बिहार बालिका गृह का काला अध्यायः मंत्री और अधिकारी समेत पुलिस तक शोषण में है शामिल, होगी सीबीआई जांच

पटनाः जब रक्षक ही भक्षक बन जाये तो क्या होगा, जी हां यह कहावत मुजफ्फजरपुर बालिका गृह पर सटीक बैठती है। यौन पीड़ित लड़कियों ने जिस नेताजी को आते-जाते देखीं है, और वही नेता बालिका गृह में लड़कियों का यौन शोषण करते थे। जिन्हें लड़किया नेताजी-नेताजी के नाम से जानती थी। वह नेता कोई और नही बिहार के समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति है। जी सही सुना है, यह और कोई नहीं यह आरोप खुद मंजू वर्मा ने लगाया है। मंजू ने बताया कि उनके पति चंदेश्वर वर्मा बालिका गृह में आते-जाते थे। लेकिन, उन्हें गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है। मालूम हो कि बालिका गृह यौन उत्पीड़न मामले में पीडि़त लड़कियों ने बताया था कि उनके पास कोई ‘नेताजी’ भी आते-जाते थे।
समाज कल्याण के अधिकारी, नेता समेत पुलिस तक शामिल है शोषण में
मंजू ने आरोप लगाया कि पूरे मामले में समाज कल्याण विभाग के पटना स्तर के कई वरीय अधिकारी व कई सफेदपोश शामिल हैं। पुलिस संस्‍था ‘सेवा संकल्प’ के अध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष व क्लर्क को बचाने की कोशिश कर रही है। राजेश रौशन, जो आरोपित ब्रजेश ठाकुर का कर्ताधर्ता है, उसे बचाने के लिए रवि कुमार रौशन को फंसा रही है। इसके लिए लाखों रुपये खर्च किए गए हैं।
सीबीआई की उठाई मांग
बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के एक बालिका गृह में 29 लड़कियों के यौन उत्पीड़न मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपी रवि कुमार रौशन की पत्नी ने राज्य की एक मंत्री के पति पर उक्त बालिका गृह आने-जाने का आरोप लगाते हुए इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की। यह न केवल संचालकों की मिलीभगत से चलने वाला संगठित अपराध लगता है, बल्कि प्रशासन और संबंधित महकमे की घोर लापरवाही भी कि इतने वक्त से उस आश्रय स्थल में बच्चियों का बलात्कार हो रहा था और सारे मामले दबाए जाते रहे।
चंदेश्वर वर्मा ने बताया अपने बेगुनाह
वहीं मंत्री के पति चंदेश्वर वर्मा ने मीडिया के एक वर्ग द्वारा इस बाबत पूछे जाने पर कहा कि उनकी पत्नी के पहली बार मंत्री बनने के बाद, 2016 में वह उनके साथ घूमने की नीयत से उनके और समाज कल्याण विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ वहां का निरीक्षण करने के दौरान बालिक गृह गए थे और उसके बाद आज तक कभी भी वह अकेले मुजफ्फरपुर नहीं गए।
बालिका गृह में रही 44 लडकियों में 42 की मेडिकल जांच कराए जाने पर उनमें से 29 के साथ यौन शोषण होने की पुष्टि हो गयी जबकि दो अन्य लड़कियों के बीमार होने के कारण उनकी जांच नहीं हो पायी। मामले में बालिका गृह के संचालक ब्रजेश ठाकुर सहित कुल 10 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है जबकि एक अन्य फरार दिलीप कुमार वर्मा की गिरफ्तारी के लिए इश्तेहार और कुर्की जब्ती की कार्रवाई की जा रही है। बिहार विधानमंडल के दोनों सदनों में विपक्ष द्वारा आज फिर इस मामले को उठाए जाने के साथ सदन की कार्यवाही बाधित किए जाने के साथ विपक्षी सदस्य सदन से वाकआउट कर गए थे।

Leave a Comment

अन्य समाचार

राहुल गांधी ने रक्षामंत्री को राफेल मिनिस्टर कहा, इस्‍तीफा मांगा

नयी दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण पर राफेल डील को लेकर एक बार फिर से हमला बोला है। राहुल गांधी ने राफेल विमान सौदे का ठेका सरकारी उपक्रम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को नहीं दिए [Read more...]

बागड़ी मार्केट के ए ब्लाक से मिला डीजल भरा कनस्तर

कोलकाता : शनिवार की देर रात बागड़ी मार्केट में लगी आग को 4 दिन बाद भी पूरी तरह से तो बुझाया नहीं जा सका है। इसबीच बुधवार को मार्केट के भीतर ए ब्लॉक से बोतल में बंद लगभग 20 लीटर [Read more...]

मुख्य समाचार

केरल के विधायक फिर तलब

नयी दिल्लीः राष्ट्रीय महिला आयोग ने जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली नन के खिलाफ कथित तौर पर अभ्रद भाषा का इस्तेमाल करने पर केरल के निर्दलीय विधायक पीसी जॉर्ज को समन जारी कर उन्हें [Read more...]

केरल कांग्रेस के अध्यक्ष बने रामचंद्रन

तिरुअनंतपुरमः कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत द्वारा बुधवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री मुल्लापल्ली रामचंद्रन के केरल राज्य कांग्रेस अध्यक्ष बनाये जाने की घोषणा पर विधानसभा में विपक्ष के नेता रमेश चेन्नितला (कांग्रेस) ने कहा कि इससे पार्टी को आगामी लोकसभा चुनावों [Read more...]

ऊपर