प्रधानमंत्री आज से 5 दिनों के लिए स्वीडन और ब्रिटेन दौरे पर, स्वीडन के राष्ट्र अध्यक्ष करेंगे अगुआई

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार से अपने विदेश दौरे पर रवाना हो गए। इसके तहत सबसे पहले प्रधानमंत्री स्वीडन जाएंगे और उसके बाद ब्रिटेन में पहुंचेंगे, जहां दोनों के बीच महत्वपूर्ण मुद्दों पर बातचीत होगी। खबरों के अनुसार पहली बार स्वीडिश प्रधानमंत्री स्टेफान लोफवेन किसी राष्ट्राध्यक्ष की अगुआई के लिए एयरपोर्ट पहुचेंगे।
30 साल बाद भारतीय प्रधानमंत्री कर रहे स्वीडन का दौरा
स्वीडन में भारतीय राजदूत मोनिका कपिल मोहता ने बताया कि भारत के प्रधानमंत्री 30 साल बाद स्वीडन आ रहे हैं। इसलिए यह ऐतिहासिक यात्रा है। वहीं, पहली बार स्वीडन के प्रधानमंत्री परंपरा तोड़कर नरेंद्र मोदी की अगुआई के लिए एयरपोर्ट जाएंगे। खबरों के अनुसार मोदी स्वीडन में भारत-नोर्डिक समिट में हिस्सा लेंगे। इसमें फिनलैंड, नार्वे, डेनमार्क और आइसलैंड के प्रधानमंत्री भी शामिल होंगे। मोदी ने दौरे से पहले कहा कि भारत और स्वीडन के बीच लंबे वक्त से दोस्ती है। हमारी साझेदारी लोकतांत्रिक मूल्यों और वैश्विक नियमों की बुनियाद पर टिकी है। स्वीडन हमारे विकास का मूल्यवान साझेदार है।
टीवी पर होगा प्रसारित
ब्रिटेन दौरा मोदी के लिए सबसे खास है। लंदन के सेंट्रल हॉल वेस्टमिंस्टर में बुधवार को उनका कार्यक्रम महात्मा गांधी और मार्टिन लूथर किंग जैसे नेताओं के नक्शेकदम पर होगा। इसका पूरी दुनिया में प्रसारण किया जाएगा। सेंट्रल हॉल वेस्टमिंस्टर कार्यक्रम में मोदी दुनियाभर के लोगों का सोशल मीडिया के जरिए पूछे जाने वाले सवालों का जवाब भी देंगे। इस कार्यक्रम के लिए 2 हजार लोगों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के जरिए चुना गया है। खबरों के अनुसार कॉमनवेल्थ समिट में आने वाले 52 देशों के प्रमुखों में से मोदी अकेले प्रधानमंत्री होंगे, जिन्हें वहां लिमोजीन कार से सफर करने की इजाजत होगी। अन्य देशों के नेता समिट के दौरान कोच (बस) से सफर करेंगे। 2009 के बाद से कॉमनवेल्थ समिट में हिस्सा लेने वाले नरेंद्र मोदी पहले भारतीय पीएम होंगे।
थेरेसा से अहम बिंदुओं पर होगी बातचीत
नरेंद्र मोदी और ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे के बीच द्विपक्षीय बातचीत होगी। दोनों प्रधानमंत्री दूसरी बार एक कार्यक्रम में मिलेंगे, इसे मोदी के लिए ही आयोजित किया जा रहा है। राष्ट्रमंडल सरकार की बैठक (चोगम) में पाक के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी और राष्ट्रपति ममनून हुसैन भी शामिल होंगे।
इस तरह होगा शेड्यूल
17 अप्रैल को स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में वहां के प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगे। 18 अप्रैल को वह लंदन में ऐतिहासिक सेंट्रल हॉल में दुनियाभर के लोगों को संबोधित करेंगे। 19 और 20 अप्रैल को वह लंदन में कॉमनवेल्थ समिट में भी शामिल रहेंगे। 20 अप्रैल को भारत लौटते वक्त बर्लिन में रुकेंगे और चांसलर एंजेला मर्केल से मिलेंगे।

Leave a Comment

अन्य समाचार

समुद्र में बिछाई जाएगी 66सौ किलोमीटर लंबी केबल, मिलेगी कई गुना तेज इंटरनेट

न्यूयॉर्कः अमेरिकी कंपनी गूगल और फ्रांस की ऑरेन्ज कम्युनिकेशन संयुक्त रूप से फ्रांस से अमेरिका के बीच समुद्र में 66सौ किलोमीटर लंबी केबल बिछाने के लिए काम कर रही है। हाईस्पीड इंटरनेट केबल के लग जाने के बाद लोगों को [Read more...]

सुरंग के भीतर पहला रेलवे स्टेशन हिमाचल के केलांग में

27 किलोमीटर लंबी सुरंग का हिस्सा होगा यह स्टेशन नई दिल्लीः देश की राजधानी दिल्ली और बंगाल की राजधानी कोलकाता में कई मेट्रो [Read more...]

मुख्य समाचार

जब्त सामान की सुरक्षा को कड़ा करेगा सीमाशुल्क विभाग

लागू होगी इंटेलीजेंट की मैनेजमेंट सिस्टम और ई-मालखाना प्रणाली नयी दिल्लीः अपने अधिकारियों को कार्रवाई के दौरान जब्त की गयी मूल्यवान वस्तुओं [Read more...]

बेलूड़ मठ में कुमारी पूजा में उमड़ा श्रद्धा का सैलाब

स्वामी विवेकानंद ने की थी बेलूड़ मठ में कुमारी पूजन की शुरुआत हावड़ा/कोलकाताः हावड़ा के बेलूड़ मठ में कुमारी पूजा में बुधवार की [Read more...]

ऊपर