिमी क्षेत्रोंसे पूर्वी क्षेत्रों में भी किया। धनोवा ने कहा कि इस बीच 22 अप्रैल तक चलने वाले सभी प्रशिक्षणों को इस युद्धभ्यास के चलते रोका जा रहा है। अमूमन यह युद्ध के समय में ऐसा होता है जब सेना की तरफ से सभी गतिविधियों को रोक दिया जाता है।
भारतीय वायुसेना का युद्धाभ्यास ‘गगन शक्ति 2018’ पिछले एक सप्ताह से पश्चिमी क्षेत्र में जारी है। पैराशुट ब्रिगेड की बटालियन के साथ वायुसेना ने आकाश से दुश्मन की धरती पर निशाना साधने का अभ्यास किया। वहीं पश्चिम बंगाल के खड़गपुर स्थित कलाईकुंडा एयरबेस से उड़े सुखाई 30 लड़ाकू विमानों ने भी दुश्मन को नेस्तेनाबूत करने का दम दिखाया। इस दौरान लक्षद्वीप तक की उड़ान के दौरान दो बार आकाश में ही सुखोई से सुखोई में ईंधन भरा गया।
दो हिस्सों में परखा गया दमखम
वायुसेना ने तैयारी और दमखम को दो हिस्सों में परखा है। पहला पश्चिमी सीमा में और दूसरा उत्तरी सीमा पर। पश्चिमी सीमा के लिए पाकिस्तान सरकार को पूर्व सूचना दी गई। इस चरण में भारतीय सेना पाकिस्तान की हरकतों का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए दम दिखाया। दूसरे चरण में तिब्बत की ओर से चीन की सेना के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए अभ्यास किया।

Leave a Comment

अन्य समाचार

मीडिया पर भी गुंडई

कोलकाता : सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसक घटनाएं तो हुई ही, साथ ही चौथे स्तंभ यानी मीडिया को भी नहीं बख्शा गया। राज्य में मीडिया पर भी हमले हुए। जिलों में तो हमले [Read more...]

गिरिजा देवी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: राज्यपाल

कोलकाता : बनारस घराने की अंतिम दीपशिखा के रूप में पद्म विभूषण गिरिजा देवी भले ही आज मौन हो गईं, लेकिन उनका संगीत लोगों के जहन में युगों-युगों तक रहेगा। भले ही वह मौन हो गई हों लेकिन उनकी ठुमरी, [Read more...]

मुख्य समाचार

मीडिया पर भी गुंडई

कोलकाता : सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसक घटनाएं तो हुई ही, साथ ही चौथे स्तंभ यानी मीडिया को भी नहीं बख्शा गया। राज्य में मीडिया पर भी हमले हुए। जिलों में तो हमले [Read more...]

गिरिजा देवी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: राज्यपाल

कोलकाता : बनारस घराने की अंतिम दीपशिखा के रूप में पद्म विभूषण गिरिजा देवी भले ही आज मौन हो गईं, लेकिन उनका संगीत लोगों के जहन में युगों-युगों तक रहेगा। भले ही वह मौन हो गई हों लेकिन उनकी ठुमरी, [Read more...]

उपर